अप्रशिक्षित सुरक्षा गार्ड्स के हवाले है अस्पताल!

0 शराबी कर्मचारी दे रहे अस्पताल . . . 2

अप्रशिक्षित सुरक्षा गार्ड्स के हवाले है अस्पताल!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय की सुरक्षा में लगे सुरक्षा कर्मी अप्रशिक्षित हैं। इस तरह के संगीन आरोप प्रियदर्शनी के नाम से सुशोभित इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय की सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डॉ.श्रीमति पुष्पा तेकाम के द्वारा जारी पत्र में लगाये गये हैं।

सिविल सर्जन कार्यालय के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इंदौर की कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस को लिखे पत्र में अपने ही कार्यालय के 23 दिसंबर 2016 के पत्र का हवाला देते हुए आठ बिंदुओं पर जानकारी चाही गयी है। इसमें सिविल सर्जन के द्वारा सिक्यूरिटी सर्विस पर संगीन आरोप लगाये गये हैं।

सूत्रों ने बताया कि इस पत्र में सिविल सर्जन ने इस बात का उल्लेख किया है कि इंदौर मूल की कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस को अस्पताल की सफाई और सुरक्षा का ठेका निविदा में वर्णित शर्तों के तहत दिया गया था। इसमें वर्णित शर्तों का पालन करने के लिये कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस को सिविल सर्जन कार्यालय के द्वारा पत्र लिखकर अवगत कराये जाने के बाद भी कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस द्वारा सेवा शर्तों का पालन नहीं किया जा रहा है।

सूत्रों ने बताया कि अपने पत्र में सिविल सर्जन ने कहा है कि कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस के द्वारा जनवरी माह तक अस्पताल में सफाई कर्मियों और सुरक्षा कर्मियों की सूची उपलब्ध करायी गयी है और न ही उन कर्मचारियों का मेडिकल परीक्षण ही कराया जाकर उनकी मेडिकल रिपोर्ट ही सिविल सर्जन कार्यालय को दी गयी है।

इसके साथ ही सूत्रों ने कहा कि यह बहुत बड़ी विडम्बना ही मानी जायेगी कि नये वित्तीय वर्ष में जिस कंपनी को अस्पताल की सफाई और सुरक्षा का ठेका दिया गया है उसके द्वारा दस माह में भी अपने सफाई और सुरक्षा कर्मियों की सूची और उनका मेडिकल परीक्षण कराकर, सूची अस्पताल प्रबंधन को नहीं सौंपी गयी है और उसके बाद भी कंपनी को लगातार ही भुगतान किया जा रहा है।

बहरहाल, सूत्रों ने आगे बताया कि अपने पत्र में सिविल सर्जन ने कंपनी से कहा है कि कंपनी के द्वारा अप्रशिक्षित सुरक्षा गार्ड्स को अस्पाताल में तैनात किया गया है। इतना ही नहीं अस्पताल प्रबंधन के द्वारा यह भी कहा गया है कि कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस के द्वारा हर माह समय पर देयक भी प्रस्तुत नहीं किये जा रहे हैं।

सूत्रों ने कहा कि अस्पताल अधीक्षक के द्वारा अपने पत्र में एक बहुत ही सटीक बात का उल्लेख भी किया गया है जिसके अनुसार अस्पताल के द्वारा पिछले साल सितंबर माह तक के भुगतान होने की बात कही गयी है। इसमें अधीक्षक के द्वारा इस बात का उल्लेख किया गया है कि इस भुगतान के बाद भी कंपनी के द्वारा संबंधित कर्मचारियों को बैंक द्वारा भुगतान की प्रति, ईपीएफ, जीआईएस, सर्विस टेक्स, पेड चालान प्रति एवं अन्य जानकारी भी सिविल सर्जन कार्यालय को उपलब्ध नहीं करायी गयी है।

सूत्रों ने कहा कि जिला चिकित्सालय की सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक के द्वारा अपने पत्र में इस बात का भी उल्लेख किया गया है कि अगर उनके पत्र में वर्णित जानकारी सिविल सर्जन कार्यालय को उपलब्ध नहीं करायी जाती है तो आगामी माह (अक्टूबर 2016 से) के देयकों में चालीस प्रतिशत की कटौती कर भुगतान किया जायेगा।

सूत्रोें ने कहा कि इस पत्र में जिला चिकित्सालय की सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक के द्वारा इस बात को स्वीकार कर लिया गया है कि जिला चिकित्सालय के सफाई कार्य में लगी कामथेन सिक्यूरिटी सर्विस उन नियम कायदों और सेवा शर्तों का पालन नहीं कर रही है जिनके तहत उसे यह ठेका प्रदाय किया गया था।



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *