एनएचएआई की कच्छप गति

(शरद खरे)

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी सरकार की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चुतर्भुज सड़क परियोजना के अंग उत्तर दक्षिण गलियारे का भी निर्माण कराया जा रहा है। अनेक तरह की कोशिशों के बाद भी सिवनी से होकर इस मार्ग का जाना इस बात का द्योतक है कि ऊपर वाला सिवनी वालों के साथ अन्याय नहीं होने देगा। काम देर से ही सही पर होगा जरूर।

इस सड़क के मोहगाँव से खवासा तक के विशेषकर कुरई घाट के हिस्से के धुर्रे उड़ चुके हैं। कुरई घाट पर जगह-जगह सड़क किनारे की मिट्टी धसक रही है। भारी वाहन किस तरह यहां से निकल रहे होंगे इस बात को समझा जा सकता है। पता नहीं भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को इसकी परवाह क्यों नहीं है।

सड़क एक ही है पर अगर इसके महाराष्ट्र वाले हिस्से को देखा जाये तो वहां जिस गति से काम हो रहा है उसे देखकर लग रहा है कि सिवनी के साथ जानबूझकर अन्याय किया जा रहा है। देश और प्रदेश में भाजपा की सरकार है। नागपुर के सांसद नितिन गड़करी भाजपा के हैं तो सिवनी के दोनों संसद सदस्य बोध सिंह भगत और फग्गन सिंह कुलस्ते भी भाजपा के ही हैं, फिर क्या वजह है कि महाराष्ट्र में फोरलेन का काम द्रुत गति से हो रहा है और मध्य प्रदेश में मोहगाँव से खवासा के हिस्से को मानो बिसार ही दिया गया है।

बताते हैं कि 18 अगस्त 2015 को केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के द्वारा कुरई घाट अर्थात मोहगाँव से खवासा तक के सड़क निर्माण की अनुमति प्रदाय की जा चुकी है। दो साल बीतने के बाद भी अभी कागजी घोड़े दौड़ ही रहे हैं। एनएचएआई की मंथर गति क्यों है? क्या एनएचएआई किसी दबाव में काम कर रही है?

कुल मिलाकर सिवनी में सशक्त नेत्तृत्व का अभाव एक बार फिर महसूस किया जाने लगा है। तत्कालीन जिला कलेक्टर भरत यादव के द्वारा अपने बिदाई समारोहों के दौरान इस बात को भी कहा गया था कि सिवनी में सशक्त नेत्तृत्व की आवश्यकता है। एक जिला कलेक्टर द्वारा इस तरह की बात कही गयी जिसका तात्पर्य यही है कि उन्होंने भी यहां के नेत्तृत्व की गहराई को मापा ही होगा।

अभी भी समय है। जिले के दोनों सांसद बोध सिंह भगत एवं फग्गन सिंह कुलस्ते सहित चारों विधायक कमल मर्सकोले, रजनीश हरवंश सिंह, योगेंद्र सिंह और दिनेश राय अगर दलगत भावना से ऊपर उठकर सिवनी के विकास की बात ठान लें तो सिवनी का कायाकल्प होने में समय नहीं लगेगा, वरना आने वाली पीढ़ी हमें हिकारत भरी नजरों से देखे तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिये . . .!



24 Views.

Related News

(सतीश जॉनी) जबलपुर (साई)। महिला शिक्षकों की तरह अब महिला अध्यापक भी अपनी संतान की देखभाल के लिये 730 दिन.
(राजीव सक्सेना) ग्वालियर (साई)। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की ग्वालियर बेंच ने एक जनहित याचिका पर सुनवायी करते हुए दलित.
बनीं प्रदेश की दूसरी महिला राज्यपाल (राजेश शर्मा) भोपाल (साई)। बेहद गरिमामय समारोह में आनंदीबेन पटेल ने मध्य प्रदेश के.
(नन्द किशोर) भोपाल (साई)। मध्य प्रदेश सरकार ने एक बार फिर दो हजार करोड़ रूपये का कर्ज लिया है। रिजर्व.
(प्रतीक जाधव) भोपाल (साई)। चुनावी साल में सरकार पटवारियों की जिले के बाहर भी तैनाती करेगी। इसके लिए एक जिले.
कक्षा 1 और 2 के बच्चों की अभ्यास पुस्तिका पर होगा प्रयोग (इसरार खान) भोपाल (साई)। प्रदेश के सरकारी प्रायमरी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *