एसआई पंचेश्वर की मौत में फंसा जहर का पेंच!

(सतीश जॉनी)

जबलपुर (साई)। क्या युवा पुलिस अधिकारी अनुराग पंचेश्वर की मौत डेंगू बिगड़ने के कारण हुई थी या फिर किडनी – लीवर में जहर जैसे किसी तत्व के इन्फेक्शन ने उनकी जान ले ली? अनुराग पंचेश्वर सिवनी में डूण्डा सिवनी थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर के पुत्र थे।

पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इस तरह के कई अनसुलझे सवालों और आशंकाओं के चलते पुलिस ने एस.आई. पंचेश्वर का बिसरा प्रिजर्व करके जाँच के लिये भेजा है। सूत्रों के अनुसार पंचेश्वर के माता-पिता और पत्नि व ससुराल पक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप भी आरंभ हो गये हैं, जिसके कारण पुलिस इस मामले की गंभीरता से जाँच कर हर सवाल के जवाब तलाश रही है।

क्या ब्लड रिपोर्ट में मिले हैं प्रमाण : सूत्रों के अनुसार एस.आई. पंचेश्वर की जबलपुर अस्पताल में हुई ब्लड रिपोर्ट में जहर जैसे तत्व होने की बात आरंभ से पायी जा रही थी। अस्पताल प्रबंधन ने स्व.पंचेश्वर के परिजनों को इस बात की जानकारी देते हुए नागपुर और मुंबई रैफर करने की सलाह भी दे दी थी।

सूत्रों ने बताया कि लेकिन परिजनों के एकमत न होने के कारण स्व.पंचेश्वर को जबलपुर अस्पताल में ही भर्ती रखा गया था। यही वजह है कि श्री पंचेश्वर की मौत के बाद पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला ने उनकी मेडिकल रिपोर्ट फाईल अपने पास रख ली थी और बाद में सीएचएमओ ने उक्त रिपोर्ट की जाँच करायी थी।

कैसे फैला इन्फेक्शन : सूत्रों की मानें तो ये एस.आई. पंचेश्वर के शरीर में जहर जैसे तत्व के इन्फेक्शन फैलने के पीछे किसी तरह की दवाओं का सेवन करने का भी संदेह जताया जा रहा है। यह तत्व किस दवा से शरीर में पहुँचा, यह भी बिसरा जाँच के बाद साफ हो सकेगा। जाँच में सामने आ रहा है कि मलेरिया का इलाज पहले से चल रहा था।

क्या है मामला : उल्लेखनीय है कि उखरी चौकी प्रभारी और छात्राओं की सुरक्षा के लिये बनी कोड रेड टीम की शुरूआत करने वाले युवा पुलिस अधिकारी अनुराग पंचेश्वर को डेंगू होने के कारण 13 नवंबर को जबलपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसके बाद 17 नवंबर की सुबह अनुराग पंचेश्वर की अचानक मौत हो गयी थी।

एस.आई. अनुराग पंचेश्वर की मौत के मामले में सभी पहलुओं पर जाँच करायी जा रही है. डॉक्टरों ने बिसरा प्रिजर्व कराया था, जिसकी रिपोर्ट मिलने पर वास्तविक स्थिति स्पष्ट होगी.

जी.पी. पाराशर,

एएसपी शहर पूर्व.



0 Views

Related News

जिले में ग्राम पंचायतों के कार्यक्रमों में बढ़ रही अश्लीलता! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिले में ग्राम पंचायतों के घोषित.
(शरद खरे) जिला मुख्यालय में सड़कों की चौड़ाई क्या होना चाहिये और सड़कों की चौड़ाई वास्तव में क्या है? इस.
मनमाने तरीके से हो रही टेस्टिंग, नहीं हो रहा नियमों का पालन! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। लोक निर्माण विभाग में.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। नगर पालिका में चुनी हुई परिषद के कुछ प्रतिनिधियों के द्वारा मुख्य नगर पालिका अधिकारी के.
खराब स्वास्थ्य के बाद भी भूख हड़ताल न तोड़ने पर अड़े भीम जंघेला (ब्यूरो कार्यालय) केवलारी (साई)। विकास खण्ड मुख्यालय.
(खेल ब्यूरो) सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी के सक्रय एवं जुझारू कार्यकर्ता तथा पूर्व पार्षद रहे संजय खण्डाईत अब भाजपा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *