करोड़ों रूपये सिर्फ डिवाईडर बनाने में फूंकना चाहती है पालिका!

जनता के गाढ़े पसीने की कमाई हवा में उड़ाने की तैयारी में भाजपा शासित नगर पालिका, संगठन बना धृतराष्ट्र!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी शासित नगर पालिका परिषद नागरिकों को साफ पानी, सफाई जैसी बुनियादी सुविधाएं मुहैया करवाने में पूरी तरह असफल है पर उसके द्वारा जनता के गाढ़े पसीने की कमाई से संचित अरबों के राजस्व में से करोड़ों रूपयों के डिवाईडर लगवाये जाने का ताना-बाना बुना जा रहा है।

नगर पलिका के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि मंगलवार को आहूत पालिका के साधारण सम्मेलन में पार्षद उस समय हक्के – बक्के रह गये जब उनके सामने पूर्व में हुई प्रेसीडेंट इन कौंसिल (पीआईसी) में लिये गये 75 प्रस्तावों की प्रति अचानक थमा दी गयी। इन प्रस्तावों पर परिषद की मुहर लगाये जाने के प्रयास किये जा रहे थे।

सूत्रों ने बताया कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा जून में आहूत पीआईसी में लिये गये प्रस्तावों को अचानक ही परिषद के अनुमोदन के लिये रखे जाने पर सभी चौंक गये। पार्षदों का कहना था कि उन्हें प्रस्ताव पढ़ने – समझने के लिये समय चाहिये, वैसे भी पीआईसी स्वयं सक्षम है। अगर पीआईसी के द्वारा प्रस्ताव पारित कर दिये गये हैं तो शेष पार्षदों के हाथ इन बेकार के प्रस्तावों के अनुमोदन में काले क्यों कराये जा रहे हैं।

इसके साथ ही सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को हुए परिषद की बैठक में पूर्व निर्धारित आधे प्रस्तावों पर ही चर्चा की जा सकी। पीआईसी में अनुमोदित प्रस्तावों में प्रस्ताव क्रमाँक 14 एवं 15 में 26 जून 2017 की पुष्टि की प्रत्याशा में अनमोल रिफक्ट्रीज एण्ड केमिकल कटनी से 08 लाख 45 हजार रूपये की 100 मीट्रिक टन एलम की खरीदी का प्रस्ताव रखा गया था।

सूत्रों की मानें तो इसी तरह प्रस्ताव क्रमाँक 16 में 13 जून की पुष्टि में 05 लाख 94 हजार रूपये के 30 मीट्रिक टन ब्लीचिंग पाऊडर की खरीद, प्रस्ताव क्रमाँक 17 में 12 नगर चेक राड के लिये 02 लाख 80 हजार 930 रूपये के चेकनट की खरीदी, प्रस्ताव क्रमाँक 37 एवं 38 में में 02 जून की पुष्टि में 100 मीट्रिक टन एलम के लिये 08 लाख 45 हजार रूपये शामिल था।

इसी तरह सूत्रों ने आगे बताया कि प्रस्ताव क्रमाँक 29 में 13 जून की पुष्टि में 30 मीट्रिक टन ब्लीचिंग पाऊडर के लिये 05 लाख 94 हजार रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 44 में रेस्ट हाऊस चौराहे से स्टेडियम शिव मंदिर तिराहे तक डिवाईडर निर्माण के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 45 में शिव मंदिर तिराहे (वार्ड के नाम का उल्लेख नहीं) से स्टेडियम रोडतक सीसी रोड के निर्माण के लिये 20 लाख रूपये का प्रस्ताव किया गया था।

सूत्रों ने बताया कि प्रस्ताव क्रमाँक 46 में रेस्ट हाऊस चौराहे से बाहुबली चौराहे होते हुए पीडब्लूडी कार्यालय तिराहे तक डिवाईडर के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 47 में रेस्ट हाऊस चौराहे से बहुबली चौराहे तक सड़क के चौड़ीकरण के लिये 20 लाख रूपये का प्रस्ताव पीआईसी के द्वारा रखा गया था।

इसके साथ ही सूत्रों ने बताया कि प्रस्ताव क्रमाँक 48 में बाहुबली चौराहे से पीडब्ल्यूडी कार्यालय तिराहे तक के हिस्से के चौड़ीकरण के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 49 में बाहुबली चौराहे से पुराने आरटीओ कार्यालय तक सौंदर्यीकरण के नाम पर 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 50 में बाहुबली चौराहे से सिंधिया चौक तक सौंदर्यीकरण के नाम पर डिवाईडर निर्माण के लिये 20 लाख रूपये के प्रस्ताव शामिल थे।

सूत्रों ने आगे बताया कि किस्सा यहीं समाप्त नहीं हुआ। प्रस्ताव क्रमाँक 51 में बाहुुबली चौराहे से सिंधिया चौक तक सड़क चौड़ीकरण के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 52 में बाहुबली चौराहे से सिंधिया चौराहे तक सड़क चौड़ीकरण के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 53 में बरघाट नाके से गणेश चौक तक संकरी सड़क पर डिवाईडर के लिये 20 लाख रूपये शामिल थे।

इसी तरह सूत्रों की मानें तो इसके अलावा प्रस्ताव क्रमाँक 54 में सिंधिया चौराहे से दुर्गावती चौराहे (गाँधी भवन) के बीच डिवाईडर के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 55 में सिंधिया चौक से दुर्गावती चौराहे तक सड़क चौड़ीकरण के लिये 20 लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 57 में सौदर्यीकरण के नाम पर बरघाट रोड में मण्डला तिराहे से बरघाट नाके तक डिवाईडर निर्माण के लिये 20 लाख रूपये को परिषद के अनुमोदन के लिये रखा गया था।

सूत्रों ने आगे बताया कि प्रस्ताव क्रमाँक 58 में गणेश चौक से दुर्गावती चौक (गाँधी भवन) तक डिवाईडर निर्माण के लिये बीस लाख रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 59 में बुधवारी बाजार, नेहरू रोड में हिन्दी मेनबोर्ड स्कूल के पास, शुक्रवारी बाजार एवं बाहुबली चौराहे पर महिला – पुरूष मूत्रालय के लिये राशि का स्थान खाली रखा गया था।

इसके साथ ही सूत्रों की मानें तो प्रस्ताव क्रमाँक 68 में शुक्रवारी बाजार से कटंगी चौराहे तक सौंदर्यीकरण के नाम पर बीस लाख रूपये की लागत से डिवाईडर, प्रस्ताव क्रमाँक 70 में भगत सिंह वार्ड में मछली मार्केट के पास चबूतरा निर्माण के लिये 13 लाख 34 हजार रूपये, प्रस्ताव क्रमाँक 73 में बबरिया रोड की नहर भूमि पर शासन के नियम आदेश के अनुसार पालिका हित में काम करने का निर्णय भी लेने की बात पीआईसी के प्रस्तावों में कही गयी थी।

सूत्रों ने कहा कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा जनता के गाढ़े पसीने की कमाई को जिस तरह से दोनों हाथों से लुटाया जा रहा है उसकी जानकारी अगर जनता को मिले तो जनता भी दांतों तले उंगली दबा लेगी। सूत्रों ने इस बात पर आश्चर्य व्यक्त किया कि नगर पालिका परिषद के द्वारा जनता के राजस्व से संचित धन का जिस तरह अपव्यय करने का प्रयास किया जा रहा है उसे देखकर संगठन की क्या मजबूरी है कि वह धृतराष्ट्र की भूमिका में मौन ही बैठा हुआ है!



31 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *