काँग्रेस के प्रस्तावों पर भाजपा ने लगायी मुहर!

भाजपाई पार्षदों की आपत्ति को किया दरकिनार, सीएमओ के खिलाफ हुआ निंदा प्रस्ताव पारित

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। भाजपा शासित नगर पालिका परिषद को न तो संगठन की परवाह है और न ही जनता को मिलने वाली बुनियादी सुविधाओं की। भाजपा के पाँच पार्षदों की अनुपस्थिति में परिषद के द्वारा काँग्रेस के पार्षदों की आपत्तियों पर मुहर लगाते हुए मुख्य नगर पालिका अधिकारी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित कर दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार परिषद के विशेष सम्मेलन में नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमति आरती अशोक शुक्ला, उपाध्यक पुरूषोत्तम साहू के अलावा पार्षदो ंमें नरेंद्र गुड्डू ठाकुर, संतोष नानू पंजवानी, चितरंजन गप्पू तिवारी, अल्केश रजक, श्रीमति सरोज साहू, श्रीमति रामप्यारी परते, सुरेंद्र करोसिया, श्रीमति सबा वाहिद खान, श्रीमति नसीमा नियाज, मनु चंद सोनी, श्रीमति विमला यादव, श्रीमति रफत इब्राहिम कुरैशी, कु.शीरी अफरोज, श्रीमति शबनम खालिद, अभिषेक रिंकू दुबे, श्रीमति चंद्रकांता महोबिया, दिलीप गोस्वामी, संजीव उर्फ मोनू उईके, श्रीमति उर्मिला भारद्वाज, श्रीमति मंजू सतीश चिंटोले एवं श्रीमति वंदना बर्वे के अलावा एल्डरमेन यशवंत सोनी, गोपाल पवमे एवं अरूण उपाध्याय उपस्थित थे।

नगर पालिका के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इस सम्मेलन में मुख्य नगर पालिका अधिकारी नवनीत पाण्डेय एवं प्रभारी सहायक यंत्री आर.पी. शुक्ला के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पर चर्चा हुई। इसमें पार्षदों के द्वारा प्रस्तुत आवेदन जिसमें सीएमओ एवं सहायक यंत्री के द्वारा जन सामान्य के कार्य जैसे भवन निर्माण, नल कनेक्शन तथा सामान्य निर्माण कार्योंं में जानबूझकर अड़ंगा लगाया जा रहा है और लिपिकों को कलेक्टर न्यायालय से मार्गदर्शन माँगने हेतु लिखने के लिये कहा जा रहा है। इस आधार पर 800 से 100 नस्तियां लंबित पड़ी हैं और प्रतिदिन इनकी तादाद बढ़ती ही जा रही है।

सूत्रों ने बताया कि इसके साथ ही साथ पार्षदों ने कहा कि वैध कॉलोनियों में दस हजार वर्ग फीट तक मकान के निर्माण कार्य में नगर एवं ग्राम निवेश के अनापत्ति की आवश्यकता नहीं होती है। यह व्यवसायिक प्रयोजन में ही जरूरी होती है, किन्तु सहायक यंत्री के द्वारा इस तरह की एनओसी की माँग की जाकर लोगों को परेशान किया जा रहा है। इसमें सीएमओ को शिकायत करने पर भी उनके द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है जिससे जनता में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। इसके साथ ही साथ विभिन्न वार्ड में निर्माण कार्य के कार्यादेश जारी होने के बाद भी आपत्तियां लगाकर उन्हें अस्वीकृत किया जा रहा है। इससे पार्षदों में रोष व्याप्त है।

इसके साथ ही सूत्रों ने बताया कि सीएमओ के द्वारा स्पष्ट शब्दों में कह दिया गया है कि वे पिछली किसी भी नस्ती में हस्ताक्षर नहीं करेंगे, जिससे पूर्व के सारे काम रूके हुए हैं। इसके साथ ही साथ पाँच बिंदुओं पर पार्षदों की शिकायत पर चर्चा हुई।

सूत्रों ने बताया कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा पालिका के दो अधिकारियों के खिलाफ निंदा प्रस्ताव की कार्यवाही की प्रोसीडिंग में लिखा गया है कि संतोष नानू पंजवानी के द्वारा कहा गया कि सीएमओ ने परिषद की बैठक में उपस्थित न होकर परिषद का अपमान किया है। इसके साथ ही साथ भाजपा के पार्षद चितरंजन गप्पू तिवारी और मनु चंद सोनी के द्वारा यह कहा गया कि मुख्य नगर पालिका अधिकारी अभी पदस्थ हुए हैं। इनके निंदा प्रस्ताव को रोका जाकर इन बातों को भूलकर उन्हें काम करने का मौका दिया जाये। इन दोनों ही भाजपाई पार्षदों के द्वारा निंदा प्रस्ताव पर आपत्ति दर्ज करायी गयी।

इसी तरह सूत्रों ने बताया कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा पालिका के दो अधिकारियों के खिलाफ निंदा प्रस्ताव की कार्यवाही की प्रोसीडिंग में लिखा गया है कि काँग्रेस के पार्षद संतोष नानू पंजवानी और श्रीमति शबनम खालिद के द्वारा कहा गया कि जबसे मुख्य नगर पालिका अधिकारी निकाय में पदस्थ हुए हैं तबसे आज तक कोई कार्य नहीं हुए हैं। साथ ही सीएमओ के द्वारा बार-बार परिषद की अवमानना की जाकर अपमान किया जा रहा है। प्रोसीडिंग के अनुसार इस मामले मेें चितरंजन गप्पू तिवारी को छोड़कर सभी पार्षदों के द्वारा इस प्रस्ताव पर सहमति देते हुए निंदा प्रस्ताव को सर्व सम्मति से पारित किया जाकर दोनों अधिकारियों के तबादले के लिये जिला कलेक्टर के माध्यम से शासन को प्रस्ताव भेजने का निर्णय लिया गया।

सूत्रों ने बताया कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा पालिका के दो अधिकारियों के खिलाफ निंदा प्रस्ताव की कार्यवाही की प्रोसीडिंग में अंत में यह भी लिखा गया है कि बैठक समाप्ति के पूर्व पार्षद मनुचंद सोनी, अभिषेक दुबे, दिलीप गोस्वामी, नरेंद्र गुड्डू ठाकुर एवं श्रीमति चंद्रकांता महोबिया चर्चा हेतु बैठक के उठकर बाहर चले गये। उनकी अनुपस्थिति में बाकी उपस्थित पार्षदों के द्वारा प्रस्ताव पर अपनी सहमति देेते हुए पारित कर दिया गया।

इस बैठक के उपरांत पालिका में ही तरह – तरह की चर्चाओं का बाजार गर्मा गया। लोगों का कहना था कि जिस तरह की प्रोसीडिंग लिखी गयी है उस लिहाज से तो यही प्रतीत होता है कि नगर पालिका भाजपा नहीं काँग्रेस शासित है। इसका कारण यह भी बताया गया कि इस बैठक में भाजपा के पार्षदों के द्वारा निंदा प्रस्ताव का विरोध किया गया और काँग्रेस के पार्षदों के द्वारा निंदा प्रस्ताव पर तर्क दिये गये। इस लिहाज से यही लग रहा था मानो परिषद पर भाजपा नहीं काँग्रेस काबिज है।

चर्चाओं के अनुसार भाजपा शासित नगर पालिका परिषद में सत्ताधारी भाजपा के पार्षद बुरी तरह उपेक्षित महसूस कर रहे हैं पर विपक्ष में बैठी काँग्रेस के पार्षदों की मौज है। इस मामले में पार्षदों के द्वारा संगठन में भी बात रखने के बाद संगठन भी भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के सामने बौना ही दिख रहा है।



75 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *