किशोर न्याय अधिनियम पर आयोजित हुई कार्यशाला

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। अक्सर अनेक कारण होते हैं जिनके कारण बच्चे दिग्भ्रमित हो जाते हैं और अपराध की ओर अग्रसर होते हैं। ऐसे बच्चों को मूलधारा से जोड़ने के लिये अनेक अधिनियम बनाये गये हैं। इनके माध्यम से हम उन्हें संस्कृति एवं संस्कार के साथ ही साथ समान अधिकार प्रदान कर सकते हैं।

एक अबोध बच्ची की जान लोगों ने बचायी। इस बच्ची को एक ने गोद ले लिया और अब वही बच्ची 50 करोड़ की हकदार है। ये कोई रील नहीं रियल स्टोरी है। यह बात लोगों को बालकों के संरक्षण के प्रति प्रेरित करते हुए जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी ने सेमीनार में बतायी। किशोर न्याय अधिनियम 2015 एवं लैंगिक अपराधों से बालकों के संरक्षण अधिनियम 2012 विषय पर जिले के अशासकीय स्कूल संचालकों एवं स्टॉफ की कार्यशाला आयोजित की गयी। इसमें सभी ने अधिनियम को जाना व अपने सवालों का समाधान पाया।

नगर के कटंगी रोड स्थित निजि विद्यालय परिसर में आयोजित कार्यशाला में उपस्थित वक्ताओं ने कहा कि अनेक बालक ऐसे होते हैं जो दिशा विहीन हो जाते हैं इसके अनेक कारण होते हैं। इस बात को शासन ने गंभीरता से लेते हुए बालकों की देखरेख के लिये अधिनियम 2015 बनाया है। इसके माध्यम से इन बालकों के संरक्षण के लिये प्रयास किये जा रहे हैं। इसी तरह लैंगिक अपराधों के संबंध में बालकों की देखरेख के लिये भी भारतीय संविधान में अनेक अधिकार दिये गये हैं। इसको लेकर जनचेतना जागृत करने की आवश्यकता है।

इस अवसर पर महिला सशक्तिकरण अधिकारी अभिजीत पचौरी ने कहा कि अक्सर अनेक कारण होते हैं जिनके कारण बच्चे दिग्भ्रमित हो जाते हैं और अपराध की ओर अग्रसर होते है। ऐसे बच्चों को मूलधारा से जोड़ने के लिये अनेक अधिनियम बनाये गये हैं। इनके माध्यम से हम उन्हें संस्कृति एवं संस्कार के साथ ही साथ समान अधिकार प्रदान कर सकते हैं। इस तरह हम सब मिलकर किसी का जीवन बचा सकते हैं।

डॉ.आर.के. चतुर्वेदी ने इस अवसर पर कहा कि समाज में अनेक बालक ऐसे होते हैं जो पन्नी अथवा कचरा बीनते हैं और इससे होने वाली आय से नशा कर अपराधिक प्रवृत्ति की ओर अग्रसर होते हैं। ऐसे में हम सब का दायित्व होता है कि ऐसे बालकों को विभाग की सहायता से न केवल रोजगार दिलवायें बल्कि परिवार को भी अच्छा जीवन जीने के लिये प्रेरित कर सकते हैं।

इस कार्यक्रम में बाल संरक्षण समिति की अध्यक्ष आरजू विश्वकर्मा, हेमलता जैन, सत्यनारायण अग्रवाल, अखिलेश यादव, सुनील साहू, निधि चतुर्वेदी, साधना चतुर्वेदी, राजीव निगुडकर, आर.एल. पन्द्रे सब इंस्पेक्टर, राजेश शिवहरे, गोपाल सिंह चौधरी, ऋषभ जैन, दीपक पटेल सहित अन्य उपस्थित रहे।



0 Views

Related News

प्रभारी सीएमएचओ का बस नहीं था चिकित्सकों पर! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। निःशक्त, दिव्यांग विद्यार्थियों के चिकित्कीय मूल्यांकन शिविरों में.
जमीनी स्तर पर महज श्रृद्धांजलि देकर और जयंति मना रही काँग्रेस! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। विधानसभा चुनावों की पदचाप के.
शुक्रवार एवं शनिवार को रह सकती है साल की सबसे सर्द रात! (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। उत्तर भारत की सर्दी.
पालिका के चुने हुए प्रतिनिधियों के पेट में क्यों उठने लगी मरोड़! (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। नगर पालिका परिषद.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। प्रतिष्ठित खेल शिक्षक धन कुमार यादव के द्वितीय पुत्र अनन्त यादव की पार्थिव देह मंगलवार को.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सनानत संस्कृति में शादी सबसे बड़ा संस्कार है। ब्याह कर न केवल दो स्त्री-पुरुष जीवनभर के.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *