किसानों ने काटा मण्डी में जमकर बवाल

मक्के की बोली को लेकर नाराज थे किसान, 600 रूपये से आरंभ हुई थी बोली

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। व्यापारियों की मनमानी का विरोध करते हुए किसानों ने बुधवार को सिमरिया स्थित कृषि उपज मण्डी में जमकर बवाल काटा। किसानों ने कृषि उपज मण्डी के गेट पर ताला लगाने की कोशिश की और उसके बाद नेशनल हाईवे जाम करने पर आमदा किसानों को अनुविभागीय अधिकारी राजस्व हर्ष सिंह ने बमुश्किल समझाया, तब जाकर मामला शांत हुआ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सिमरिया स्थित कृषि उपज मण्डी में बुधवार को बोली के दौरान एक व्यापारी के द्वारा बाली बोल रहे मण्डी कर्मचारी से कहा कि वह 600 रूपये से बोली आरंभ करे। मण्डी कर्मचारी के द्वारा किसान के कहने पर छः सौ रूपये से बोली आरंभ की गयी। बाद में यह बोली नौ सौ रूपये से ज्यादा पहुँच गयी और किसान का मक्का बिक गया।

एक किसान ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इसके उपरांत किसान इस बात को लेकर भड़क गये कि बोली नौ सौ रूपये से आरंभ होने की बजाय महज छः सौ रूपये से कैसे आरंभ हुई। फिर क्या था मण्डी प्रांगण में मौजूद लगभग डेढ़ हजार से ज्यादा लोगों ने हंगामा करना आरंभ कर दिया।

किसानों का आरोप था कि व्यापारियों के दबाव में मण्डी प्रशासन के द्वारा किसानों का हित नहीं साधा जा रहा है। किसानों ने कहा कि उनके अनाज में अनावश्यक रूप से नमी दर्शायी जा रही है। व्यापारियों के द्वारा नमी मापने के लिये अपने यंत्र का उपयोग किया जा रहा है जबकि मण्डी के अधिकृत यंत्र से नमी का आंकलन किया जाना चाहिये।

बताया जाता है कि आक्रोशित किसानों के द्वारा सिमरिया स्थित कृषि उपज मण्डी के द्वार पर ताला जड़ने का प्रयास किया गया। इसी बीच किसी किसान के द्वारा इस अव्यवस्था के विरोध में नेशनल हाईवे जाम करने की बात कही गयी। इसके बाद किसानों ने मण्डी से नेशनल हाईवे की ओर रूख करना आरंभ कर दिया।

इसके साथ ही बताया जाता है कि इसी बीच इस बात की जानकारी किसी के द्वारा जिला प्रशासन को दे दी गयी। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तत्काल ही मौके पर पहुँचे और उनके द्वारा आक्रोशित किसानों को समझाईश देने का असफल प्रयास किया गया। बाद में किसानों ने उनकी बात सुनी और व्यापारियों के सिंडीकेट को तोड़ने की बात भी किसानों के द्वारा कही गयी।

बताया जाता है कि इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड के द्वारा भी व्यापारियों की बैठक ली गयी। इस बैठक में जिला कलेक्टर के द्वारा यह कहा गया कि बोली उस राशि से आरंभ होना चाहिये ताकि किसानों को उनकी फसल का वाजिब दाम मिल सके। व्यापारियों ने जिला कलेक्टर को आश्वस्त किया है कि वे मक्के की बोली नौ सौ रूपये से ही आरंभ करेंगे।

दिन में 600 रूपये से बोली आरंभ होने पर किसानों में आक्रोश था. बाद में किसानों को समझाया गया, वे मान गये. इस मामले में जिला कलेक्टर ने व्यापारियों की बैठक ली है. व्यापारियों ने भरोसा दिलाया है कि वे मक्के की न्यूनतम बोली 900 रूपये रखेंगे.

सुभाष तिवारी, सचिव,

कृषि उपज मण्डी, सिवनी.



0 Views

Related News

(शरद खरे) सिवनी शहर में जहाँ जिसका मन आया उस ठेकेदार या नगर पालिका के कारिंदों ने गति अवरोधक बना.
प्रभारी सीएमएचओ का बस नहीं था चिकित्सकों पर! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। निःशक्त, दिव्यांग विद्यार्थियों के चिकित्कीय मूल्यांकन शिविरों में.
जमीनी स्तर पर महज श्रृद्धांजलि देकर और जयंति मना रही काँग्रेस! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। विधानसभा चुनावों की पदचाप के.
शुक्रवार एवं शनिवार को रह सकती है साल की सबसे सर्द रात! (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। उत्तर भारत की सर्दी.
पालिका के चुने हुए प्रतिनिधियों के पेट में क्यों उठने लगी मरोड़! (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। नगर पालिका परिषद.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। प्रतिष्ठित खेल शिक्षक धन कुमार यादव के द्वितीय पुत्र अनन्त यादव की पार्थिव देह मंगलवार को.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *