क्यों पहचान नहीं पाते हैं एचआईवी के लक्षण?

एड्स ऐसी बीमारी है जिसका नाम सुनकर ही लोग सहम जाते हैं। यह ह्यूमन इम्यूनोडिफिशंसी वाइरस (एचआईवी) की वजह से होता है। एचआईवी भले ही जानलेवा है, मगर इसके लक्षण शुरुआत में समझ में नहीं आ पाते हैं। इंफेक्शन होने के बाद मरीज तुंरत इसके लक्षणों को नहीं समझ पाता है। आमतौर पर शुरुआत में इनफ्लुएंजा जैसे लक्षण सामने आते हैं और इसके बाद लंबे समय तक कोई भी लक्षण महसूस नहीं होता है।

हालांकि, जैसे-जैसे इन्फेक्शन पूरे शरीर में फैलता है, यह इम्यून सिस्टम पर प्रभाव डालना शुरू करता है। इसकी वजह से शरीर में ट्यूमर, टीबी आदि जैसी और भी खतरनाक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। एचआईवी से संक्रमित होने के बाद ऐसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है जो स्वस्थ इम्यून सिस्टम वाले व्यक्ति को नहीं होती हैं।

आइए बताते हैं एचआईवी के लक्षण और उसके कारण के बारे में। एचआईवी एड्स के अलग-अलग स्टेज होते हैं, जिनमें लक्षण भी अलग-अलग होते हैं।

  1. ऐक्यूट इन्फेक्शन

इस फेज में इनफ्लुएंजा जैसे लक्षण होते हैं, जो इन्फेक्शन होने के 2 से 6 हफ्तों में सामने आते हैं। इसके लक्षण:

-बुखार

-ठंड लगना

-मांस-पेशियों में दर्द

-गले में दर्द

-हड्डियों में दर्द

-रात में पसीना

-कमजोरी, थकान और चक्कर आना

-वजन कम होना

  1. असिम्प्टोमटिक एचआईवी

पहले फेज के बाद यह फेज आता है। इसमें लंबे समय तक कोई लक्षण नहीं दिखते हैं। मरीज खुद को बिल्कुल स्वस्थ महसूस करता है। यह फेज कभी-कभी 20 साल तक का हो सकता है। हालांकि इस दौरान इन्फेक्शन का असर इम्यून सिस्टम पर पड़ता रहता है और वह धीरे-धीरे कमजोर होता जाता है।

  1. लेट स्टेज

यह एचआईवी का सबसे गंभीर फेज होता है। इसमें मरीज पर गंभीर बीमारियों का प्रकोप शुरू हो जाता है। इसमें CD4+T सेल्स की संख्या 200 से नीचे पहुंच जाती है। इसके कुछ और लक्षण हैं:

-डायरिया

-आंखों में धुंधली रोशनी

-तेज बुखार

-सूखी खांसी

-मुंह और जीभ में सफेद धब्बे

-वजन का कम होना

-रात को पसीना आना

-सांस लेने में दिक्कत

-थकान

ध्यान देने वाली बात यह है कि जरूरी नहीं है कि अगर एचआईवी इन्फेक्शन हो गया तो एड्स भी हो जाएगा। यह इस बात पर निर्भर करता है कि इलाज कितनी जल्दी शुरू हो गया और कितना प्रभावी है।

(साई फीचर्स)


नोट :ये नुस्‍के आजमाने के पहले जानकार चिकित्‍सक से एक बार मशविरा अवश्‍य कर लें।

0 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *