खतरों के गति अवरोधक!

(शरद खरे)

सिवनी शहर में जहाँ जिसका मन आया उस ठेकेदार या नगर पालिका के कारिंदों ने गति अवरोधक बना दिये हैं। इन गति अवरोधकों के बारे में स्पष्ट दिशा-निर्देश का पालन न होना साफ दिखायी पड़ रहा है। अनेग स्थानों पर पुलियों के ऊपर का हिस्सा इस तरह बना दिया गया है मानो वह भी गति अवरोधक हो। इन गति अवरोधकों से टकराकर वाहनों का निचला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो रहा है। ऐसा नहीं कि इसकी जानकारी जिला प्रशासन के आला अधिकारियों को न हो। बावजूद इसके इस दिशा में कोई भी पहल न किया जाना, आश्चर्यजनक ही माना जायेगा।

पुलिस मुख्यालय द्वारा 14 सितंबर 2013 को आदेश जारी कर गति अवरोधकों के बारे में दिशा-निर्देश जारी किये गये थे। इसमें उच्च न्यायालय द्वारा जनहित याचिका 9045/06 का उल्लेख कर हाई कोर्ट के ऑर्डर्स का हवाला दिया गया था। आदेश में कहा गया था कि संबंधित पुलिस अधीक्षक के क्षेत्र में जितने भी गति अवरोधक बने हैं, उनका परीक्षण करवाया जाये कि क्या वे गति अवरोधक इंडियन रोड्स काँग्रेस द्वारा बनाये गये मानकों के आधार पर बनाये गये हैं? अगर नहीं बने हैं तो उन्हें तत्काल ही संबंधित विभाग जो सड़क के लिये जिम्मेवार है (पीडब्लूडी, नगर पालिका, एनएचएआई इत्यादि) से मिलकर हटवाया जाये एवं अगर आवश्यक है तो उनके स्थान पर इंडियन रोड्स काँग्रेस के मानकों के आधार पर गति अवरोधक बनवाये जायें।

पत्र में स्पष्ट तौर पर उल्लेख किया गया है कि भविष्य में (16 सितंबर 2013 के उपरांत) जो भी गति अवरोधक बनवाये जाते हैं, उन्हें इंडियन रोड्स काँग्रेस के मानकों के आधार पर ही बनवाया जाये। गति अवरोधक जहाँ भी बनाये जायें, उसके दोनों ओर उपर्युक्त चेतावनी बोर्ड भी लगाये जायें (एसपी बंग्ले से जीएडी कॉलोनी वाले मार्ग पर चेतावनी बोर्ड नहीं हैं)। इतना ही नहीं गति अवरोधक पर दृष्यता बढ़ाने के लिये काले-सफेद पेंट (ल्यूमिनस) से पट्टियां बनवायी जायें अथवा केट्स आई भी लगायी जायें।

विडम्बना ही कही जायेगी कि उच्च न्यायालय के निदेर्शों के प्रकाश में, पुलिस मुख्यालय के पत्र को भी जिले में ज्यादा तवज्जो नहीं दी गयी है। एसपी बंग्ले से जीएडी कॉलोनी, एसपी बंग्ले से अपर बैनगंगा कॉलोनी, जठार अस्पताल से हाउसिंग बोर्ड पहुँच मार्ग सहित अनेक मार्ग ऐसे हैं जहाँ स्पीड ब्रेकर्स पर वाहनों का निचला तल टकराना तय ही है। पता नहीं क्यों जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर पालिका प्रशासन सहित अन्य जिम्मेदार विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इनमें से एसपी बंग्ले से अपर बैनगंगा मार्ग के स्पीड ब्रेकर को नेस्तनाबूत कर दिया गया है।

याद पड़ता है कि बालाघाट में एक स्पीड ब्रेकर पर वाहन क्षति ग्रस्त होने पर अधिवक्ता महेंद्र देशमुख ने उपभोक्ता फोरम में वाद दायर कर हर्जाना लिया था। अगर सिवनी में भी कोई हर्जाना लेने उपभोक्ता फोरम की शरण में जाता है और उसे हर्जाना देने के आदेश होते हैं तब भी सरकारी नुमाईंदों का क्या? पैसा तो सरकार के खाते से ही जाने वाला है। संवेदनशील जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड एवं जिला पुलिस अधीक्षक तरूण नायक से जनापेक्षा है कि काल का स्वरूप बनने वाले इन गति अवरोधकों को मानक आधार पर समय सीमा में बनवाने के आदेश जारी करें।



1 Views

Related News

जिले में ग्राम पंचायतों के कार्यक्रमों में बढ़ रही अश्लीलता! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिले में ग्राम पंचायतों के घोषित.
(शरद खरे) जिला मुख्यालय में सड़कों की चौड़ाई क्या होना चाहिये और सड़कों की चौड़ाई वास्तव में क्या है? इस.
मनमाने तरीके से हो रही टेस्टिंग, नहीं हो रहा नियमों का पालन! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। लोक निर्माण विभाग में.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। नगर पालिका में चुनी हुई परिषद के कुछ प्रतिनिधियों के द्वारा मुख्य नगर पालिका अधिकारी के.
खराब स्वास्थ्य के बाद भी भूख हड़ताल न तोड़ने पर अड़े भीम जंघेला (ब्यूरो कार्यालय) केवलारी (साई)। विकास खण्ड मुख्यालय.
(खेल ब्यूरो) सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी के सक्रय एवं जुझारू कार्यकर्ता तथा पूर्व पार्षद रहे संजय खण्डाईत अब भाजपा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *