खुद से कहें नहीं सोना है तो आ जायेगी नींद

हम सभी यह तो जानते हैं कि सोने से ठीक पहले गर्म दूध पीने और गर्म पानी से नहाने से काफी राहत मिलती है। लेकिन इसके बावजूद भी कुछ लोग रात को ठीक से नहीं सो पाते हैं।

इसका असर न सिर्फ उनकी सेहत पर पड़ता है, बल्कि दिन में करने वाले कई कामों पर भी इसका साफ असर नजर आता है। लेकिन आप विशेषज्ञों द्वारा बताए गये इन प्राकृतिक तरीकों की मदद लें तो आपको आयेगी गहरी नींद वो भी आसानी से।

अपने बाएं नासा छिद्र से सांस लें : योग के इस तरीके से आपका ब्लड प्रेशर कम होगा जिससे आपको आसानी से शांत होने में मदद मिलेगी। स्लीप थैरेपिस्ट पीटर स्मिथ के मुताबित, अपनी बाईं करवट पर लेट जायें, इसके बाद अपनी उंगली को अपने दाएं नासाछिद्र पर रखें और इसे बंद कर लें। इसके बाद बाएं नासाछिद्र से धीरे-धीरे, गहरी सांसे भरते रहे।

दबाएं और आराम दें : अपनी सभी माँसपेशियों को आराम दें। इससे आपका शरीर जल्दी नींद के आगोश में जा सकेगा। ऐंग्ज़ाइटी विशेषज्ञ चार्ल्स लिंडन के मुताबिक, अपनी पीठ के बल लेट जायें और नाक से गहरी लेकिन धीमी-धीमी सांस लें और उसी दौरान अपने पैरों की उंगली को और अपने पैरों को मरोड़ते हुए उमेठे और ढीला छोड़ें।

लिंडन आगे कहते हैं, धीमी सांस लेते हुए अपने पैर को घुटने की तरफ मोड़ें और फिर ढीला छोड़ें। इसके बाद वापस सांस लें अपनी जांघों, गुदा द्वार, पेट, छाती और भुजा को ऊपर उठाएं।

इस तरह अपने पूरे शरीर की माँसपेशियों को घुमाएं, खींचे और फिर धीरे-धीरे शिथिल करें। यह पूरा आसन करते हुए आपको लगातार धीमी-धीमी सांस लेते रहना है और लगातार सांस लेते रहना है, इससे आपको जल्दी से नींद लेने में आसानी होगी।

जागने की कोशिश करें

अपने आपको लगातार जागते रहने की चुनौती दें, इससे आपका मस्तिष्क तुरंत विद्रोही हो जायेगा और आपको नींद आने लगेगी। साईकोथैरेपिस्ट जूली हीरस्ट के मुताबिक इसे स्लीप पैरेडॉक्स कहा जाता है। जूली बताती हैं, अपनी आंखों को खुला रखें और बार-बार खुद से कहें मैं नहीं सोऊंगी या सोऊंगा इससे आपका मस्तिष्क तुरंत विरोधी दिशा में काम करने लगेगा और आपको सोने के निर्देश देने लगेगा, साथ ही आपकी आंखो की पुतलियां भारी होने लगेगी।

पूरे दिन को याद करें

अपनी सभी और यहां तक की छोटी से छोटी गतिविधियों को रिवर्स क्रम में याद करें, इससे आपका दिमाग चिंताओं से मुक्त हो जायेगा। गुड स्लीप गाइड की लेखक सैमी मार्गाे के मुताबिक, दिन भर के वार्तालापों, चिन्हों और आवाजों को याद करें, इससे आप एक ऐसी मनोदशा तक पहुँच जायेंगे जो आपको सोने में मदद करेगी।

आंखों को घुमाएं

सैमी के मुताबिक आंखों को बंद करके और पुतलियों को तीन बार घूमा कर भी आप आसानी से नींद की गोद में जा सकते हैं। उनके मुताबिक, इससे आपके स्लीपिंग हार्मोंस एक्टिव होने लगते हैं और आपको नींद आने लगती है क्योंकि इस प्रक्रिया के दौरान वही क्रिया होती है आपकी पुतलियों के साथ जो नींद के दौरान होती है।

कल्पना करें

कल्पनाशक्ति आपकी नींद के लिये जादू का असर करती है। अपने आप की तीन अलग-अलग परिस्थितिओं में कल्पना करें। सैमी के मुताबिक, सोचें कि आप स्वर्ग में है, शांत जल में नौकायन कर रहे हैं और फूलों के बगीचें में घूम रहे हैं।

उनके मुताबिक जब आप उन स्थानों जैसे फूलों की खुशबू, घास पर चलना या गीली मिट्टी पर चलना और पानी से टकराती नाव के हिलने जैसी स्थिति में पहुँच जाते हैं तो आपको राहत महसूस होने लगती है। साथ ही आसपास की चीजों से आपका ध्यान हट जाता है जिससे आपको जल्दी गहरी नींद आने लगती हैं।

अपना ट्रिगर खोजें

इस आदत को उस दौरान अपनाएं जब आप अच्छे से सोना चाहते हों। कुछ अलग करें, जैसे अपने ही गाल खिंचे या सर हिलाएं। हिप्नोथेरपिस्ट शरॉन स्टीलेस के मुताबिक, उस क्षण में आपको कैसा लगता है यह महसूस करने पर अपना पूरा ध्यान केंद्रित करें। जब आपके साथ कुछ हलचल वाला माहौल होगा, तब भी आपकी नींद में खलल नहीं पड़ेगी।

(साई फीचर्स)


नोट :ये नुस्‍के आजमाने के पहले जानकार चिकित्‍सक से एक बार मशविरा अवश्‍य कर लें।

1 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *