गजब के हैं इस युवती के केश

अर्जेंटीना की रहने वाली 17 साल की अप्रिल लॉरेंजाटी के टखने तक के लंबे बाल देखकर आपको रश्क हो सकता है। बहरहाल, अपनी इसी खूबी के चलते उसका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो चुका है। वह अपने होम टाउन विला कार्लोस पैज में 1.52 मीटर लंबे बालों को लहराती घूमती है।

असल जिंदगी की रॅपन्ज़ेल कही जाने वाली इस लड़की ने बताया की सात साल की उम्र से उसने अपने बालों को नहीं काटा। लॉरेंजाटी ने कहा कि यह 10 साल पहले शुरू हुआ, जब मैं फिल्म में दिखाए गए माटिल्ड की तरह बाल कटवाना चाहती थी। जब मैं पहली बार बाल कटवाने गई, तो सब कुछ बहुत अच्छा था।

मगर, बाल कटवाने के अगले दिन मुझे वह हेयर स्टाइल अपने ऊपर पसंद नहीं आई क्योंकि उसमें काफी बदलाव हो गया था। पहले मैं अपने बालों को नीचे लटकाकर रखती थी या चोटी बनाए रखती थी। और फिर अचानक हुआ बदलाव मुझे पसंद नहीं आया। इसके बाद से मैंने कभी बाल नहीं काटे।

कॉर्डोबा प्रांत के एक छोटे से शहर में रहने वाली लॉरेंजाटी ने अपने बालों से कई पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करना शुरू कर दिया। सड़क पर मिलने वाली महिलाएं और लड़कियां आमतौर पर मुझे सवाल पूछते कि मैं अपने बालों की देखभाल कैसे करती हूं। मैं कितना समय अपने बालों को संवारने में लगाती हूं।

इसकी वजह से अक्सर लोग मुझे रॅपन्ज़ेल कहते हैं। कई बार मुझे यह भी सुनने को मिलता है- रॅपन्ज़ेल, रॅपन्ज़ेल लेट डाउन योर हेयर। हालांकि, लॉरेंजाटी कहती है कि इन बालों की वजह से लोग मुझे प्यार करते हैं, लेकिन तेज हवाओं के समय में बालों को संभाले रखना मुश्किल हो जाता है। तब मुझे बालों को उलझने से बचाने के लिए चोटी बनानी पड़ती है।

जर्मन कहानी की नायिका है रॅपन्ज़ेल

“रॅपन्ज़ेल” एक जर्मन परिकथा की पात्र है, जिसे ब्रदर्स ग्रिम ने अपने कथा-संग्रह में संग्रहित किया था। यह साल 1812 में पहली बार चिल्ड्रन्स एंड हाउसहोल्ड टेल्स के भाग के रूप में प्रकाशित हुई थी। इसके कथानक और पैरोडियों का उपयोग विभिन्न मीडिया में हुआ है। इसकी सुविख्यात पंक्ति “रॅपन्ज़ेल, रॅपन्ज़ेल, लेट डाउन योर हेयर” लोकप्रिय संस्कृति का मुहावरा है।

(साई फीचर्स)



2 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *