गुलशन कुमार हत्याकांड: दाऊद ने ही कराई थी हत्या

(आकाश कुमार)

नई दिल्‍ली (साई)। साल 1997 में हुए बहुचर्चित गुलशन कुमार हत्याकांड में अब एक नया मोड़ आ गया है। दरअसल, ये माना जा रहा था कि ये हत्या दाऊद के इशारे पर गुलशन के साथ काम कर रहे हैं संगीतकार नदीम सैफी ने ही करवाई थी और अब जल्द ही ये बात सच साबित हो सकती है।

जी हां, हाल ही में एक टीवी चैनल ने दाऊद का एक ऑडियो टेप रिलीज किया है, जिसमें अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम अपने एंजेट से नदीम की सेफ्टी की बात कर रहा है जो इस वक्त लंदन में रह रहा है। गौरतलब है कि गुलशन कुमार की हत्या के बाद से ही नदीम सैफी लंदन में रह रहा है। हालांकि, भारतीय एजेंसियां उसका प्रत्यर्पण कराने की कोशिश कर रही हैं।

डॉन को सता रहा है मोदी सरकार का डर…

खबरों की माने तो दाऊद इब्राहिम को अब मोदी सरकार का डर सता रहा है। दरअसल, पाकिस्तान में छिपे दाऊद से जुड़े एक टेप से इस बात खुलासा हुआ है कि 1997 में कैसेट किंग गुलशन कुमार की हत्या में संगीतकार नदीम सैफी का हाथ है और दाऊद ही उसे लगातार सुरक्षा दिलवा रहा है।

लंदन वाला दोस्त…

नदीम सैफी नब्बे के दशक में बॉलीवुड का एक हिट म्यूजिशयन था, जो अब ब्रिटेन में रह रहा है। 2 अगस्त, 1997 को मुम्बई में गुलशन कुमार की हत्या में नदीम को सह-संदिग्ध के तौर पर नामजद किया गया था। हाल ही में एक टी.वी. चैनल द्वारा जारी की गई टेप में दाऊद को खुद फोन पर भारत सरकार की मुहिम और नदीम के बारे फिक्र जताते सुना जा सकता है। चैनल की ओर से जारी इस टेप से गुलशन कुमार हत्याकांड में कई सनसनी खेज खुलासे हेने की उम्मीद जताई जी रही है। फोन पर दाऊद और आईएसआई एंजेट के बीच बातचीत के दौरान नदीम को लंदन वाला दोस्त कहा गया है।

बताया जा रहा है कि ये बातचीत 2015 से ही रिकॉर्ड की जा रही है। इन टेप्स में दाऊद को चिंता जताते हुए साफ सुना जा सकता है। बातचीत के मुताबिक दाऊद फोन पर अपने एक गुर्गे से जिस शख्स बारे चिंता जता रहा है वो और कोई नहीं नदीम सैफी ही है। बातचीत का टेप खुलासा करता है कि कैसे दाऊद का एक गुर्गा उसे वांछित संगीतकार को लेकर संभावित कानूनी खतरे के बारे में आगाह कर रहा है। वो बता रहा है कि मोदी सरकार के ताजा शुरू किए गए प्रयासों के क्या परिणाम हो सकते हैं।



1 Views

Related News

(शरद खरे) प्रदेश सरकार की नीतियां किस तरह से दम तोड़ रहीं हैं इसका जीता जागता उदाहरण प्रदेश भर में.
जाँच प्रतिवेदन में की सीईओ ने अनुशंसा, कहा : 17 लाख की हेराफेरी है वसूली के योग्य! (फैयाज खान) छपारा.
न तो कॉलोनाईजर, न ही पालिका को है सुध लेने की फुर्सत (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। शहर में एक भी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा बिना किसी कार्ययोजना, यातायात विभाग और परिवहन विभाग के.
किया जगह-जगह तूफानी निरीक्षण, दिये मातहतों को निर्देश (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। पदभार ग्रहण करने के साथ ही अपने.
कराया सिवनी की समस्याओं से निजाम को अवगत (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। मध्य प्रदेश विकास यात्रा के तहत चौरई पहुँचे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *