गैंगरेप मामला : किसने किया था 1090 पर फोन!

सूचना देने वाले से भी होना चाहिये पूछताछ!

(अपराध ब्यूरो)

सिवनी (साई)। 25 नवंबर को जिला मुख्यालय में हुए गैंगरेप के मामले में पुलिस को किसने सूचना दी, इस बात पर से कुहासा हट नहीं सका है। पीड़िता को लेकर पुलिस तक जाने की बात को लेकर अब श्रेय लेने की सियासत भी गर्माने लगी है।

ज्ञातव्य है कि कोतवाली पुलिस के द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार 26 नवंबर को बरापत्थर में सुबह – सुबह एक नाबालिग युवती स्थानीय जन को रोते हुए संदिग्ध हालत में मिलने पर महिला हेल्प लाईन को इसकी सूचना दी गयी। जिस पर स्थानीय पुलिस कोतवाली सिवनी के द्वारा छिंदवाड़ा निवासी 15 वर्षीय नाबालिग युवती की रिपोर्ट पर अपराध क्रमाँक 811/17 धारा 376 भादवि, 04 पास्को एक्ट आदि के तहत मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था।

हाल ही में मीडिया में इस बात की श्रेय लेने की खबरें विशेषकर सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुई हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि फलां के द्वारा पीड़िता को लेकर कोतवाली जाया गया था। उधर, पुलिस सूत्रों का कहना है कि पुलिस के किसी सेवानिवृत्त कर्मचारी के द्वारा इस बात की जानकारी पुलिस को दी गयी थी।

इसके बाद शहर में चर्चाओं का बाजार गर्मा गया है। चर्चाओं पर अगर यकीन किया जाये तो पीड़िता किसे किस हाल में मिली थी? उसे किसके द्वारा और कैसे कोतवाली पुलिस तक पहुँचाया गया? इस बारे में भी विवेचना अगर की जाये तो इससे भी कुछ तथ्य सामने आ सकते हैं।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि भले ही पीड़िता को पुलिस तक ले जाने वाले का नाम सार्वजनिक न किया जाये पर उससे पूछताछ की जाना चाहिये, ताकि इस मामले की विवेचना में और भी तथ्य सामने आ सकें।

उधर, सिवनी के निर्दलीय विधायक द्वारा इस गैंगरेप के मामले मेें सफेदपोशों के इस मामले में शामिल होने की बात को उठाये जाने के बाद इस बात की चर्चाएं भी तेजी से चलने लगी हैं कि वे सफेदपोश कौन हैं जो इस तरह के घृणित कार्य में शामिल हैं। समाज के उन सफेदपोशों पर घृणित कार्य में अपनी भागीदारी रखने वालों के नाम भी सार्वजनिक किये जाने चाहिये।

इस मामले में आरोपियों जितेंद्र उर्फ जित्तू तिवारी, संदीप उर्फ गुल्लू पिता जगदीश ठाकुर, ब्रजवीर उर्फ बिज्जू पिता दमड़ी लाल सदाफल, आभा परते उर्फ गुड़िया पिता बाबू लाल परते, सुशीला उर्फ मीना पिता राजेंद्र श्रीवास, माया उर्फ शिवानी पिता महेश राजपूत के साथ ही पंकज (25) पिता फूलचंद अग्रवाल, गणेश (18) पिता शंकर लाल भोंडवे, दुर्गा प्रसाद (31) पिता धरमलाल क्षीरसागर एवं अखिलेश (29) पिता ब्रम्हान सिंह डेहरिया के शामिल होने पर उन्हें भी गिरफ्तार किया गया था।

इस मामले में शहर में तरह – तरह की चर्चाओं का बाजार गर्मा रहा है। कहा जा रहा है कि जिन लोगों के द्वारा इस मामले में महिला आरोपियों के साथ फोन पर लगातार बातें की गयी हैं उनसे पुलिस के द्वारा सांठगांठ कर उन्हें बचाने के एवज में लेनदेन भी किया जा रहा है।



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *