चार साल से धूल खा रही करोड़ों की बिल्डिंग!

पॉलीटेक्निक के कन्या छात्रावास को अब तक हेण्डोवर नहीं किया हाउसिंग बोर्ड ने!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। सरकारी कामों में लालफीताशाही किस कदर हावी है इस बात का साक्षात उदाहरण शासकीय पॉलीटेक्निक कॉलेज में चार साल से बनकर तैयार कन्या छात्रावास को देखकर मिलता है। लगभग अस्सी लाख रूपये का यह भवन चार सालों से धूल ही खा रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश गृह निर्माण एवं अधोसंरचना विकास मण्डल के द्वारा शासकीय पॉलीटेक्निक कॉलेज में 50 बिस्तर के कन्या छात्रावास का निर्माण, कॉलेज परिसर में कराना था। इसके लिये कपीश्वर हनुमान मंदिर (मराही माता) के पीछे लगभग दो एकड़ के रिक्त भूखण्ड का चयन किया गया था।

पॉलीटेक्निक कॉलेज के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि 50 बिस्तर वाले इस कन्या छात्रावास के निर्माण का काम राजधानी भोपाल की एआरपी सेल्स एण्ड इंजीनियरिंग को करना था। इसके लिये काम को 11 जनवरी 2013 में आरंभ कराया गया था। सूत्रों की मानें तो यह काम नौ महीनों में अर्थात अक्टूबर 2013 तक पूरा कर लिया जाना चाहिये था।

सूत्रों ने बताया कि इस कार्य के लिये 79 लाख 25 हजार रूपये का आवंटन प्राप्त हुआ था। इस राशि से मध्य प्रदेश गृह निर्माण और अधोसंरचना विकास मण्डल के सिवनी स्थित सहायक यंत्री कार्यालय के अधीक्षण में उपरोक्त ठेकेदार को काम कराना था। सूत्रों ने बताया कि 2013 के अंत में कन्या छात्रावास का यह दो मंजिला भवन बनकर तैयार हो गया था।

इसके साथ ही सूत्रों ने बताया कि इस परिसर के चारों ओर चारदीवारी भी उसी समय बना दी गयी थी। इसके बाद चार सालों से यह पूरा परिसर ताले की जद में है। पॉलीटेक्निक में बाहर से आकर यहाँ रहकर अध्ययन करने वाली छात्राओं के द्वारा शहर में अवैध रूप से चल रहे गर्ल्स हॉस्टल्स या पेईंग गेस्ट (पीजी) में रहकर ही पढ़ाई की जा रही है।

सूत्रों ने बताया कि यह भवन पूरी तरह तैयार है। चार सालों से लगातार धूप बारिश झेल रहा यह रिक्त भवन अब जहरीले जीव जंतुओं का घर बनकर रह गया है। इस भवन का उपयोग न किये जाने के पीछे यह दलील दी जा रही है कि हाऊसिंग बोर्ड के द्वारा इस भवन का आधिपत्य अब तक पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रशासन को नहीं दिया गया है।

हर साल बारिश के मौसम में कन्या छात्रावास के आसपास ऊँची-ऊँची घास ऊग आती है। इसके पास हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी में निवास करने वालों का कहना है कि बारिश के मौसम में इस परिसर से विषधरों के अलावा, कंबल कीड़े, जोंक एवं अन्य जीव जंतु बहुतायत में निकलते हैं।

सूत्रों का कहना है कि संवेदनशील जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड के द्वारा भी हाल ही में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के स्टोर के निर्माण के लिये भूमि का चयन करने दो तीन बार पॉलीटेक्निक कॉलेज का निरीक्षण भी किया है। पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रबंधन के द्वारा अगर जिला कलेक्टर के संज्ञान में यह बात लायी गयी होती तो निश्चित तौर पर यहाँ छात्राओं के 50 बिस्तर वाले छात्रावास को आरंभ कराने में वे पहल करते।



0 Views

Related News

जिले में ग्राम पंचायतों के कार्यक्रमों में बढ़ रही अश्लीलता! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिले में ग्राम पंचायतों के घोषित.
(शरद खरे) जिला मुख्यालय में सड़कों की चौड़ाई क्या होना चाहिये और सड़कों की चौड़ाई वास्तव में क्या है? इस.
मनमाने तरीके से हो रही टेस्टिंग, नहीं हो रहा नियमों का पालन! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। लोक निर्माण विभाग में.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। नगर पालिका में चुनी हुई परिषद के कुछ प्रतिनिधियों के द्वारा मुख्य नगर पालिका अधिकारी के.
खराब स्वास्थ्य के बाद भी भूख हड़ताल न तोड़ने पर अड़े भीम जंघेला (ब्यूरो कार्यालय) केवलारी (साई)। विकास खण्ड मुख्यालय.
(खेल ब्यूरो) सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी के सक्रय एवं जुझारू कार्यकर्ता तथा पूर्व पार्षद रहे संजय खण्डाईत अब भाजपा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *