जनसुनवायी : एक कदम आगे, दो कदम पीछे!

जनसुनवायी बनी औपचारिकता, कार्यवाही को तरस रहे आवेदक!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। जिले में प्रशासनिक तंत्र जिस तरह से चल रहा है उससे फरियादी अपना आवेदन लेकर इस दरवाजे से उस दरवाजे चप्पलें चटकाते नजर आ रहे हैं। हैरान परेशान लोगों के आवेदन तो लिये जा रहे हैं किन्तु आवेदनों पर दिये गये दिशा निर्देशों पर कार्यवाही सिफर ही नजर आ रही है।

उल्लेखनीय होगा कि प्रति मंगलवार को जिला कलेक्टर कार्यालय सहित कमोबेश हर विभाग में होने वाली जन सुनवायी में आवेदकों को संतुष्ट करने की गरज से उनके आवेदन लिये जाकर उस पर संबंधित अधिकारी के द्वारा निर्देशात्मक टीप लिख दी जाती है। इसके बाद उनके द्वारा दिये गये निर्देश का पालन हुआ है अथवा नहीं, यह देखने की फुर्सत किसी को नहीं है।

कुछ आवेदकों का कहना है कि एक-दो बार आवेदन देने के बाद निर्देशात्मक टीप तो लिखी गयी पर उनके आवेदनों पर किसी तरह की कार्यवाही न होने से वे बुरी तरह निराश हैं। कहा जा रहा है कि एक कदम आगे दो कदम पीछे की तर्ज पर चल रहे प्रशासनिक तंत्र को यह प्रतीत अवश्य हो रहा है कि वह आगे बढ़ता जा रहा है किन्तु वास्तविकता यह है कि हर कदम के बाद वह एक कदम पीछे ही होता चला जा रहा है।

मजाक बन चुकी है सीएम हेल्प लाईन : इसी तरह समय सीमा की बैठकों में संवेदनशील जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड के द्वारा लगभग सात-आठ बार जिले के अधिकारियों को सीएम हेल्प लाईन के प्रकरणों के संबंध में दिशा निर्देश जारी किये जाने के बाद भी अधिकारियों की झींगा मस्ती समाप्त नहीं होने से सीएम हेल्प लाईन भी मजाक बनती दिख रही है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि समय सीमा की बैठक में अब तो यह लगने लगा है कि जिस तरह कुछ साल पहले तक हर साल समय – समय पर जारी होने वाले निर्देश को बिना तिथि के ही साईक्लोस्टाईल से कॉपी कर रख दिया जाता था और समय आने पर तिथि और क्रमाँक अंकित कर जारी कर दिया जाता था उसी तरह समय सीमा की बैठकों में एक जैसे ही निर्देश जारी किये जा रहे हैं।

बहरहाल, सोमवार को जारी सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार जिला कलेक्टर गोपाल चन्द्र डाड की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में समय-सीमा बैठक का आयोजन किया गया जिसमें अपर कलेक्टर व्ही.पी. द्विवेदी, अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सिवनी हर्ष सिंह, अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) कुरई कमलेश्वर चौबे आदि उपस्थित थे।

बैठक में सर्वप्रथम कलेक्टर श्री डाड ने एकात्म यात्रा को लेकर सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिले में 06 से 09 जनवरी को आयोजित होने वाली एकात्म यात्रा की तैयारियों में कोई भी कमी न रहे। जिस अधिकारी एवं कर्मचारी को जो दायित्व एकात्म में सौंपे गये हैं, उनका निर्वहन कुशलता से किया जाये। इसके साथ ही जिला अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि जिस विकासखण्ड में यात्रा संचालित हो उस अवधि में उनका अधीनस्थ अमला अनिवार्यतः उपस्थित रहकर आवश्यक व्यवस्थाओं का निरीक्षण करे।

इसी तारतम्य में उन्होंने विभागवार सी.एम. हेल्पलाईन, जनसुनवायी व समय सीमा प्रकरणों की समीक्षा कर संबंधित अधिकारियों को शीघ्र निराकरण के निर्देश दिये। इसके साथ ही उन्होंने लोक सेवा गारंटी अधिनियम अंतर्गत शासन द्वारा एक दिवस में दी जाने वाली प्रस्तावित सेवाओं से संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि शासन द्वारा योजनाओं के क्रियान्वयन में त्वरित कार्यवाही हेतु लोक सेवा गारंटी अधिनियम अंतर्गत 45 सेवाओं को एक दिवस में निराकरण हेतु चिन्हित किया गया है। सभी चिन्हांकित सेवाओं के निष्पादन हेतु आवश्यक तैयारियां समय-सीमा में पूर्ण की जायेंगी।



75 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *