टीकाराम के खिलाफ कार्यवाही से कतराता प्रशासन!

महीना होने को आया, अब तक नहीं किया ज्वॉईन, प्रशासन है मौन!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। कर्मचारी नेता टीकाराम बघेल के खिलाफ कार्यवाही करने में स्वास्थ्य प्रशासन को पसीना आ रहा है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वासथ्य अधिकारी के द्वारा 03 नवंबर को टीकाराम बघेल को सिवनी से घंसौर स्थानांतरित किये जाने के बाद अब तक टीकाराम बघेल के द्वारा घंसौर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अपनी आमद नहीं दी गयी है।

ज्ञातव्य है कि मध्य प्रदेश तृतीय वर्ग स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष टीकाराम बघेल मूलतः रेडियोग्राफर के पद पर पदस्थ हैं और उनकी तैनाती पहले जिला चिकित्सालय के क्षय रोग प्रभाग में थी। क्षय रोग प्रभाग की एक्स-रे मशीन का उपयोग सालों से नहीं किया गया है। इस लिहाज से यह कहा जा रहा था कि टीकाराम बघेल के द्वारा बिना किसी कार्य के वेतन लिया जा रहा है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि संभवतः जिला क्षय रोग अधिकारी के द्वारा टीकाराम बघेल की पदस्थापना जिला चिकित्सालय में कर दी गयी थी। इसके बाद जिला क्षय अधिकारी से भी जवाब सवाल किया गया था।

सूत्रों ने बताया कि तत्कालीन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (वर्तमान सिविल सर्जन, जिला चिकित्सालय) डॉ.राजेंद्र कुमार श्रीवास्वत के द्वारा 03 नवंबर को टीकाराम बघेल की पदस्थापना सिवनी से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र घंसौर कर दी गयी थी। सूत्रों की मानें तो महीना बीतने को आया है फिर भी टीकाराम बघेल के द्वारा घंसौर में अपना पदभार ग्रहण नहीं किया गया है।

इसके साथ ही सूत्रों ने आगे बताया कि टीकाराम बघेल के द्वारा अपनी पदस्थापना निरस्त करवाने के प्रयास किये गये, किन्तु वे इसमें सफल नहीं हो पाये। सूत्रों की मानें तो अब टीकाराम बघेल के द्वारा अपनी पदस्थापना घंसौर की बजाय जिला मुख्यालय के आसपास करवाने की जुगत लगायी जा रही है।

सूत्रों ने बताया कि इसके पहले टीकाराम बघेल का संलग्नीकरण जिला चिकित्सालय से समाप्त किया जाकर उन्हें उनकी मूल पदस्थापना वाले स्थल छपारा पदस्थ किया गया था। उस समय भाजपा के पूर्व विधायक नरेश दिवाकर एवं भाजपा की तत्कालीन जिला अध्यक्ष श्रीमति नीता पटेरिया की सिफारिश पर उनका संलग्नीकरण एक बार फिर सिवनी में यथावत रख दिया गया था।

इसी तरह सूत्रों ने बताया कि भाजपा के वर्तमान जिला अध्यक्ष राकेश पाल सिंह के द्वारा इस मामले में हस्तक्षेप करने से इंकार कर दिया गया है। सूत्रों ने आगे बताया कि यह कवायद भी परवान चढ़ती नहीं दिख रही है, क्योंकि एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी के द्वारा यह कहा गया है कि पहले टीकाराम बघेल घंसौर में जाकर कार्यभार ग्रहण करें, उसके बाद ही उनकी तैनाती किसी अन्य स्थान पर किये जाने पर विचार किया जायेगा।



0 Views

Related News

(शरद खरे) सूबे के निज़ाम शिवराज सिंह चौहान की इच्छा भले ही प्रदेश में सुशासन लाने की हो पर मैदानी.
दिसंबर में फिर गायब हुई सर्दी (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। पूस (दिसंबर) के माह में जब हाड़ गलाने वाली सर्दी.
अनेक वरिष्ठ नेता पा रहे खुद को उपेक्षित, बिना खिवैया दिशाहीन हो रही काँग्रेस की नैया! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
0 सांसद-विधायकों की चुप्पी से भीमगढ़ हो रहा उपेक्षित (स्पेशल ब्यूरा) सिवनी (साई)। एशिया के सबसे बड़े मिट्टी के बाँध.
(सुभाष बकौड़े) घंसौर (साई)। बस स्टैण्ड पर चिकन की दुकान में बीती रात मुर्गा खरीदने को लेकर हुए विवाद में.
मतदाता सूची में नाम जोड़ने पर हुआ विवाद (आगा खान) कान्हीवाड़ा (साई)। कान्हीवाड़ा में मतदाता सूची में नाम जोड़ने की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *