टीकाराम बघेल के सामने झुका प्रशासन!

अस्पताल में कुछ दिनों के लिये पुलिस बल तैनात

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। मध्य प्रदेश स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष टीकाराम बघेल के सामने प्रशासन को अंततः झुकने पर मजबूर होना ही पड़ा। सोमवार की सुबह हड़ताल की चेतावनी के बाद जिला चिकित्सालय में सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस बल की तैनाती कर दी गयी है। शुक्रवार से सोमवार तक के घटनाक्रम को लेकर तरह – तरह की चर्चाओं का बाजार भी गर्मा गया है।

ज्ञातव्य है कि स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों की कथित अनदेखी के चलते जिला चिकित्सालय में आये दिन चिकित्सकों, नर्स, एंबूलेंस चालकों आदि के साथ मारपीट और अभद्रता की शिकायतों के मिलने के बाद भी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक के प्रभार वाले डॉ.राजेंद्र कुमार श्रीवास्तव के द्वारा किसी भी तरह का कदम न उठाये जाने से चिकित्सकों और कर्मचारियों में रोष और असंतोष पनपने लगा था।

एक के बाद एक घटनाओं के बाद भी सीएमएचओ और सिविल सर्जन के द्वारा किसी तरह का कदम न उठाये जाने के बाद कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष टीकाराम बघेल के द्वारा शुक्रवार को जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर दो दिन का अल्टीमेटम दिया जाकर अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता कराने की माँग करते हुए सोमवार को काम बंद हड़ताल की चेतावनी दी गयी थी।

सोमवार को सुबह आठ बजे प्रियदर्शनी जिला चिकित्सालय के मुख्य द्वार पर चिकित्सकों, वार्ड ब्वॉय, नर्सेज़ एकत्र हो गये थे। इसके बाद जैसे ही उन्हें अस्पताल में उप निरीक्षक, सहायक उप निरीक्षक, प्रधान आरक्षक, आरक्षकों के साथ ही नगर सेना के सैनिकों की तैनाती की बात पता चली तो सभी ने स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के आव्हान पर बुलाये गये बंद को समाप्त करते हुए काम करना आरंभ कर दिया।

बताया जाता है कि स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के द्वारा जिला कलेक्टर को लिखे गये पत्र में कहा गया है कि स्वास्थ्य कर्मचारियों और अधिकारियों की ज्वलंत समस्याओं के बारे में जिला प्रशासन को अवगत कराते हुए मजबूरी में आंदोलन हेतु आंदोलन के लिये बाध्य होना पड़ा।

इसके साथ ही बताया जाता है कि उन्होंने कलेक्टर को लिखे पत्र में कहा है कि जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के द्वारा पहली बार त्वरित कार्यवाही करते हुए जिला चिकित्सालय में अस्थायी व्यवस्था बनाते हुए पुलिस बल की तैनाती की गयी है ताकि कर्मचारियों एवं अधिकारियों को सुरक्षा प्रदाय की जा सके।

बताया जाता है कि उन्होंने अपने पत्र में कहा है कि इसके लिये उप निरीक्षक खेमेंद्र जैतवार, सहायक उप निरीक्षक गुरू प्रसाद शर्मा, प्रधान आरक्षक दशरथ पटेल, पलश दुबे सहित नगर सेना के सैनिकों में मेजर शिवनाथ सिंह, लॉन्स नायक दरोगा प्रसाद उईके, गुरू प्रसाद चंद्रवंशी, सैनिक राकेश सिंह को तैनात किया गया है। इसके चलते 30 अक्टूबर की प्रस्तावित हड़ताल को वापस लेने की घोषणा उनके द्वारा की गयी।



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *