ताला बंद कक्ष में क्या कर रही थी महिला!

शराब की खाली बोतलें मिलीं तहसीलदार के औचक निरीक्षण में!

(संतोष बर्मन)

घंसौर (साई)। तहसीलदार रजनी वर्मा एवं नायब तहसीलदार राजीव नेमा के द्वारा सोमवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का औचक निरीक्षण किया गया। इस निरीक्षण में न केवल अनियमितताएं प्रकाश में आयीं वरन अस्पताल के अनेक कमरों सहित गलियारों में शराब की खाली बोतलें भी बरामद की गयीं। एक कक्ष जिसका ताला बंद था उसमें से एक महिला संदिग्ध रूप से अचानक ही बाहर निकलने से तरह – तरह की चर्चाओं का बाजार गर्मा गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसीलदार और नायब तहसीलदार के द्वारा सोमवार को अस्पताल का औचक निरीक्षण किया गया। इस दौरान विकास खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ.विजेंद्र चौधरी अस्पताल से नदारद थे। उनकी अनुपस्थिति में डॉ.भारतीय सोनकेशरिया के द्वारा अधिकारियों को निरीक्षण कराया गया।

बताया जाता है कि अधिकारियों को अस्पताल के अनेक कक्षों यहाँ तक कि गलियारों में भी शराब की खाली बोतलें मिलीं। शौचालय भी गंदगी से बजबजा रहे थे। इतना ही नहीं अस्पताल के प्रथम तल पर कमरा नंबर 66 में एक्सपायरी डेट की दवाओं का जखीरा भी अधिकारियों को मिला।

इसके साथ ही बताया जाता है कि कक्ष क्रमाँक 66 में एक्सपयरी डेट की दवाएं रखी गयीं थीं। अधिकारियों की आमद की खबर मिलते ही इस कक्ष में बाहर से ताला जड़ दिया गया। इस कक्ष में ताला लगाये जाने की बात नायब तहसीलदार के गले नहीं उतरी। उनके द्वारा तत्काल ही तहसीलदार रजनी वर्मा सहित पुलिस को भी मौके पर बुलाया गया।

बताया जाता है कि अधिकारियों की मौजूदगी में जब इस कक्ष को खोला गया तो सभी इस बात पर आश्चर्यचकित रह गये कि कक्ष के अंदर एक महिला बंद थी। महिला के संदिग्ध रूप से कक्ष के अंदर बंद रहने पर अधिकारियों के द्वारा फॉर्मासिस्ट को जमकर फटकार लगायी गयी।

घंसौर के अस्पताल में बताया जाता है कि लापरवाही बरतने पर जिला प्रशासन के द्वारा खण्ड चिकित्सा अधिकारी की वेतन वृद्धियां रोकने का नोटिस भी जारी किया गया है।

इस पूरे निरीक्षण के बाद जितने मुँह उतनी बातों का बाजार गर्मा गया है। लोगों का कहना था कि कक्ष क्रमाँक 66 में महिला कबसे और क्यों बंद थी? जिस कक्ष में एक्सपायरी डेट की दवाओं का कथित तौर पर भण्डारण किया जा रहा था उस कक्ष में महिला को संदिग्ध परिस्थिति में क्यों बंद किया गया था? ताला बंद कक्ष से बाहर निकली महिला कौन थी और उसका स्वास्थ्य विभाग से क्या नाता है?

लोगों का कहना था कि क्या कक्ष क्रमाँक 66 में एक्सपायरी डेट की दवाओं का सिर्फ भण्डारण किया जाता है या विनिष्टिकरण भी वहीं किया जाता है? एक्सपायरी डेट की दवाओं को मेडिकल बायो वेस्ट की श्रेणी में रखा गया है और इनके विनिष्टिकरण के लिये पृथक से नियम और प्रक्रिया तय की गयी है।

आज मेरे द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र घंसौर का औचक निरीक्षण किया गया, जहाँ साफ सफाई व अन्य कई अनियमितताएं पायीं गयीं. मेरे द्वारा कार्यवाही प्रस्तावित कर उच्च अधिकारियों को भेज दी गयी हैं.

राजीव नेमा,

नायब तहसीलदार.

घंसौर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मेरे समक्ष कमरा नंबर 66 में एक महिला संदिग्ध हालत में पायी गयी. मामले की जाँच कर कार्यवाही की जायेगी.

सुश्री रजनी वर्मा,

डिप्टी कलेक्टर एवं

प्रभारी तहसीलदार घंसौर.



353 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *