दम तोड़ते कुटीर उद्योग!

(शरद खरे)

कुटीर उद्योग का मतलब क्या है? कुटीर उद्योग वे उद्योग हैं, जिनका एक ही परिवार के सदस्यों द्वारा पूर्णरूप से अथवा आंशिक रूप से संचालन किया जाता है। भारत के द्वितीय योजना आयोग द्वारा इसी परिभाषा को मान्यता प्रदान की गयी है। इसके अतिरिक्त प्रोफेसर काले ने कुटीर उद्योगों को परिभाषित करते हुए कहा है कि कुटीर उद्योग इस प्रकार के संगठन को कहते हैं जिसके अन्तर्गत स्वतंत्र उत्पादनकर्ता अपनी पूंजी लगाता है और अपने श्रम के कुल उत्पादन का स्वयं अधिकारी होता है।

कुटीर उद्योग सामूहिक रूप से उन उद्योगों को कहते हैं जिनमें उत्पाद एवं सेवाओं का सृजन अपने घर में ही किया जाता है, न कि किसी कारखाने में। कुटीर उद्योगों में कुशल कारीगरों द्वारा कम पूंजी एवं अधिक कुशलता से अपने हाथों के माध्यम से अपने घरों में वस्तुओं का निर्माण किया जाता है।

भारत में प्राचीन काल से ही कुटीर उद्योगों का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है। अँग्रेजों के भारत आगमन के पश्चात् देश में कुटीर उद्योगों तेजी से नष्ट हुए एवं परम्परागत कारीगरों ने अन्य व्यवसाय अपना लिया, किन्तु स्वदेशी आन्दोलन के प्रभाव से पुनः कुटीर उद्योगों को बल मिला और वर्तमान में तो कुटीर उद्योग आधुनिक तकनीकी के समानान्तर भूमिका निभाते रहे।

एक समय था जब घरों घर कुटीर उद्योग दिखायी देते थे। कहीं दीये बनते थे तो कहीं मटके, तो कहीं दीये की बाती। कालांतर में जबसे चाईनीज मार्केट ने देश में पैर पसारे धीरे-धीरे कुटीर उद्योग मानो बंद ही होते गये। सिवनी में भी घरों में अब वे उद्योग दम तोड़ते दिख जाते हैं।

आज प्रौढ़ हो चुकी पीढ़ी को इस बात को भली भांति जानती होगी कि जब भी भैरोगंज से गुजरा जाता था तब भैरोगंज में हाथकरघा की खट-खट तो कहीं पीतल के बर्तन बनाये जाते समय ठोका-पीटी की आवाजें आया करती थीं। भैरोगंज से नब्बे के दशक तक उठने वाली आवाजें आज शांत हो गयी हैं।

गर्मी के मौसम में जिले में बनने वाली सुराही और मटकों की मांग इतनी जबर्दस्त हुआ करती थी कि लोग फरवरी माह से ही अपने-अपने मटके या सुराही के लिये ऑर्डर बुक करा देते थे। आज हालात उलट ही दिख रहे हैं। वर्तमान में मटका, सुराही बेचने वाले लोग ग्राहकों के इंतजार में गर्मी ही निकाल देते हैं।

इस तरह से अगर कुटीर उद्योग दम तोड़ रहे हैं तो इसके लिये कहीं न कहीं हुक्मरानों की अदूरंदेशी ही जिम्मेदार मानी जायेगी। सांसद विधायकों के द्वारा सालों साल उपेक्षा का ही परिणाम है कि जिले में कुटीर उद्योग मानो दम तोड़ चुका है। एक घर में चलने वाले इस उद्योग से पूरा परिवार पलता था आज इस तरह के परिवारों के सामने आजीविका का संकट भी आन खड़ा हुआ है।

आज आवश्यकता इस बात की है कि जिला स्तर पर भी इस तरह के अभियान चलाये जाने चाहिये जिससे दम तोड़ते कुटीर उद्योगों को संजीवनी मिल सके। इसके लिये सांसदों को लोकसभा में तो विधायकों को विधानसभा में सिवनी जिले के हित को वजनदारी से उठाकर कुटीर उद्योगों को जिंदा करने के मार्ग प्रशस्त करें।



4 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *