दिनेश के आसपास घूमती दिख रही सत्ता की धुरी!

विमला वर्मा, स्व.हरवंश सिंह के बाद आयी रिक्तता को भर सकते हैं दिनेश राय!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। लगभग चार साल से सिवनी की सियासत में आये वैक्यूम (रिक्तता) को सिवनी के निर्दलीय विधायक भरते दिख रहे हैं। जिले भर में दिनेश राय की सक्रियता से अब लगने लगा है कि दिनेश राय सिवनी में सर्वमान्य नेता बनकर स्थापित होने का प्रयास कर रहे हैं।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सिवनी में भारतीय जनता पार्टी में अब तक ऐसा कोई नेता उभरकर सामने नहीं आया है जो जिले में सभी स्थानों पर समान भाव से स्वीकार किया गया हो, या उस नेता के चाहने वाले जिले के कोने – कोने में हों।

उधर, काँग्रेस के एक नेता ने ऑफ द रिकॉर्ड चर्चा के दौरान कहा कि काँग्रेस में सुश्री विमला वर्मा के फॉलोअर्स आज भी जिले के कोने – कोने में मिल जाते हैं। सुश्री विमला वर्मा ने जब से सक्रिय राजनीति से किनारा किया है उसके बाद से काँग्रेस की सत्ता की धुरी स्व.हरवंश सिंह के इर्द-गिर्द घूमती रही। स्व.हरवंश सिंह के चाहने वाले आज जिले के कमोबेश हर स्थान पर हैं। इस लिहाज से काँग्रेस में सुश्री विमला वर्मा और स्व.हरवंश सिंह की स्वीकार्यता जिले भर में मानी जा सकती है।

सियासत के जानकारों का कहना है कि दिनेश राय के द्वारा 2008 के विधानसभा चुनावों में पराजय का स्वाद चखने के बाद भी जमीन नहीं छोड़ी गयी। उनके द्वारा सिवनी विधानसभा क्षेत्र के एक-एक गाँव की न केवल खाक छानी गयी वरन जीवंत संपर्क भी स्थापित रखा गया। यही कारण था कि उन्होंने पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा के जनाधार वाले नरेश दिवाकर और काँग्रेस के राज कुमार खुराना को धूल चटा दी थी।

जानकारों का कहना है कि भाजपा और काँग्रेस में जिस तरह से जनता के दुख दर्द, तकलीफों को स्थानीय स्तर पर नजर अंदाज किया जाकर देश – प्रदेश की चिंता की जाती रही है उसी का नतीजा है कि लोग अब उस सियासतदार की ओर आकर्षित हो रहे हैं जो लोगों की चिंता करता दिखे।

जानकारों का कहना है कि सिवनी के निर्दलीय विधायक दिनेश राय जिस तरह से लखनादौन, केवलारी और बरघाट विधान सभा क्षेत्रों में अपना दखल बढ़ा रहे हैं उससे लग रहा है कि जल्द ही वे जिले में सर्वमान्य नेता बनकर उभर सकते हैं। दिनेश राय के कदम ताल देखकर काँग्रेस और भाजपा के स्थानीय नेता भले ही उनसे दूरियां बनाने का प्रयास करते दिखें पर प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर दिनेश राय की स्वीकार्यता को नकारा नहीं जा सकता है।

जानकारों की मानें तो दिनेश राय के सधे कदमों के चलते, आने वाले दिनों में जिले की सियासत में उनकी उपस्थिति को आसानी से नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है। काँग्रेस और भाजपा के नेताओं के द्वारा भले ही दिनेश राय की सक्रियता को कम आंका जा रहा हो पर अंडर करंट को काँग्रेस भाजपा के नेता नजर अंदाज ही करते दिख रहे हैं।

जानकारों का कहना है कि मामला चाहे सोशल मीडिया का हो या किसी अन्य मंच पर चर्चाओं का। दिनेश राय की उपलब्धियों के बखान के समय जब दिनेश राय के विरोधियों के द्वारा उन पर तंज कसे जाते हैं तब दिनेश राय के समर्थक जिस तरह से उनका बचाव करते दिखते हैं वह निष्ठावान (कम्यूटिड) कार्यकर्ताओं के द्वारा ही अमूमन किया जाता है।

(क्रमशः जारी)



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *