नई शुरुआत के लिए कभी देर नहीं होती…

संत तिरुवल्लुवर से प्रवचन के बाद एक सेठ ने निराश होकर कहा, गुरुदेव मैंने बड़ी मेहनत से पाई-पाई जोड़कर धन इकट्ठा किया ताकि मेरी सात पुश्त बैठे-बैठे खा सकें। उस धन को मेरे इकलौते पुत्र ने बड़ी बेदर्दी से कुव्यसनों में बर्बाद करना शुरू कर दिया है। पता नहीं उसको भविष्य में कैसे दिन देखने पड़ेंगे, मैं इसी चिंता में घुला जा रहा हूं। संत ने मुस्कराकर सेठ से पूछा, तुम्हारे पिताजी ने तुम्हारे लिए कितना धन छोड़ा था?

सेठ ने कहा, वह तो बहुत गरीब थे। उन्होंने मुझे अच्छे संस्कार दिए, लेकिन धन के नाम पर कुछ भी नहीं दिया। जब तक उनके साथ रहा वह मुझे सदाचार और सद्गुणों की सीख ही देते रहे। संत ने कहा, तुम्हारे पिता ने तुम्हें सिर्फ सद्गुण सिखाए, कोई धन नहीं दिया, फिर भी तुम धनवान बन गए। लेकिन तुम बेटे के लिए अकूत धन जोड़ने के बावजूद सोच रहे हो कि तुम्हारा बेटा तुम्हारे बाद जीवन कैसे बिताएगा? इसका मतलब ही यह है कि तुमने उसको अच्छे संस्कार, अच्छे गुण नहीं दिए। तुम यह समझ कर धन कमाने में लगे रहे कि पुत्र के लिए दौलत के भंडार भर देना ही मेरा दायित्व है। जबकि यह माता-पिता का संतान के प्रति पहला कर्तव्य होता है। बाकी तो संतान सब अपने बलबूते हासिल कर ही लेती है।

संत की बात सुन सेठ को अहसास हुआ कि उसने अपने पुत्र को केवल धनवान ही बनाना चाहा। पुण्यवान, संस्कारवान बनाने की तरफ बिल्कुल ध्यान ही नहीं दिया। सेठ पश्चाताप के स्वर में बोला, गुरुदेव, आप सही कह रहे हैं। मुझसे बड़ी भूल हुई। क्या अब कुछ नहीं हो सकता? संत बोले, जिंदगी में अच्छी शुरुआत के लिए कभी देर नहीं होती। जब जागो तभी सबेरा। तुम अपने बच्चे के सद्गुणों पर ध्यान दो बाकी सब भगवान पर छोड़ दो। अच्छे इरादों से किया गया प्रयास कभी व्यर्थ नहीं जाता।

(साई फीचर्स)



0 Views

Related News

म्यांमार के राजा थिबा महान ज्ञानयोगी थे। जितना गहरा उनका ज्ञान था, उतने ही वे सरल और निरहंकारी थे। उनके.
बात उस वक्त की है जब जवाहरलाल नेहरू इलाहाबाद म्युनिसिपैलिटी के चेयरमैन थे। एक दिन वह कार्यालय में फाइलें देख.
सिकंदर एक महत्वाकांक्षी राजा था। उसकी सबसे बड़ी इच्छा थी कि वह दुनिया के सभी देशों को जीतकर विश्व विजेता.
वह गणित में बहुत कमजोर था। इसकी वजह से उसके सहपाठी और अध्यापक उसे बुद्धू समझते थे। उसके साथी उसके.
एक बार एक सरकारी अधिकारी वैज्ञानिक माइकल फराडे से मिलने रॉयल सोसायटी पहुंचा। वहां पहुंचने के बाद सरकारी अधिकारी ने.
महर्षि उतथ्य अपने आश्रम में वेदमंत्रों का उच्चारण करते हुए सामने स्थित हवनकुंड में घी की आहुति रहे थे कि.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *