नये साल से बंद होंगे शराब के अहाते

(राजेश शर्मा)

भोपाल (साई)। प्रदेश में नये साल से शराब अहाते बंद हो जायेंगे। यह व्यवस्था शराब दुकानों की नीलामी के साथ ही लागू होगी। यह ऐलान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को रेडियो कार्यक्रम दिल से में किया। उन्होंने कहा, गरीबों को योजनाओं का लाभ पहुँचाने के लिये एकीकृत गरीब कल्याण पोर्टल बनेगा।

मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार और राज्य बीमारी सहायता योजना के आवेदन और स्वीकृति की प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। मुख्यमंत्री ने कहा, वाहनों में जीपीएस और स्कूल-यात्री बसों में सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। महिला-कन्या छात्रावासों, आश्रय गृह आदि में विशेष सुरक्षा होगी। संवेदनशील क्षेत्र भी चिंहित होंगे, जहां पुलिस पेट्रोलिंग और प्रकाश की व्यवस्था होगी। किसानों को अस्थायी बिजली कनेक्शन दो माह के लिये भी मिलेंगे। जले ट्रांसफामरों को बदलने के लिये 20 फीसदी राशि अग्रिम देना होगी।

ये होगा असर!

शराब दुकानों के अहाते बंद होने से ठेकों के आसपास होने वाली असामाजिक गतिविधियों पर अंकुश लगेगा। महिला सुरक्षा की दिशा में महत्वपूर्ण कदम होगा। आमतौर पर अहाते के आसपास से निकलने वाली महिलाओं को छींटाकशी का सामना करना पड़ता है। अहाते की आड़ में लोग सड़क पर बैठकर शराब पीते हैं, जिससे ट्रैफिक व्यवस्था भी चरमराती है। इस फैसले से सरकार का राजस्व नुकसान नहीं होगा।

एक की आड़ में कई अहाते चलाते थे ठेकेदार : प्रदेश में करीब 23 हजार देशी और विदेशी शराब दुकानें हैं और लगभग इतने ही अहाते भी संचालित हैं। कई जगह तो एक ठेके के साथ दो-दो अहाते चलते हैं। ठेकेदार अहाते किराए पर देकर मोटी रकम वसूलते थे।



0 Views

Related News

(शरद खरे) जिले की सड़कों का सीना रोंदकर अनगिनत ऐसी यात्री बस जिले के विभिन्न इलाकों से सवारियां भर रहीं.
मण्डी पदाधिकारी ने की थी गाली गलौच, हो गये थे कर्मचारी लामबंद (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। सिमरिया स्थित कृषि उपज.
दिन में कचरा उठाने पर है प्रतिबंध, फिर भी दिन भर उठ रहा कचरा! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। अगर आप.
सौंपा ज्ञापन और की बदहाली की ओर बढ़ रही व्यवसायिक गतिविधियों को सम्हालने की अपील (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिवनी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। डेंगू से पीड़ित एस.आई. अनुराग पंचेश्वर की उपचार के दौरान जबलपुर में मृत्यु हो गयी है।.
(आगा खान) कान्हीवाड़ा (साई)। इस वर्ष खरीफ की फसलों में किसानों ने सोयाबीन, धान से ज्यादा मक्के की फसल बोयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *