निंदा प्रस्ताव : अंर्तराष्ट्रीय मानवाधिकार एसोसिएशन ने की निंदा

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। एक तरफ शिवराज सरकार जहाँ ईमानदार अधिकारियों को तवज्जों देने की बात करती है वहीं सिवनी नगर पालिका में युवा सोच और कानूनी नियम के तहत कार्य कर नगर को विकास की दिशा देने की सोच लेकर जैसे ही सीएमओ के रूप में नवनीत पाण्डे ने पदभार सम्हाला और सिवनी को विकास की राह पर दौड़ाना आरंभ किया तो नगर पालिका के पार्षद चाहे काँग्रेसी हों या भाजपाई दोनों को यहाँ का विकास होना नासूर लगने लगा और उन्होंने सीएमओ को हटाने नित नये प्रयोग करना प्रारंभ कर दिये।

उक्ताशय की बात अन्तर्राष्ट्रीय मानव अधिकार एसोशिऐशन के जिला अध्यक्ष सुधीर सिंह बघेल द्वारा प्रेस विज्ञप्ति में कही गयी है। उन्होंने कहा कि सिवनी नगर पालिका भ्रष्टाचार का अड्डा रहा है। पूर्व नगर पालिका के ऊपर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप जबलपुर हाई कोर्ट में सिद्ध हुए थे और इतना ही नहीं बल्कि हाई कोर्ट ने भ्रष्टाचार की रिकवरी का फरमान भी जारी किया था।

उन्होंने कहा कि जब यह आरोप सिद्ध हुए तब भी नगर पालिका में भाजपा की ही अध्यक्ष पदस्थ थीं। श्री बघेल ने कहा कि सिवनी नगर पालिका के ईमानदार अधिकारी युवा नवनीत पाण्डे से सत्तासीन भाजपा के पार्षद और अध्यक्ष को सीएमओ के द्वारा अपनायी जाने वाली शहर विकास की कार्यशैली पसंद नहीं आयी जिसे लेकर सीएमओ के ऊपर आरोप मढ़ना आरंभ कर दिया गया और निंदा प्रस्ताव लेकर सिवनी कलेक्टर के पास पहुँच गये।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अध्यक्ष सहित भाजपा व काँग्रेस पार्षदों के पास सीएमओ के विरूद्ध निंदा प्रस्ताव लाने का सिर्फ मुख्य मुद्दा यह है कि विगत 08 माह पहले कराये गये निर्माण कार्यों की फाईलों पर सीएमओ द्वारा हस्ताक्षर न करना अध्यक्ष व पार्षदों को नगवारा गुजरा और वे वर्षों से चला रहे भ्रष्टाचार की लीपापोती को उजागर होता देख दोनों दल के पार्षद व अध्यक्ष एक होकर सीएमओ के विरूद्ध निंदा प्रस्तात तक ला लिये। वहीं लोग सिवनी नगर पालिका को नरक पालिका कहने से भी नहीं चूक रहे हैं ऐसे में एक ईमानदार अधिकारी जब इस दाग को हटाने की कोशिश करने में लगा तो वह स्वयं ही राजनीति का शिकार होने लगा।

सुधीर बघेल ने कहा कि ऐसे में शहर की जनता विकास के नाम पर ठगा सा महसूस कर रही हैं। जिला अध्यक्ष सुधीर सिंह बघेल ने आगे कहा कि सिवनी नगर पालिका में पिछले 13 सालों मे भाजपा के अध्यक्ष रहे हैं इस बार जो चुनाव हुए थे उसमें भारतीय जनता पार्टी ने ईमानदारी को मुख्य मुद्दा बनाकर जीत हासिल की थी।

अब भाजपा की उसी कथित ईमानदारी को लेकर जब जनता में आक्रोष फूटने लगा तो ऐसे समय में एक ऊर्जावान अधिकारी ने जब भ्रष्टाचार पर नकेल कसना आरंभ किया तो भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरी अध्यक्ष ने तानाबाना बुनकर एक ईमानदार छवि वाले युवा सीएमओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित करवा लिया। मजेदार बात यह है कि सत्ताधारी भाजपा में सीएमओ को लेकर गंभीर मतभेद हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा की ये तीसरी बार सरकार है और नयी अध्यक्ष आरती शुक्ला के नेत्तृत्व में सिवनी नगर पालिका में गंभीर भ्रष्टाचार हुए चाहे वह 14 करोड़ की मॉडल रोड हो, 63 करोड़ की जलावर्धन योजना हो, नगर पालिका में खरीदी बिक्री का मामला हो या निर्माण कार्य हो सभी मामलों मे भाजपा की नगर पालिका अध्यक्ष के ऊपर यही काँग्रेसी पार्षदों ने उंगली उठायी थी। यहाँ तक कि कुछ भाजपाई पार्षद तक कमीशनखोरी को लेकर अध्यक्ष के आमने सामने तक हो गये थे, लेकिन आज एक ईमानदार सीएमओ को हटाने के लिये दोनों दल के पार्षद एकजुट हो गये।



58 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *