निंदा प्रस्ताव : परिषद की ही हो रही निंदा

नवागत सीएमओ ने लगायी है भ्रष्टाचार पर लगाम

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। भाजपा शासित नगर पालिका परिषद में मुख्य नगर पालिका अधिकारी नवनीत पाण्डेय और भाजपा शासित चुनी हुई परिषद के बीच चल रहा गतिरोध अभी भी जारी है। इस मामले में उभय पक्षों के बीच सामंजस्य बनाने का प्रयास भी अब तक किसी के द्वारा न किये जाने से जिला मुख्यालय में भाजपा की जमकर किरकिरी हो रही है।

नगर पालिका के एक पार्षद ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि मुख्य नगर पालिका अधिकारी के रूप में कार्यभार सम्हालने के बाद सीएमओ नवनीत पाण्डेय के द्वारा अपनी विशिष्ट और क्लिष्ट कार्यप्रणाली में काम करना आरंभ किया गया था।

उक्त पार्षद ने कहा कि शुरूआती दौर में सीएमओ नवनीत पाण्डेय को विश्वास में लेने के लिये वे ही चुने हुए प्रतिनिधि जो आज उनके विरोध में सुर मुखर कर रहे हैं, एड़ी-चोटी एक करने में कोर कसर नहीं रख छोड़ रहे थे। इस दौरान पालिका की उपयंत्री नेहा चौहान को सीएमओ आवास रिक्त करने के लिये भी एक प्रतिनिधि ने कड़ाई से निर्देश दिये थे।

इसके साथ ही उक्त पार्षद का कहना था कि जैसे ही नवनीत पाण्डेय के द्वारा भ्रष्टाचार की नस्तियों के अनुमोदन से मना किया गया वैसे ही पालिका के कुछ चुने हुए प्रतिनिधियों के द्वारा उनके खिलाफ षणयंत्र का ताना-बाना बुनना आरंभ कर दिया गया। इसी बीच नगर पालिका के लिपिकों की आपस मंे बदली के आदेश से पालिका में बवंडर मचा और सीएमओ अवकाश पर चले गये।

उक्त पार्षद ने कहा कि इसके बाद बिल्ली के भाग से छींका टूटने की कहवात तब चरितार्थ हुई जब सीएमओ और उपयंत्री नेहा चौहान के बीच जलाऊ लकड़ी की नस्ती के कथित विवाद के बाद नेहा चौहान बेहोश हो गयीं। इसके बाद से ही पालिका के कुछ चुने हुए पार्षदों ने सीएमओ के खिलाफ मोर्चा खोला और उनके खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित करवा लिया गया।

इसके साथ ही उक्त पार्षद का कहना था कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद में जिस तरह से सीएमओ और चुनी हुई परिषद के कुछ प्रतिनिधियों के बीच गतिरोध चल रहा है उससे पालिका का काम प्रभावित हुए बिना नहीं है। सीएमओ के द्वारा वार्ड का भ्रमण किया जा रहा है तो अध्यक्ष के द्वारा उनके साथ जाने वाले पालिका के कर्मचारियों को वापस बुला लिया जा रहा है।

उक्त पार्षद का मत था कि इस पूरी कवायद में भाजपा की चुनी हुई परिषद का पक्ष कमजोर होता दिख रहा है। आम जनता जो कि पालिका के भ्रष्टाचार से आज़िज आ चुकी थी वह अब सीएमओ को सही ठहराते हुए नवनीत पाण्डेय के पक्ष में खड़ी दिखायी दे रही है।

शहर में इस बात को लेकर मिश्रित प्रतिक्रियाओं का दौर भी आरंभ हो गया है। सोशल मीडिया पर भी यह मामला जमकर वायरल हो रहा है। लोगों का कहना है कि पालिका की चुनी हुई परिषद यह कह रही है कि सीएमओ के द्वारा नगर विकास की नस्तियां रोकी जा रही हैं। लोगों की मानें तो लोग चाहते हैं कि पालिका की चुनी हुई परिषद नगर विकास की उन नस्तियों को जनता के सामने लाये जो सीएमओ के द्वारा रोकी जा रहीं हैं।

वहीं, दूसरी ओर सीएमओ नवनीत पाण्डेय का कहना है कि पालिका के चुने हुए प्रतिनिधि चाह रहे हैं कि वे गलत कामों की नस्तियों पर अपना अनुमोदन दें। लोगों का कहना है कि सीएमओ नवनीत पाण्डेय को भी चाहिये कि वे भी यह बात जनता के सामने रखें कि पालिका के वे कौन से चुने हुए चेहरे हैं और कौन से गलत काम की नस्तियों पर अनुमोदन चाह रहे हैं? इस बात को उनके द्वारा सार्वजनिक किया जाना चाहिये।



33 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *