निर्भया की सक्रियता पर सवाल!

(शरद खरे)

दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 में हुए निर्भया काण्ड के बाद 2013 में 16 दिसंबर को मध्य प्रदेश में निर्भया मोबाईल अस्तित्व में आयी थी। इसका प्रमुख उद्देश्य युवतियों और महिलाओं की रक्षा करना था। आरंभ में संसाधन के अभाव में इसके लिये पृथक से बल नहीं मिल पाया था। बाद में निर्भया के लिये पृथक से पुलिस बल की व्यवस्था भी की गयी थी।

सिवनी जिले में भी जिला मुख्यालय की सड़कों पर निर्भया मोबाईल की एक सफेद जिप्सी दिख जाती है। यह वाहन अक्सर ही सड़कों पर यहाँ-वहाँ दौड़ता रहता है। हाल ही में निर्भया मोबाईल के द्वारा बारापत्थर के बिजली कार्यालय के पीछे वाले पार्क में युवक-युवतियों को पकड़ा गया था। बाद में उन्हें समझाईश देकर छोड़ भी दिया गया था।

शहर में न जाने कितने निर्जन इलाके हैं जहाँ शाला या विद्यालय के गणवेश में ही युवक-युवतियों की भीड़ आसानी से देखी जा सकती है। शालाओं से अगर विद्यार्थी गैर हाजिर रहते हैं तो शाला संचालकों के द्वारा भी उनके पालकों को इस बात की सूचना नहीं दी जाती है।

आज के संचार क्रांति के युग में यह करना महज सेकेण्ड्स का ही खेल है। सरकारी और निजि शालाओं या कॉलेज में इस तरह की प्रक्रिया नहीं अपनायी जाती है कि हर किसी के पालक को उनके बच्चे के बारे में गैर हाजिर रहने पर सूचना दी जा सके। निजि तौर पर संचालित होने वाले कोचिंग संस्थानों में इस तरह की प्रक्रिया को अपनाया जाने लगा है।

दरअसल, किशोरावस्था बहुत ही नाजुक दौर माना जाता है। इस समय बच्चे को चाहे वह युवक हो या युवती, उसे यह भान नहीं होता है कि क्या सही है और क्या गलत है? यह दौर शारीरिक परिवर्तन का दौर भी माना जाता है इसलिये एक-दूसरे के प्रति आकर्षण स्वाभाविक प्रक्रिया का अंग माना जा सकता है।

आज के इस युग में जवानी की दलहीज पर खड़ीं युवतियों के द्वारा मोबाईल पर अन्जान लोगों के साथ वार्तालाप किये जाने के अनेक किस्से प्रकाश में आते हैं। देखा जाये तो यह जवाबदेही माता-पिता की ही है कि वे अपने बच्चे को सही गलत का भान करायें और दोस्त की तरह उनके साथ सारी बातों को साझा करें।

बहरहाल, निर्भया के द्वारा बीते दिवस की गई कार्यवाही सराहनीय ही मानी जा सकती है। वैसे तो निर्भया मोबाईल को किसी युवती की गुहार पर उसको मदद दिलाने के लिये बनाया गया था, किन्तु व्यवहारिक तौर पर जवान हो रहीं बच्चियों को सही गलत का भान कराने का काम भी निर्भया मोबाईल के द्वारा अगर किया जाता है तो यह बेहतर सामाजिक परिवेश के रास्ते प्रशस्त कर सकता है।

संवेदनशील जिला पुलिस अधीक्षक तरूण नायक से जनापेक्षा है कि शहर के निर्जन स्थानों, बाग-बगीचों, खेल के मैदानों आदि स्थानों पर पुलिस की नियमित समय के अंतराल में गश्त की व्यवस्था सुनिश्चित करवायें ताकि जवानी की दहलीज पर कदम रखने वाले युवक-युवतियों को राह भटकने से रोका जा सके।



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *