प्यार करने वाली पत्नि हो तो पुरुषों का हृदय रहता है स्वस्थ्य : स्टडी

हाल ही में हुई एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि जिन पुरुषों का शादीशुदा जीवन समय के साथ बढ़ता और मजबूत होता जाता है उनके शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर भी नियमित रहता है और वे हेल्दी रहते हैं उन हमउम्र पुरुषों की तुलना में जिनकी शादी टूट जाती है। इस स्टडी में इस बात की ओर भी इशारा किया गया है कि रिलेशनशिप काउंसिलिंग के सेहत से जुड़े कई फायदे भी होते हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल और ग्लैसगो के अनुसंधानकर्ताओं ने ब्रिटेन के 600 से ज्यादा पुरुषों को अपनी रिसर्च में शामिल किया और उनसे अपनी शादी की गुणवत्ता का 02 स्तरों पर मूल्यांकन करने के लिये कहा गया। पहला तब जब उनका बच्चा 03 साल का था और दूसरा तब जब उनका बच्चा 09 साल का था। इसके तहत पुरुषों ने अपनी शादी का 04 तरह से मूल्यांकन किया – लगातार अच्छी हो रही, लगातार बुरी, हर रोज बेहतरी की ओर बढ़ती हुई और बिगड़ती हुई।

12 साल बाद रिसर्च टीम ने फिर से इस रिसर्च में शामिल होने वाले पुरुषों के स्वास्थ्य की जाँच की। इसके तहत प्रतिभागियों के ब्लड प्रेशर, हार्ट रेट, वजन, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर की जाँच की गयी। ये वे फेक्टर्स हैं जिनसे हृदय रोग होने की संभावना रहती है।

जर्नल ऑफ एपिडीमिऑलजी एंड कम्यूनिटी हेल्थ में छपी इस रिपोर्ट के मुताबिक रिसर्च टीम ने बताया कि जिन पुरुषों ने अपनी शादीशुदा जिंदगी को बेहतरी की ओर बढ़ती हुई बताया था उनका वजन और कोलेस्ट्रॉल रीडिंग दोनों सालों बाद भी हेल्दी था। तो वहीं जिन लोगों ने अपनी शादी और रिश्ते को बिगड़ता हुआ बताया था उनका ब्ल्ड प्रेशर बेहद खराब था। इन बातों के आधार पर स्टडी के ऑथर इस नतीजे पर पहुँचे कि किसी व्यक्ति के शादीशुदा जिंदगी में होने वाले बदलाव के जरिये हृदय रोग के खतरे की भविष्यवाणी की जा सकती है।

हालांकि अनुसंधाकर्ताओं ने चेतावनी देते हुए कहा कि उनकी यह स्टडी सिर्फ अवलोकन के आधार पर की गयी है और स्टडी के माध्यम से इस अंतिम निर्णय पर नहीं पहुँचा जा सकता कि बेहतर शादी का नतीजा बेहतर स्वास्थ्य ही होता है। अगर मान भी लिया जाये कि ऐसा होता ही है तो इस तरह के केस में जहाँ बिगड़ते रिश्तो से गुजर रहे कपल्स काउंसिलिंग के लिये जाते हैं उसका उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर अच्छा असर पड़ना चाहिये।

इससे पहले हुई स्टडी में भी यह बात सामने आ चुकी है कि औसतन शादीशुदा पुरुषों में हृदय से जुड़ी बीमारियां जैसे हार्ट अटैक या स्ट्रोक का खतरा कम रहता है। आगे होने वाली रिसर्च में इस बात का पता लगाने की जरूरत है कि किस तरह प्रभावशाली मैरेज काउंसिलिंग का या फिर योग्य शादी, रिश्ते का परित्याग या बिगड़ते रिश्ते का लंबे समय में शरीर पर क्या असर पड़ता है।

(साई फीचर्स)


नोट :ये नुस्‍के आजमाने के पहले जानकार चिकित्‍सक से एक बार मशविरा अवश्‍य कर लें।

0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *