प्रदेश में दीक्षांत समारोह की नयी ड्रेस तय

(नन्द किशोर)

भोपाल (साई)। प्रदेश में अब दीक्षांत समारोह काफी बदलाव नज़र आयेगा। इसका मुख्य कारण है कि प्रदेश सरकार ने अब दीक्षांत समारोह में नये गणवेश अपनाने का निर्णय किया है।

उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि अब तक जितने भी दीक्षांत समारोह हुए हैं उसमें पाश्चात्य संस्कृति के वस्त्र धारण किये गये हैं। अब भारतीय परिवेश में ही दीक्षांत समारोह संपन्न किये जायेंगे जिसके लिये वेशभूषा भी निर्धारित कर ली गयी है।

मध्य प्रदेश में शिक्षा में सुधार की तेज होती बहस के बीच मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि अब विश्वविद्यालयों में दीक्षान्त समारोह भारतीय परिधान और भारतीय परिवेश में होगा। उन्होंने कहा कि इसे लेकर विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से चर्चा की जा चुकी है।

मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि स्कूली शिक्षा में जो यस सर की जगह जय हिंद की बात आयी इससे काफी पहले से उच्च शिक्षा में ये बात महसूस की गयी कि विश्वविद्यालयों में होने वाले दीक्षान्त समारोह में हम पाश्चात्य परंपरा को वेशभूषा के मामले में बंद करें और हमारी नियत ये रही कि प्रदेश के विश्वविद्यालयों में भारतीय परिधान में दीक्षांत समारोह क्यों न हो? इसकी वजह क्या है? तो इसके लिये हमने समन्वय समिति के अध्यक्ष और कुलाधिपति राज्यपाल तक अपनी बात पहुँचाये।

कुलपतियों की कमेटी ने एकमत होकर किया तय  : मंत्री ने बताया कि राज्यपाल की अध्यक्षता में पूरे प्रदेश के वॉईस चांसलर की सहमति से हमने ये ऐतिहासिक फैसला किया कि हम दीक्षांत समारोह भारतीय परिवेश में करेंगे और इसकी वेशभूषा में कुलपतियों की कमेटी ने एकमत होकर जो तय किया है वहीं वेशभूषा हमने निर्धारित की है। कुलपतियों की कमेटी ने जिस यूनीफॉर्म को तय किया है और राज्यपाल ने जिसे अनुमोदित किया है वही परिवेश है।

लॉन्ग कोट और हेड पहनने पर आपत्ति  : उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि कुर्ता – पाजामा, जैकेट और पगड़ी व साफा तय किया है। परिधानों के रंग भी बैठक में तय किये गये हैं। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया पहले भी कई बार दीक्षांत समारोह में लॉन्ग कोट और हेड पहनने पर आपत्ति जता चुके हैं।



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *