प्रभारी अधिकारी सोमवंशी को मिलीं अस्पताल में गंभीर अनियमितताएं!

सिविल सर्जन, लिपिक एवं स्टोर कीपर को जारी किया कारण बताओ नोटिस

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। अपनी तेज तर्रार छवि के लिये चर्चित भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी के द्वारा स्वास्थ्य विभाग का प्रभारी अधिकारी बनने और जिला चिकित्सालय प्रशासन पर नियंत्रण के अधिकार मिलते ही अपनी विशिष्ट शैली में काम करना आरंभ कर दिया गया है, जिससे अस्पताल प्रशासन में हड़कंप व्याप्त है।

जिला पंचायत के मीडिया अधिकारी राहुल सक्सेना ने बताया कि जिला पंचायत सिवनी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी ने 28 अगस्त को सायंकाल 05 बजे जिला चिकित्सालय सिवनी के परिसर एवं औषधी भण्डारण केन्द्र का निरीक्षण किया, जिसमें अनेक विसंगतियां पायी गयीं।

उन्होंने बताया कि जिला पंचायत के सीईओ एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी अधिकारी ने पाया कि बिन कार्ड सिस्टम पर सिविल सर्जन के हस्ताक्षर नहीं हैं। स्थानीय बाजार से खरीदी गयी दवाईयों के अभिलेखों का संधारण व्यवस्थित नही पाया गया और उनका इन्द्राज एमआईएस सिस्टम में नहीं मिला।

राहुल सक्सेना द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार एनएसक्यू दवाईयांे के निर्माता, सप्लायर को ब्लेक लिस्ट करने में शिथिलता बरती गयी है। संचालनालय में कोई फॉलोअप नहीं किया गया है और न ही कलेक्टर को विधिवत सूचना दी गयी है। स्थानीय बाजार से खरीदी गयी दवाईयों का कोई भी गोशवारा संधारित नही किया गया है, जिस पर स्टोर अधिकारी, सिविल सर्जन द्वारा सत्यापन नही किया गया।

उन्होंने बताया कि 20 नवंबर 2014 को 42 हजार 983 रूपये के 8220 नग कफ सीरप में फंगस लगे होने के कारण उसकी वापसी तो की गयी है परन्तु उसको एनएसक्यू श्रेणी में डालकर संबंधितों के विरूद्ध ब्लेक लिस्ट की कार्यवाही प्रारंभ नही की गयी, जो कि अत्यन्त गंभीर उदासीनता है।

विज्ञप्ति के अनुसार जिला पंचायत के सीईओ एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी ने पाया कि मोक्सीक्लीन और पोटासिम इंजेक्शन बैच नम्बर पीडीपी 040 और पीडीपी 045 ब्लेक लिस्ट करने की अनुशंसा नही की गयी, जबकि ये दिसम्बर 2016 की दिनाँक में गुणवत्ताहीन पाये गये। इसी तरह पाया गया कि एमआईएस सिस्टम, आवक रजिस्टर, स्टॅाक रजिस्टर एवं बिन कार्ड सिस्टम इन चारों दवाओं के इन्द्राज और मेन्टेनेंस मेल नही खाता है, जिससे ईडीएल दवाईयों के रियल टाईम में उपलब्धता का पता लगाना मुश्किल है।

जारी की गयी विज्ञप्ति के अनुसार जिला पंचायत के सीईओ एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी ने पाया कि स्वास्थ्य आयुक्त के 02 जून 2011 के पत्र के अनुसार जारी चैक लिस्ट अनुसार निरीक्षण नहीं किया जाना पाया गया है। अस्पताल में समय पर किये गये निरीक्षण अथवा बैठकों संबंधी जानकारी प्रस्तुत नहीं की गयी। औषधि भण्डार क्रय में स्थानीय बाजार से क्रय की गयी दवाईयों के डब्ल्यूएचओ, जीएमपी प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं किये गये।

विज्ञप्ति के अनुसार जिला पंचायत के सीईओ एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी ने उक्त निरीक्षण के दौरान पायी गयी इन कमियांे के लिये जिला चिकित्सालय की सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डॉ.श्रीमती पुष्पा तेकाम, सिविल सर्जन कार्यालय के परचेज लिपिक आर.के. श्रीवास्तव एवं स्टोर कीपर विजय गावंडे को कारण बताओ नोटिस जारी कर एक सप्ताह के अंदर अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं।

जारी की गयी विज्ञप्ति के अनुसार जिला पंचायत के सीईओ एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी के द्वारा इसके साथ ही साथ तीनों को यह चेतावनी भी दी गयी है कि अगर समय सीमा के अंदर इनके द्वारा जवाब प्रस्तुत नहीं किये जाते हैं तो इन तीनों के खिलाफ एक पक्षीय अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रस्तावित की जायेगी जिसके लिये ये तीनों स्वयं उत्तरदायी होंगे।

कड़क रहे सोमवंशी के तेवर

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्वरोचिष सोमवंशी ने निरीक्षण के दौरान जिला चिकित्सालय परिसर में साफ सफाई एवं परिसर में मरम्मत आदि का निरीक्षण किया, जिसमें विभिन्न कमियां पायी गयी, जिसको पूर्ण किये जाने हेतु जिला पंचायत के इफ्राईम परियोजना अधिकारी ओमेगा पॉल को जिला चिकित्सालय के सम्पूर्ण परिसर की फोटोग्रॉफी किये जाने हेतु अधिग्रहित किया है। इसके साथ ही साथ जिला चिकित्सालय की सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक को निर्देशित किया है कि वे श्री पॉल को उक्त कार्य के लिये अपना सहयोग प्रदान करना सुनिश्चित करेंगे।



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *