फिक्स था राहुल गांधी की सेल्फी गर्ल वाला सीन!

(जलपन पटेल)

अहमदाबाद (साई)। इन दिनों राहुल गांधी सुर्खियों में हैं। पिछले कुछ दिनों में वो अचानक उसी सोशल मीडिया पर फेमस हो गए जहां उन्हे पप्पू कहकर पुकारा जाता था। निश्चित रूप से राहुल गांधी ने गुजरात चुनाव में भाजपा के सामने गंभीर चुनौती पेश कर दी है।

इसी दौरान बीते रोज एक लड़की के कारण राहुल गांधी सुर्खियों में आई। सनसनाती खबर आई कि यह लड़की भीड़ को चीरती हुई राहुल गांधी के पास पहुंची और सेल्फी ली। गुजरात के लोकल मीडिया लीडर अहमदाबाद मिरर ने छापा है कि राहुल के साथ सेल्फी लेने वाली इस लड़की का नाम मंताशा शेठ है। 16 वर्षीय मंताशा भरूच स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में 10 वीं क्लास में पढ़ती हैं। मंताशा राहुल की बहुत बड़ी फैन हैं। इसके अलावा वह लंबे समय से राहुल को फॉलो कर रही हैं।

इसमें फिक्स वाली क्या बात है

दरअसल, फिक्स वाला संदेह तब शुरू हुआ जब लड़की ने लोकल मीडिया को बताया कि ये दिन उनके लिए सपने जैसा था और ये सपना उनका राहुल गांधी के भरूच दौरे पर साकार हो गया जब उन्हें खुद राहुल ने सेल्फी के लिए बुलाया। इससे पहले तक खबर यह थी कि वो भीड़ को चीरते हुए खुद पहुंची। राहुल को तो पता ही नहीं था।

हां, तो क्या हुआ, संदेह का पर्याप्त कारण क्या है

इस सीन के फिक्स होने का संदेह उस समय मजबूत हुआ जब 10वीं क्लास की 16 वर्षीय छात्रा ने लोकल मीडिया को बताया कि राहुल गांधी को वे हमेशा टीवी पर देखती थीं। उन्होंने कहा कि राहुल के भाषण देने का तरीका अलग और शानदार है जो उनके आत्मविश्वास को दर्शाता है। मंताशा ने बताया कि उन्हें राहुल का व्यक्तित्व बहुत प्रभावित करता है। मंताशा ने राहुल गांधी को गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए शुभकामनाएं दी हैं और उन्होंने कहा कि अगर राहुल अपनी मेहनत जारी रखेंगे तो जरूर जीतेंगे।

ये बयान 10वीं की छात्रा का तो हो ही नहीं सकता। यह पूरा का पूरा बयान ही प्रायोजित है। एक स्क्रिप्ट है जो लड़की को रटा दी गई थी। उसने मीडिया के सामने वही बोल दी। अब भी संदेह गलत लगता हो तो लड़की को लाइव टीवी पर ले आओ और राजनीति या राहुल गांधी के बारे में उसके सामान्य ज्ञान का ओपन टेस्ट लेकर देख लो।

राहुल गांधी की इमेज बनाने के लिए काम कर रहीं ऐजेंसियां इन दिनों राहुल गांधी का पूरी 72 एमएम फिल्म बनाना चाहते हैं। इसमें एक्शन, ड्रामा, कॉमेडी और रोमांस सबकुछ मिलाने की कोशिश कर रहे हैं। शायद यह सेल्फी सीन इसी रणनीति के तहत तय किया गया होगा।



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *