बाघों और तेंदुओं की संख्या बढ़ाने हेतु बनेगी दीर्घकालीन योजना

(प्रशासनिक ब्यूरो)

भोपाल (साई)। प्रदेश के संरक्षित क्षेत्रों के अंतर्गत गैर-वानिकी कार्य के प्रकरणों से प्राप्त 5 प्रतिशत राशि टाईगर फांउडेशन सोसायटी में जमा करायी जायेगी। इस राशि से वन एवं वन्य प्राणियों के संरक्षण और संवर्धन के कार्य कराये जा सकेंगे। कूनो-पालपुर अभ्यारण्य में प्रदेश के बाघों को रखा जायेगा।

ये निर्णय मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न राज्य वन्य प्राणी बोर्ड की बैठक में लिये गये। बैठक में वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कहा कि प्रदेश में बाघों और तेंदुओं की संख्या बढ़ाने की दीर्घकालीन योजना बनायें। करंट लगने से बाघ के मरने और बाघ के अवैध शिकार जैसी घटनाओं में सख्त कार्रवाई की जाये। बाघ संरक्षण के लिये वन विभाग समग्रता से विचार करे। इनके रहवासी क्षेत्र में आने से होने वाली जनहानि को रोका जाये। खरमोर और सोन चिरैया के संरक्षण के लिये ग्रासलैंड वृद्धि के प्रयास करें। वन ग्रामों में उज्जवला योजना के गैस सिलेंडर रिफिल करने का कार्य वन समितियों को देने पर विचार करें।

इस अवसर पर बताया गया कि प्रदेश के संरक्षित क्षेत्रों में 21 ईको सेंसेटिव जोन की अधिसूचना जारी हो गयी है। बैठक में ग्वालियर जिले के घाटी गांव क्षेत्र में बिठौला से गोकुलपुर मार्ग और गिरवई से तिल्ली फेक्ट्री मार्ग के उन्नयन के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। टाईगर क्षेत्रों के मार्गों पर वन्य पशुओं की वाहनों से होने वाली दुर्घटना रोकने के लिये उनके क्रासिंग वाले क्षेत्रों में स्पीड ब्रेकर बनाने पर सहमति दी गई। रातापानी अभ्यारण के अंतर्गत विनेका से बोरपानी तक की ग्रामीण सड़क निर्माण का अनुमोदन किया गया। इसी तरह घाटीगांव क्षेत्र में निरावली-मोहना मार्ग निर्माण का अनुमोदन किया गया।

बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में वर्ष 2018 में होने वाली बाघ गणना की तैयारियां की जा रही हैं। प्रदेश में 144 ईको पर्यटन क्षेत्र चयनित किये गये हैं। वन्य प्राणियों के संरक्षण के लिये चलाये जा रहे क्लोज टू माई हार्ट कार्यक्रम से प्रदेश में एक हजार लोग जुड़े हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान और वनमंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार भी इस अभियान से जुड़े हैं। इसके लिये 300 रुपये का दान करना होता है।



0 Views

Related News

(शरद खरे) सूबे के निज़ाम शिवराज सिंह चौहान की इच्छा भले ही प्रदेश में सुशासन लाने की हो पर मैदानी.
दिसंबर में फिर गायब हुई सर्दी (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। पूस (दिसंबर) के माह में जब हाड़ गलाने वाली सर्दी.
अनेक वरिष्ठ नेता पा रहे खुद को उपेक्षित, बिना खिवैया दिशाहीन हो रही काँग्रेस की नैया! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
0 सांसद-विधायकों की चुप्पी से भीमगढ़ हो रहा उपेक्षित (स्पेशल ब्यूरा) सिवनी (साई)। एशिया के सबसे बड़े मिट्टी के बाँध.
(सुभाष बकौड़े) घंसौर (साई)। बस स्टैण्ड पर चिकन की दुकान में बीती रात मुर्गा खरीदने को लेकर हुए विवाद में.
मतदाता सूची में नाम जोड़ने पर हुआ विवाद (आगा खान) कान्हीवाड़ा (साई)। कान्हीवाड़ा में मतदाता सूची में नाम जोड़ने की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *