बापू का ये डाक टिकिट बना सकता है करोडपति

आपने दादा-दादी या नाना-नानी के पास पुराने डाक टिकट देखे होंगे। वक्त आ गया है कि उस खजाने की एक बार फिर सूध ली जाए, क्योंकि यदि उसमें कोई महात्मा गांधी का 10 रुपए वाला टाक टिकट है तो आप करोड़पति भी बन सकते हैं।

जी हां, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 10 रुपये की एक डाक टिकट किसी को भी करोड़पति बना सकती है। शर्त सिर्फ इतनी है कि यह डाक टिकट 1948 में जारी हुई हो और इस पर सर्विसप्रिंट होना चाहिए। आजादी के तत्काल बाद भारत के गवर्नर जनरल के लिए विशेष रूप से ओवरप्रिंट की गई यह डाक टिकट दुनिया में सबसे कम छपी हुई टिकट है।

आखिरी बार जिनेवा में हुई नीलामी में डेविड फेल्डमैनने यह डाक टिकट दो लाख डॉलर (करीब एक करोड़ 30 लाख रुपये) में बेची थी। अगर किसी के पास गवर्नर जनरल द्वारा कैंसिलकी गई वास्तविक डाक टिकट हो तो उसकी कीमत करोड़ों रुपये में है। इस दुलर्भ डाक टिकट के पीछे की कहानी बड़ी दिलचस्प है। आजादी से पूर्व भारत में ब्रिटिश शासन का डाक टिकट चलता था। जब देश आजाद हुआ तो भारत सरकार की ओर से अपना डाक टिकट जारी किया गया।

इस दौरान ब्रिटिश सरकार को अपने दफ्तर बंद करते समय डाक टिकटों की आवश्यकता पड़ी। भारत सरकार ने 1948 में गांधी की तस्वीर वाली 10 रुपये कीमत की सर्विसटिकट सिर्फ 200 ही जारी की। इसमें से 100 टिकट उस समय के गवर्नर जनरल ऑफ इंडिया को इस्तेमाल के लिए दी गई। शेष 100 में से कुछ उस समय के प्रमुख लोगों व अधिकारियों को तोहफे में दी गई। कुछ आज भी राष्ट्रीय अभिलेखागार व डाक संग्रहालय में उपलब्ध हैं। केवल 10 टिकट ही थी जो निजी हाथों तक पहुंच पाई। यही कारण है कि आज यह दुलर्भ डाक टिकट बेशकीमती हो गई है।

इस दुर्लभ डाक टिकट की मांग का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि अगर कोई ऑनलाइन इसे खरीदने के लिए इंक्वायरी डाले तो दर्जनों ऐसे फर्जी डाक टिकट सामने आ जाते हैं। इन पर सर्विसअंकित रहता है, लेकिन यह वास्तविक नहीं है।

(साई फीचर्स)



2 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *