बिना पदस्थापना डीडीओ पॉवर का उपयोग!

कहाँ है सिविल सर्जन डॉ.श्रीवास्तव की पदस्थापना!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। प्रियदर्शनी के नाम से सुशोभित इंदिरा गाँधी जिला चिकित्सालय में आहरण संवितरण अधिकारी कौन है? और उनकी पदस्थापना कहाँ है, इस बात को लेकर स्वास्थ्य कर्मियों में चर्चाओं का बाजार गर्मा गया है। वर्तमान में आहरण संवितरण के अधिकार (डीडीओ पॉवर) का उपयोग किसके द्वारा और कैसे किया जा रहा है?

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि तत्कालीन प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.आर.के. श्रीवास्तव की पदस्थापना सिवनी में सीएमएचओ पद के विरूद्ध की गयी थी। इसी बीच 07 सितंबर को जिला कलेक्टर के द्वारा एक आदेश जारी कर तत्कालीन सिविल सर्जन डॉ.पुष्पा तेकाम को हटाकर सिविल सर्जन का प्रभार तत्कालीन प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.राजेंद्र कुमार श्रीवास्तव को दे दिया गया था।

इसके उपरांत पिछले माह मण्डला से स्थानांतरित होकर आये प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.के.सी. मेश्राम के द्वारा कार्यभार ग्रहण करने के बाद डॉ.आर.के. श्रीवास्तव को वहाँ से कार्यमुक्त कर दिया गया था। सूत्रों ने कहा कि प्रभारी सीएमएचओ के पद से कार्यमुक्त होने के बाद डॉ.आर.के. श्रीवास्तव की पदस्थापना अब कहाँ है यह शायद ही कोई जानता हो।

सूत्रों ने कहा कि चूंकि सिविल सर्जन के पद के विरूद्ध वेतन का आरहण इसलिये संभव नहीं है क्योंकि स्वास्थ्य विभाग में सिविल सर्जन का पद अब नहीं रह गया है। नब्बे के दशक तक जिलों में स्वास्थ्य विभाग के मुखिया जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी हुआ करते थे। यह स्वास्थ्य विभाग की अंदरूनी व्यवस्था है कि चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्सक को सिविल सर्जन का प्रभार दे दिया जाता है।

इसके साथ ही सूत्रों ने कहा कि नब्बे के दशक तक बारापत्थर में भाजपा कार्यालय के बाजू वाला बंग्ला सिविल सर्जन के लिये ईयर मार्क हुआ करता था। इस बंग्ले में जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन निवास किया करते थे। कालांतर में जब जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के अधीन किया गया तबसे इस आवास में सीएमएचओ ही निवास किया करते थे।

बहरहाल सूत्रों ने आगे कहा कि डॉ.के.सी. मेश्राम के द्वारा पदभार ग्रहण करने के बाद अब इस बात से कुहासा हट नहीं सका है कि राज्य शासन के द्वारा डॉ.आर.के. श्रीवास्तव की तैनाती कहाँ की गयी है। जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन के पास आहरण संवितरण अधिकार हैं। इस लिहाज से नवंबर माह का वेतन डॉ.आर.के. श्रीवास्तव के हस्ताक्षरों से पूर्व में ही बना दिया गया होगा।

सूत्रों ने उदाहरण देते हुए कहा कि अगर किसी छात्र का दाखिला ही उस कक्षा में नहीं है तो उसे उस कक्षा का मॉनीटर कैसे बनाया जा सकता है? सूत्रों ने कहा कि सिविल सर्जन पद के लिये लगने वाली चढ़ौत्तरी के बिना शायद ही डॉ.आर.के. श्रीवास्तव की पदस्थापना जिला चिकित्सालय में हो पाये।

इसके साथ ही सूत्रों ने कहा कि चर्चाएं तो यहाँ तक भी हैं कि इस पद के लिये कम से कम पंद्रह से बीस लाख रूपये के बीच की राशि को एक साल के लिये दिया जाता है, पर यह पद डॉ.आर.के. श्रीवास्तव की झोली में बिना किसी मेहनत के ही आ गिरा है। अब समस्या इस बात की है कि अगर डॉ.आर.के. श्रीवास्तव की पदस्थापना जिला चिकित्सालय में नहीं की जाती है तब क्या होगा?

सूत्रोें ने कहा कि सीएमएचओ का प्रभार देने के बाद भी अगर डॉ.राजेंद्र कुमार श्रीवास्तव के द्वारा जिला चिकित्सालय में आहरण संवितरण अधिकारी के बतौर देयकों पर हस्ताक्षर किये जा रहे हैं तो यह नियम विरूद्ध ही होगा, क्योंकि उनकी पदस्थाना कहाँ है, यह बात शायद ही कोई जानता हो!

हमने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के बतौर सिवनी में पदभार ग्रहण किया है. पूर्व प्रभारी सीएमएचओ को जिला कलेक्टर के द्वारा आदेश जारी कर जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन का कार्यभार ग्रहण करने को कहा गया है. उनकी पदस्थापना के संबंध में मुझे जानकारी नहीं है.

डॉ.के.सी.मेश्राम,

प्रभारी सीएमएचओ.



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *