बीवी के लिए पहाड़ पर बना दी थी 6,000 सीढ़ियां

प्यार करने वाले मिसाल छोड़कर दुनिया से विदा होते हैं। कुछ ऐसा ही एक कपल के साथ हुआ। उनका प्यार उनके दुनिया से अलविदा होने के बाद भी जिंदा है। 1956 में जू चाओकिंग ने अपने पहले पति को खो दिया था और चार बच्चों के साथ गरीबी की मार झेल रही थी।

लियू गुओजियाद उससे दस साल उम्र में छोटा था। वह जू की हर संभव मदद करता था और उसके बच्चों का भी ख्याल रखने लगा। बस गांव वालों को यह रिश्ता रास नहीं आया। उन्हें इस रिश्ते से ऐतराज था। गांववाले एक विधवा को घर बसाते नहीं देख सकते थे।

 

बेमतलब की बातें लोगों के बीच होने लगी तो उन्होंने सबसे दूर जाकर बसने का फैसला किया। उन्होंने एक पहाड़ पर गुफा को ही घर बना लिया। भले ही वहां कुछ सुविधा नहीं थी, लेकिन प्यार भरपूर थी। हैरानी की बात यह थी कि जू के पहले पति की मौत होने से पहले से लियू उसे चाहता था।

लियू ने देखा कि उसकी पत्नी को पहाड़ पर चढ़ने में बहुत परेशानी होती है। फिर क्या था उसने धीरे-धीरे पहाड़ पर सीढ़ियां बनाना शरू कर दिया। 2007 में लियू की मौत हुई थी लेकिन जब तक वह जिंदा रहा बीवी के लिए मरते दम तक सीढ़ियां बनाता रहा।

72 साल की उम्र में लियू ने अपनी पत्नी की गोद में आखिरी सांस ली थी। पत्नी जू ने भी 2012 में दुनिया से अलविदा कह दिया लेकिन इस कपल की प्रेम कहानी आज भी पहाड़ पर मौजूद है।

आज भी पत्नी के लिए बनाई लियू की वो 6,000 सीढ़ियां उस जगह जाने वालों को प्यार की दास्तां बयां करती हैं।

पहले उनके बारे में कोई नहीं जानता था। लेकिन जह 2001 में एक अभियान दल का संपर्क उनसे हुआ तब उनकी प्रेम कहानी सामने आई।

(साई फीचर्स)



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *