मयजदों पर अंकुश जरूरी

(शरद खरे)

यह वाकई दुर्भाग्य से कम नहीं माना जायेगा कि शाम ढलते ही सिवनी शहर में मयज़दों की तादाद में ज़मकर इज़ाफा हो जाता है। सिवनी शहर में शाम के धुंधलके के बाद देर रात या यूँ कहें कि तारीख बदलने के बाद भी नशैलों का आतंक सड़कों पर पसरा रहता है पर कोतवाली पुलिस पूरी तरह मौन ही अख्तियार किये रहती है।

रात जैसे-जैसे गहराती है वैसे-वैसे सभ्य समाज के वाशिंदे तो अपने-अपने घरों में दुबक जाते हैं पर जरायमपेशा लोगों का मानों दिन ही निकलता हो। युवाओं की टोली तेज रफ्तार में तरह-तरह की कर्कश आवाज वाले मोटर साईकिल के साईलेंसर से भयानक किस्म की आवाजें निकालते हुए माहौल की शांति भंग करते नज़र आते हैं।

पता नहीं रात में पुलिस कहाँ गायब हो जाती है। महीनों से कोतवाली पुलिस के द्वारा भी रात में हूटर और सायरन बजाकर दुकानें बंद कराने की कवायद नहीं की गयी है। देर रात सड़कों पर आवाजाही करने वालों से पूछताछ करने का काम भी पुलिस के द्वारा मानो बंद ही कर दिया गया है।

रात को अस्पताल के आसपास भी मयजदों की आवाजाही बनी रहती है। देर रात तक कानफाडू आवाज वाले साईलेंसर युक्त दो पहिया वाहनों के द्वारा निशा की नीरवता को भंग किया जाता है। मजे की बात तो यह है कि अस्पताल के पास ही पुलिस कंट्रोल रूम है पर कंट्रोल रूम में तैनात कर्मचारियों को भी इस तरह की आवाजें शायद सुनायी नहीं देती हैं।

सिवनी में देर रात तक मयखाने खुले रहते हैं। आसपास के ढाबों में अघोषित तौर पर शराब परोसी जा रही है। ऐसा नहीं है कि पुलिस को इस बारे में जानकारियां नहीं हैं, बावजूद इसके पुलिस और आबकारी विभाग पूरी तरह से मौन क्यों है, इस बारे में दबी जुबानों से होने वाली चर्चाएं सही साबित होती दिखती हैं।

आबकारी विभाग के द्वारा भी सघन जाँच अभियान सिर्फ ग्रामीण अंचलों तक ही सीमित कर रखा गया है। शहर या आसपास आबकारी विभाग की नज़रें शायद नहीं पड़ पाती हैं। इसका कारण क्या है, यह समझ से परे ही है। आबकारी विभाग को भी मानांे अवैध शराब की बिक्री से ज्यादा लेना-देना नहीं रह गया है।

सिवनी में रात के स्याह अंधकार में कौन सा शरीफ शहरी निकलकर अपनी नींद खराब करेगा? यह विचारणीय प्रश्न है। जाहिर है कि रात में कोई जरूरतमंद या रात को नौकरी करने वाला (जो सिवनी में पत्रकारों के अलावा शायद ही कोई करता हो) सड़कांें पर रहता होगा।

सिवनी में मल्टी नेशनल कंपनीज नहीं हैं कि उनके कॉल सेंटर्स में चौबीसों घंटे काम चलता रहे और कर्मचारियों की आवाजाही लगी रहे। जाहिर है मयजदे और जरायमपेशा लोग ही रात के अंधकार में अपनी कारस्तानी को अंजाम देते होंगे।

लोग सहमे हुए हैं, जरायमपेशा लोग सिर उठा रहे हैं, सुबह और शाम को कोचिंग जाने वाली बालाएं अपने आप को शोहदों से असुरक्षित पा रहीं हैं। इन परिस्थितियों में अब कठोर कार्यवाही की उम्मीद लोगों के द्वारा की जा रही है। पुलिस की सख्ती आम लोगों के लिये परेशानी का सबब न बने इस बात को भी ध्यान में रखना जरूरी ही है।

जिला पुलिस अधीक्षक तरूण नायक की पदस्थापना को भी अब समय हो चला है। वे अब जिले की आबोहवा से दो-चार हो चुके होंगे। उनसे अपेक्षा है कि वे सिवनी शहर की पुलिसिंग को चुस्त-दुरूस्त करें ताकि आम शहरी चैन की नींद सो सके।



0 Views

Related News

(शरद खरे) जिले की सड़कों का सीना रोंदकर अनगिनत ऐसी यात्री बस जिले के विभिन्न इलाकों से सवारियां भर रहीं.
मण्डी पदाधिकारी ने की थी गाली गलौच, हो गये थे कर्मचारी लामबंद (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। सिमरिया स्थित कृषि उपज.
दिन में कचरा उठाने पर है प्रतिबंध, फिर भी दिन भर उठ रहा कचरा! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। अगर आप.
सौंपा ज्ञापन और की बदहाली की ओर बढ़ रही व्यवसायिक गतिविधियों को सम्हालने की अपील (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिवनी.
(आगा खान) कान्हीवाड़ा (साई)। इस वर्ष खरीफ की फसलों में किसानों ने सोयाबीन, धान से ज्यादा मक्के की फसल बोयी.
जनपद के बाबुओं की लापरवाही का दंश भोग रहीं पंचायतें (सुभाष बकौड़े) घंसौर (साई)। जनपद पंचायत घंसौर में पंचायत ग्रामीण.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *