मर्यादा अभियान बनाम खुले में शौच!

(शरद खरे)

यह वाकई दुःखद ही माना जायेगा कि आज़ादी के साढ़े छः दशकों के बाद भी सिवनी जिले और सिवनी शहर में नागरिक खुले में शौच करने को मजबूर हैं। मैला ढोने की प्रथा पर जैसे-तैसे लगाम लगी है, पर खुले में शौच पर अंकुश न लग पाना वाकई दुःखद ही माना जायेगा।

खुले में शौच से मुक्ति के लिये सरकारों के द्वारा तरह-तरह के अभियान चलाये गये और खुद ही अपनी पीठ थपथपायी गयी। जमीनी हालात देखने की फुर्सत शायद किसी को भी नहीं रही। जिले में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के माध्यम से पहले शौचालयों के निर्माण के लिये अनुदान भी दिया गया, किन्तु नतीजा सिफर ही निकला।

सिवनी में चल रहे मर्यादा अभियान की जमीनी हकीकत क्या है, यह देखने-सुनने की फुर्सत भी हुक्मरानों को नहीं है। दिल्ली और भोपाल के वातानुकूलित कक्षों में बैठकर जमीनी योजनाएं बनाने और उनकी समीक्षा करने वाले हुक्मरान, अगर जमीनी हकीकत से रूबरू हो जायें तो वे निश्चित तौर पर सिहर उठेंगे।

खुले में शौच करने से क्या हानि है, इसे रेखांकित करने के लिये सरकारों द्वारा समय-समय पर मीडिया के माध्यम से विज्ञापन भी चलाये जाते रहे हैं। रूपहले पर्दे की अदाकारा विद्या बालान के द्वारा खुले में निस्तार की हानियों को गिनाया जाता रहा। अक्षय कुमार की टॉयलेट फिल्म को भी लोगों ने जमकर सराहा, पर जमीनी हालात देखकर यही कहा जा सकता है कि ये सब कुछ असरकारी नहीं है।

एक समय था जब निस्तार के लिये लोग सुबह-सवेरे ही हाथ में पानी के बर्तन लेकर खुले में निकल जाया करते थे। सरकारों ने इस पर रोक लगाने के लिये अनुदान भी दिया। आज के हालात देखकर यही लगता है कि सरकारी अनुदान कागजों में तो सही-सही है, किन्तु वह जरूरत मंदों के पास पहुँच नहीं सका है।

यह कुनैन की गोली के मानिंद कड़वी सच्चाई ही माना जा सकता है। जमीनी स्तर पर किसी भी अधिकारी ने भौतिक सत्यापन करने की जहमत नहीं उठायी है। जिले में यह काम जिला पंचायत को करना चाहिये था, किन्तु जिला पंचायत भी अन्य जरूरी कार्यांें में ही अपने आप को उलझाये रखने का स्वांग करती नजर आती है।

आश्चर्य तो इस बात पर होता है जब इस सामाजिक और अत्यंत जरूरी काम की मॉनिटरिंग में जनता के द्वारा चुने गये सांसद और विधायक सहित जिला और जनपद तथा ग्राम पंचायतों के नुमाईंदों के द्वारा भी मौन ही रहने में अपनी भलाई समझी जाती है। वे भूल जाते हैं कि जनता ने उन्हें अपना पहरेदार चुना है न कि मौन रहने के लिये!

जिला मुख्यालय की झुग्गी बस्तियों में आज भी पक्के शौचालय न होने से महिलाओं को भी खुले में शौच के लिये जाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। मनचलोें और शोहदों द्वारा इस जरूरी दैनिक नित्यकर्म के दौरान भी महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की जाती है। महिलाएं खामोश रहतीं हैं, क्योंकि यह नैसर्गिक आवश्यकता है, उन्हें इसके लिये रोज़ाना ही बाहर जाना है।

मुसीबत तो तब होती है जब किसी को दस्त लगें, अथवा पेट खराब हो। सुबह-सवेरे तो अंधेरे में लोग नित्यकर्म के लिये बाहर जा सकते हैं, पर दिन ऊगने के बाद उनके लिये यह एक परेशानी का ही सबब साबित होता है। इसके लिये शासन की इमदाद पर्याप्त नहीं मानी जा सकती है। आज जरूरत इस बात की है कि जिला प्रशासन के द्वारा इस योजना के मद में आयी राशि का पूरा उपयोग हुआ है अथवा नहीं इसकी जाँच ईमानदारी से करवायी जाये, ताकि इस भयावह व्यवस्था पर अंकुश लग सके।



11 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *