मॉडल रोड और काँग्रेस

 

(शरद खरे)

सिवनी में नगर पालिका आकण्ठ भ्रष्टाचार में डूबी है, मॉडल रोड, गंदा पानी, आवारा पशु, चीन्ह-चीन्ह कर अतिक्रमण विरोधी अभियान आदि न जाने कितनी बातें सालों से जनता को हलाकान किये हुए हैं पर काँग्रेस के दो-दो विधायकों रजनीश हरवंश सिंह, योगेंद्र सिंह सहित जिला काँग्रेस, नगर काँग्रेस और काँग्रेस के पार्षद मौन ही साधे हुए हैं।

पिछले साल युवा काँग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष ने सस्ती लोकप्रियता बटोरने (इसलिये क्योंकि उनके द्वारा इस विषय पर आगे कुछ भी नहीं किया गया) पिछले साल सितंबर माह में नगर पालिका को लेेकर जमकर बयानबाजी की थी। इसके बाद से काँग्रेस पूरी तरह ही मौन दिख रही है।

मॉडल रोड वाकई बीरबल की खिचड़ी बनकर रह गयी है। तय समय से लगभग तीन साल से ऊपर वक्त हो गया है, इसके बाद भी यह पूर्णता को नहीं पा सकी है। मॉडल रोड के पूर्ण न होने के पीछे सबसे बड़ा रोड़ा अतिक्रमण का न हटाया जाना ही प्रमुख तौर पर उभरकर सामने आया है। सड़क किनारे जिन-जिन स्थानों पर खड़े बिजली के खंबे हटा दिये गये हैं और अतिक्रमण नहीं है, वहाँ-वहाँ मॉडल रोड के निर्माण का कार्य लगभग पूरा हो चुका है।

इसी तरह मॉडल रोड पर बीच में बने डिवाईडर भी विश्व में अनोखे ही होंगे। लगभग चार किलोमीटर ही लंबे इस मार्ग में कहीं चार फीट तो कहीं महज तीन इंच के डिवाईडर हैं। जहाँ जैसा मन और सुविधा दिखी वैसे डिवाईडर का निर्माण करा दिया गया। इन डिवाईडर्स के निर्माण में बारिश के दिनों में सड़क के एक ओर का पानी दूसरी ओर निकालने के लिये आवश्यक प्रबंध भी नहीं किये गये। इसके परिणाम स्वरूप ज्यारत नाका, दलसागर के सामने, बुधवारी बाज़ार आदि में बारिश के दिनों में जल भराव की स्थिति निर्मित हो जाती है।

कहते हैं कि सशक्त विपक्ष के अभाव में सत्ता पक्ष निरंकुश हो जाता है और मनमानी पर उतारू हो जाता है। ऐसा ही कुछ सिवनी जिले में भी देखने को मिल रहा है। सिवनी नगर पालिका में विपक्ष में बैठी काँग्रेस के द्वारा नगर पालिका के खिलाफ किसी तरह का अभियान न छेड़े जाने से भाजपा शासित नगर पालिका मनमानी पर पूरी तरह उतारू ही दिख रही है।

आश्चर्य तो इस बात पर होता है जब स्थानीय समस्याओं को दरकिनार कर काँग्रेस के नेताओं के द्वारा देश-प्रदेश की चिंता में बयानबाजी की जाती है। जिले में काँग्रेस के दो विधायक रजनीश हरवंश सिंह और योगेंद्र सिंह हैं। इसके अलावा जिला काँग्रेस कमेटी के प्रभारी अध्यक्ष एवं नगर काँग्रेस कमेटी के अध्यक्षों के द्वारा भी कभी नगर पालिका परिषद के भ्रष्टाचारों पर सुर मुखर करने की जहमत नहीं उठायी गयी है।

कोई भी व्यक्ति अगर किसी दो पहिया वाहन पर बैठकर ज्यारत नाका से नागपुर नाका तक चला जाये और उसके बाद अगर वह चेहरे को सफेद रूमाल से पोंछ ले तो उसके चेहरे पर लगे धूल के कण रूमाल में स्पष्ट दिखेंगे। यह बात पालिका की कार्यप्रणाली को आईना दिखाने के लिये पर्याप्त मानी जा सकती है। इसके बाद भी विपक्ष का, देश-प्रदेश की चिंता कर सिवनी में चारों विधानसभा पर काबिज होने के दिवा स्वप्न देखना प्रतीत हो रहा है।



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *