युवक का अपहरण : 04 धराए

(ब्यूरो कार्यालय)

बरघाट (साई)। पति से दूर रह रही पत्नी ने अपने ही बेटे को दूसरे पराए व्यक्ति से अपहरण करा उसकी बेल्ट और पट्टे मारपीट करा दी। सूचना मिलते ही थाना अरी, कान्हीवाड़ा, डूंडासिवनी और बरघाट पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए आरोपियों को धारा 356, 323 और 120 बी के तहत गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया।

बरघाट थाना प्रभारी ने बताया कि भीमपाठा निवासी सुमित पिता संतोष पारधी का उसकी मां सतबती बाई से आधार कार्ड को लेकर विवाद हो गया। यह बात सतवंता बाई ने डूडासिवनी निवासी मनोज को सुनाई। जिस पर मनोज और उसे बेटे गुड्डू (22), भाई विनोद (32) और दोस्त अलकेश को फोन लगाकर सतबती के बेटे का अपहरण करने के लिए कहा। जिस पर उन्होने शुक्रवार की रात लगभग ढाई बजे के आसपास सुमित पारधी को उसकी दादी के घर पर आवाज लगाकर उठाया और सफारी वाहन में जबरदस्ती बैठाल कर डूंडासिवनी लेकर आ गए।

पिता ने दी डायल 100 सूचना : बरघाट थाना प्रभारी अमित विलास दानी ने बताया कि संतोष पारधी के बेटे को कुछ लोग वाहन में जबरन बैठाकर डूंडासिवनी ले गए हैं। इसकी सूचना संतोष ने डायल 100 पर दी थी। मामले की जानकारी मिलते ही थाना अरी, कान्हीवाड़ा, डूंडासिवनी और बरघाट की टीम ने मौके पर पहुंचकर मनोज के घर की घेराबंदी कर ली। इस दौरान वहां सुमित घायल अवस्था में मिला। उसके ऊपर बेल्ट पट्टे से घाव थे। पुलिस ने मौके सभी आरोपियों को गिर तार कर कोर्ट में पेश किया गया है। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

10 साल से पति से अलग रह रही थी पत्नी : पुलिस ने बताया कि सतवंता बाई अपने पति संतोष पारधी के पास नहीं रहती थी। वह करीब 10 साल से उससे अलग रहकर मनोज नाम के व्यक्ति के साथ जीवनयापन कर रही थी। आरोपियों के खिलाफ धारा 365, 323 और 120 बी के तहत कार्रवाई की गई।



113 Views.

Related News

(शरद खरे) समाज शास्त्र में औद्योगीकरण और नगरीकरण को एक दूसरे का पर्याय माना गया है। औद्योगीकरण जहाँ होगा वहाँ.
मौसम में बदलाव का दौर है जारी (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मकर संक्रांति के बाद सूर्य के उत्तरायण होने के.
रतजगा करते हुए कर रहे वोल्टेज बढ़ने का इंतजार (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। लगातार दो तीन वर्षों से अतिवृष्टि और.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय जबलपुर द्वारा सी.एम. हेल्पलाइन में की गयी शिकायत को.
राजेंद्र नेमा ने स्वामी नारायणानंद के द्वारा शंकराचार्य लिखे जाने पर माँगे प्रमाण (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भगवत्पाद आद्यशंकराचार्य द्वारा.
आठ फीसदी ब्लो पर हुई निविदा स्वीकृत, भेजा शासन को अनुमोदन के लिये (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *