रंजीत वासनिक की सराहनीय पहल

(शरद खरे)

नगर पंचायत बरघाट के अध्यक्ष रंजीत वासनिक ने एक सराहनीय पहल का आगाज किया है। उनके द्वारा बतौर नगर पंचायत बरघाट के अध्यक्ष रहते हुए हर साल का ब्यौरा जनता के समक्ष बहुत ही शालीनता के साथ मीडिया के माध्यम से रखा जाता है। प्रत्येक साल में उनके द्वारा जिन जन हितैषी कार्यों को आरंभ कराया गया है उनका बखान उनके द्वारा किया गया है।

यह वाकई एक अच्छी पहल ही मानी जायेगी। देखा जाये तो हर चुने हुए जनप्रतिनिधि के द्वारा इस तरह से जनता के समक्ष शालीनता के साथ अपने कार्यकाल का ब्यौरा हर साल दिया जाना चाहिये। जनता का विश्वास वोटों के रूप में उन्हें मिलता है। जनादेश का सम्मान करना हर चुने हुए प्रतिनिधि का नैतिक दायित्व है।

इसके पहले नगर पंचायत अध्यक्ष रहते हुये दिनेश राय के द्वारा हर साल अपने कार्यकाल का ब्यौरा प्रस्तुत किया जाता रहा है। उनके बाद जब उनकी माता स्व.श्रीमति सुधा राय नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर पदासीन हुईं तब भी लखनादौन में यह सिलसिला रूका नहीं। यह अलहदा बात है कि दिनेश राय के द्वारा अपने तरीके से भव्य कार्यक्रम के जरिये हिसाब-किताब जनता के समक्ष रखा जाता रहा है।

दिनेश राय वर्तमान में सिवनी के विधायक हैं। इसके साथ ही साथ केवलारी के विधायक रजनीश हरवंश सिंह, लखनादौन के विधायक योगेंद्र सिंह भी पहली बार विधानसभा में पहुँचे हैं। बरघाट विधायक कमल मर्सकोले दूसरी बार चुने गये हैं। इन चुने हुए प्रतिनिधियों को भी जनता के बीच जाकर अपने-अपने कार्यकाल का ब्यौरा अवश्य प्रस्तुत करना चाहिये ताकि जनता कम से कम अपने वोट का आंकलन तो कर सके कि उसका वोट सार्थक था या निरर्थक ही गया। दिनेश राय के द्वारा तीन साल में अपना हिसाब-किताब जनता की अदालत के माध्यम से जनता के सामने रखा गया था।

जनता को यह पूछने या जानने का पूरा हक है कि जिस प्रतिनिधि के भरोसे उसने विधानसभा या लोकसभा में अपना भविष्य पाँच साल के लिये दिया है वे प्रतिनिधि उनके प्रति कितनी ईमानदारी बरत रहे हैं। इस लिहाज से सिवनी नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमति आरती शुक्ला सहित चौबीसों वार्ड के पार्षदों को भी अपने कार्यकाल की उपलब्धियों को हर साल जनता के समक्ष रखा जाना चाहिये, पता नहीं क्यों चुने हुए प्रतिनिधि पारदर्शिता से दूर भागते हैं?

बरघाट नगर पंचायत के अध्यक्ष रंजीत वासनिक के द्वारा जो पहल की जा रही है उसका स्वागत किया जाना चाहिये। उम्मीद की जानी चाहिये कि आने वाले समय में जिले के अन्य चुने हुए सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, जनपद पंचायत अध्यक्ष, पालिका अध्यक्ष, पार्षद सरपंच, पंच, जनपद तथा जिला पंचायत सदस्य आदि भी इसे नजीर मानते हुए अपने-अपने कार्यकाल में जनता के हितों के लिये किये गये कार्यों को जनता के समक्ष अवश्य रखेंगे। जनता को उनके कामों का आंकलन करने दिया जाये, जनता जो फैसला दे वह सर्वमान्य ही माना जाये।



70 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *