रबी की फसलों में पाले से फसल बचाव के उपाय

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। रबी की फसलों में पाले से पौधे की पत्ते, फूल एवं फलियां झुलस जाती हैं अतः फसलों के उत्पादन पर प्रभाव पडता है। शीत ऋतु में जब वायुमण्डल का औसत तापक्रम शून्य डिग्री से कम हो जाता है तब फसल के पौधों की कोशिकाओं में उपस्थित जल बर्फ में परिवर्तित होने से एवं कोशिकाओं में उपस्थित जीव द्रव्य नष्ट होने से कोशिकाएं मर जाती हैं। फलस्वरूप पौधे झुलस जाते हैं।

पाला मुख्यतः दिसंबर से जनवरी माह के बीच पडता है। इसी समय रबी फसलों में फूल व फलियां बनने प्रारंभ होता है, पौधों में ये अवस्थाएं ही पाले के प्रति अति संवेदनशील होती है। शीतऋतु में जब दिन में विशेष ठण्ड हो, शाम को हवा चलना रूक जाये और रात्रि के दौरान आकाश साफ हो व आद्रता प्रतिशत कम हो तो उस रात्रि को पाला या तुसार पड़ने की सबसे अधिक संभावना रहती है। पाले से संवेदनशील फसलों की पत्तियां व फल मुरझा जाते हैं तथा झुलस कर बदरंग हो जाते हैं। फलस्वरूप फसल की उपज पर प्रतिकूल प्रभाव पडता है। पाला से बचाव हेतु कृषकों को यह उपाये बताये गये हैं।

शाम के समय धुंआ : खेत के आस-पास मेड़ों पर घासफूस एवं पत्तों को जलाकर धुंआ कर देने से खेत के आस-पास का तापक्रम गिर नहीं पाता तथा धुंए की चादर वायुमण्डल में छा जाने से दबाव में कमी आ जाती है और फसलों पर पाले का प्रभाव नहीं पड़ता।

सिंचाई के द्वारा : यदि पाला पड़ने की आशंका हो तो सिंचाई की सुविधा होने पर खेत में हल्की सिंचाई करें जिससे भूमि एवं वायुमण्डल में नमी की मात्रा बढने से तापमान जमाव बिन्दु तक नहीं पहुँच पाता है एवं फसलों पर पाले का असर नहीं होता।

गंधक अम्ल (सल्फर) के छिड़काव द्वारा : यदि पाला पड़ने की अशंका हो तो फसलों पर 01 लीटर गंधक तनु अम्ल 0.1 प्रतिशत को 100 लीटर पानी में घोल बनाकर स्प्रे करें इससे पौधों की कोशिकाओं में पाला को सहन करने की क्षमता बढ़ जाने से कोशिकाओं के अंदर पानी नहीं जमता है।

छाया करके : नर्सरी में उगाये गये फल, सब्जी के छोटे पौधों को पाले से बचाव हेतु सूखी घास-फूस या गन्ने की पत्तियों आदि से ढंकें, इससे भी पाले का बचाव किया जा सकता है।

इस संबंध में अधिक जानकारी हेतु कृषकगण अपने क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी से सम्पर्क करने के साथ ही साथ कृषि विज्ञान केन्द्र सिवनी में भी सम्पर्क कर तकनीकी मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं।



22 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *