रात में रेलवे ट्रैक की सुरक्षा निजि हाथों में!

(सतीश जॉनी)

जबलपुर (साई)। रेल दुर्घटनाओं को रोकने के लिये ट्रैक की सुरक्षा निजि हाथों में सौंपी जा रही है। जबलपुर में इसकी शुरुआत हो चुकी है, जल्दी ही रेलवे के अन्य मण्डलों में भी निजि कंपनी के कर्मचारी तैनात कर दिये जायेंगे।

रात के वक्त पटरियों की सुरक्षा के लिये रेलवे होमगार्ड जवानों को प्राथमिकता देगा, लेकिन जहाँ होमगार्ड जवान उपलब्ध नहीं होगे, वहाँ निजि कंपनी के कर्मचारियों की सेवाएं ली जायेंगी। ट्रैकमेन की कमी को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने यह निर्णय लिया है। सभी रेलवे जोन और उसके अंतर्गत आने वाले रेल मण्डलों को इसके निर्देश दे दिये गये हैं। जबलपुर मण्डल में ट्रैक की सुरक्षा के लिये निजि कंपनी के 200 कर्मचारी तैनात कर दिये गये हैं।

यह है योजना

रात में रेलवे ट्रैक में सुरक्षा के लिये दो लोगों को गश्त की जिम्मेदारी दी गयी है। इनमें एक रेलवे का ट्रैकमेन होगा, दूसरा होमगार्ड का जवान या निजि कंपनी का कर्मचारी। दो-दो लोगों की टीम रेलवे ट्रैक के हर तीन किलोमीटर पर तैनात होगी। हर टीम को एक जीपीएस दिया जायेगा, एलर्ट होते ही कंट्रोल को सूचना देंगे। निजि कंपनी के कर्मचारियों को रेलवे एक दिन की ट्रेनिंग देगा। ड्यूटी के दौरान इन्हें बाकी ट्रेनिंग दी जायेगी। कर्मचारियों की दैनिक उपस्थिति के मान से निजि कंपनी को भुगतान किया जायेगा।

इसलिये लिया निर्णय

रेलवे में पटरियों की सुरक्षा के लिये गश्त लगाने का काम ट्रैकमैन (पेट्रोलमैन) करते हैं, लेकिन इनकी कमी के कारण न तो ट्रैक की सुरक्षा हो पा रही है और न ही मेंटेनेंस। रात के वक्त सुरक्षा की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। रेलवे रात में दो ट्रैकमेन को तैनात करता है, जो तीन किलोमीटर तक ट्रैक की सुरक्षा करते हैं।

इससे दिन के वक्त ट्रैक के मेंटेनेंस के लिये ट्रैकमेन की कमी पड़ जाती है। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पश्चिम मध्य रेलवे गुंजन गुप्ता का कहना है, ट्रैकमेन की कमी पूरा करने और ट्रैक की सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर करने के लिये होमगार्ड जवानों को प्राथमिकता दी जा रही है। जहाँ हमें यह नहीं मिल रहे हैं, वहाँ निजि कंपनी के कर्मियों की सेवाएं ली जायेंगी।

ऐसे होगा भुगतान

ट्रैक की सुरक्षा के लिये रेलवे कोई भर्ती नहीं करेगी लेकिन आवश्यकता के मुताबिक निजि कंपनी के कर्मचारियों की सेवाएं लेगी। इसमें खासतौर पर युवा कर्मचारी रखे जायेंगे ताकि वे लगातार ट्रैक पर मूवमेंट कर सकें।



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *