लाखों की चोरी : कोतवाली पुलिस की कार्यप्रणाली पर लगे प्रश्न चिन्ह!

(अपराध ब्यूरो)

सिवनी (साई)। साल 2017 जाते – जाते कोतवाली पुलिस के लिये सिरदर्द दे गया है। छिंदवाड़ा चौराहे पर तिलक स्कूल के पीछे अग्रवाल कॉलोनी में बसंत अग्रवाल के निवास से बीते दिवस चोरों ने लंबे माल पर हाथ साफ कर दिया। इस चोरी से कोतवाली पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लग गये हैं।

कोतवाली पुलिस सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि अग्रवाल कॉलोनी निवासी बसंत अग्रवाल का परिवार 24 दिसंबर को धार्मिक यात्रा पर गया था। चोरों ने सूने घर का फायदा उठाया और घर के पिछले हिस्से की खिड़की की ग्रिल तोड़कर वे अंदर जा घुसे। घर की आलमारी को तोड़कर चोरों ने वहाँ रखे 80 तोला सोने व दो किलो चाँदी के जेवरात के साथ ही लगभग तीन लाख रुपये की नगदी पार दी और मौके से फरार हो गये।

सूत्रों के अनुसार बसंत अग्रवाल ने बताया कि उनके घर से चार सोने की चूड़ी, छः सोने के कड़े, सात सोने की चेन, चार सोने के ब्रेसलेट, 15 सोने की अंगूठी, 05 सेट सोने के हार एवं झालर, 15 तोला सोने के जेवर, चाँदी की 20 जोड़ी पायल, नगद 02 लाख 65 हजार रूपये चोर ले उड़े हैं। यह चोरी लगभग तीस लाख रूपये से ज्यादा की बतायी जाती है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बसंत अग्रवाल का परिवार जब 29 दिसंबर को यात्रा से वापस आया तब उन्होंने घर पर सारा सामान अस्त व्यस्त देखा। ऐसी स्थिति में उनके द्वारा जब अपने अमानती सामान को देखा गया तब उनके होश उड़ गये। चोरों के द्वारा उनके घर से लगभग सारे जेवरात और नकदी को पार कर दिया गया था।

वर्ष 2017 के जाते – जाते जिस तरह से चोरों के द्वारा अपनी हरकतों को अंजाम दिया जा रहा है उससे कोतवाली पुलिस की रात्रि गश्त और सूचना संकलन पर सवालिया निशान लग रहे हैं। कुछ दिन पूर्व भैरोगंज, आजाद वार्ड सहित अनेक स्थानों पर चोरों के द्वारा हाथ साफ किये गये हैं।

उल्लेखनीय होगा कि 14 नवंबर को समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया और दैनिक हिन्द गजट के द्वारा बाहरी चोर गिरोह की नजरें सिवनी पर शीर्षक से समाचार का प्रकाशन और प्रसारण किया गया था, जिसमें इस बात की आशंका व्यक्त की गयी थी कि बाहर के चोर गिरोह के द्वारा सिवनी में अपनी कारस्तानी को अंजाम दिया जा सकता है।

इसके बाद भी पुलिस प्रशासन के द्वारा इस मामले को शायद संजीदगी के साथ नहीं लिया गया। सिवनी में अन्जाने चेहरों वाली शख्सियतें दिन भर गैस के चूल्हे, रत्न, स्टील के बर्तन, साड़ी, सूट आदि बेचते नजर आते हैं। इन लोगों के द्वारा कोतवाली में मुसाफिरी भी दर्ज नहीं करायी जाती है।

कहा जा रहा है कि इस तरह से घरों-घर जाकर सामग्री बेचने वाले एवं इसके अलावा अपने आप को मैनेजमेंट कॉलेज का विद्यार्थी बताकर घरों में जाने वाले अन्जाने युवाओं के द्वारा सूने घरों की टोह ली जा रही होगी एवं उनके द्वारा ही इस तरह की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा होगा।



33 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *