वाहन में क्षमता से अधिक बैठाये जा रहे विद्यार्थी

भेड़-बकरियों की मानिंद भरे जा रहे वाहनों में छात्र-छात्राएं

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। जिले में संचालित निजि या सरकारी शालाओं में विद्यार्थियों को लाने ले जाने वाले वाहनों की नियमित चैकिंग न किये जाने से, शालेय परिवहन में लगे वाहनों के द्वारा नियम कायदों को खुलेआम धता बतायी जा रही है। ऐसा कर, स्कूली बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किये जाने के साथ ही स्कूल शिक्षा विभाग और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों की अव्हेलना भी की जा रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले भर में लगभग आधा सैकड़ा निजि स्कूल संचालित हैं। इनमें से अधिकांश स्कूलों में बच्चों को चौपहियां वाहन से लाया और ले जाया जाता है। इन्हीं वाहनों में आवश्यकता से अधिक बच्चों को बैठाया जा रहा है। इस ओर न तो स्कूल प्रबंधन गंभीरता दिखा रहा है और न ही संबंधित विभाग इस दिशा में प्रयासरत है।

वहीं सुप्रीम कोर्ट की गाईड लाईन पर गौर करें तो स्कूल बसों में संबंधित स्कूल का नाम, नंबर लिखा हो, यदि बस किराये पर ली गयी है तो बस पर ऑन स्कूल ड्यूटी लिखा होना अनिवार्य है। स्कूल वाहनों में प्राथमिक उपचार की व्यवस्था, अग्निशामक यंत्र, स्कूल बैग रखने के लिये पर्याप्त स्थान, खिड़कियों में समतल ग्रिल लगी होना चाहिये, स्कूल का एक कर्मचारी बच्चों के साथ हो, ड्राईवर हमेशा वर्दी में हो, वाहन में स्पीड गर्वनर हो ताकि बस की गति न्यूनतम 40 किलोमीटर प्रति घण्टा हो इत्यादि का पालन होना चाहिये, लेकिन क्षेत्र के एक भी स्कूल वाहन में इन निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार क्षेत्र के ज्यादातर स्कूली वाहनों में नौ सवारी और एक चालक की पासिंग है, लेकिन वाहन चालक नियम विरुद्ध तरीके से 15 से 20 बच्चों को तक बैठा रहे हैं। वहीं वाहनों का आरटीओ में पंजीयन स्कूली वाहन के रुप में हैं और इन वाहनों को स्कूली समय के बाद व्यवसायिक उपयोग में भी लाया जा रहा है।

इन स्कूली वाहनों के मालिकों द्वारा स्कूली वाहनों में स्कूल का नाम, नंबर व रंग इत्यादि भी नहीं करवाया गया है। बावजूद इसके इन वाहनों की जाँच तक नहीं की जा रही है। सूत्रों की माने तो स्कूलों में चलने वाले कुछ वाहनों को कैरोसिन से भी चलाया जा रहा है।

हाल ही में इंदौर में डीपीएस की बस के हादसे के बाद शासन के द्वारा शालेय परिवहन में लगे वाहनों में सुरक्षा के लिहाज से एक बार फिर नये दिशा निर्देश जारी किये जा रहे हैं। माना जा रहा है कि पिछले निर्देशों की तरह इस बार जारी निर्देशों को भी मैदानी अधिकारियों के द्वारा हवा में ही उड़ा दिया जायेगा।

पालकों का कहना है कि जिला मुख्यालय में निजि शालाओं की दूरी उनके घरों से ज्यादा होने के कारण शालेय परिवहन में लगी बस, ऑटो, मैक्सी कैब आदि वाहनों में बच्चों को भेजना उनकी मजबूरी है। पालकों का आरोप है कि सरकारी वेतन पाने वाले अधिकारी शालेय परिवहन में लगे वाहनों की ओर से आँखें फेरे क्यों और कैसे बैठ सकते हैं।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि लंबे समय से जिला मुख्यालय में यातायात पुलिस और परिवहन विभाग के द्वारा शालेय परिवहन में लगे वाहनों की न तो चैकिंग की गयी है और न ही यह देखने का प्रयास किया गया है कि उनमें सीसीटीवी और स्पीड गर्वनर लगे भी हैं अथवा नहीं!



14 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *