विस्थापित आज भी हैं विस्थापित!

(शरद खरे)

लगभग 43 साल पहले नर्मदा नदी पर जबलपुर जिले के बरगी शहर के पास रानी अवंति बाई सागर परियोजना के अंतर्गत बरगी बाँध का निर्माण कराया गया था। 1974 में बनाये गये इस बाँध से आसपास के क्षेत्र के किसानों को सिंचाई के साथ ही साथ यहाँ बिजली का उत्पादन भी किया जाता है।

इस बाँध का जब निर्माण कराया जा रहा था उस समय जल भराव क्षेत्र को देखते हुए सिवनी जिले के कुछ ग्रामों को भी डूब क्षेत्र में शामिल किया गया था। इन डूब क्षेत्र के लोगों ने सत्तर के दशक तक बरगी बाँध का विरोध किया किन्तु शासन की विकासोन्नमुखी सोच के आगे इनकी एक न चली।

सिवनी जिले के घंसौर विकासखण्ड के कुछ ग्रामों को विस्थापितों की सूची में शामिल किया जाकर इन्हें हटाया गया था। पायली क्षेत्र के कुछ ग्रामों के लोगों का पहले शिकारा बंजारी मार्ग पर बसाने का असफल प्रयास किया गया किन्तु बाद में इन्हेें पायली रेस्ट हाऊस के समीप ही बसा दिया गया। 43 साल में एक पीढ़ी प्रौढ़ावस्था की ओर अग्रसर होती है और यहाँ के विस्थापितों पर इन 42 सालों में क्या बीती होगी, इसे समझा जा सकता है।

इस खबर पर आश्चर्य होता है कि इन विस्थापितों के पास न तो जमीन है और न ही रोजगार के साधन। इस बात का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है कि ये विस्थापित जीवन यापन किस तरह किया करते होंगे। इन विस्थापितों के पास रोजगार के साधन नहीं होंगे तो निश्चित तौर पर इनमें से अधिकांश पलायन को मजबूर हो ही जायेंगे।

सिवनी जिले के भौगोलिक नक्शे को अगर देखा जाये तो जिला मुख्यालय से घंसौर क्षेत्र में पहुँचना सहज नहीं है, या तो लखनादौन या केवलारी होकर इस आदिवासी बाहुल्य विकासखण्ड तक पहुँचा जा सकता है। श्रीमति उर्मिला ंिसंह जैसी कद्दावर नेता इस विधानसभा का नेत्तृत्व कर चुकीं हैं फिर भी परिसीमन में विलोपित इस विधानसभा क्षेत्र के लोग आज विकास को तरस रहे हैं। एक समय था जब सरकारी कर्मचारी ही घंसौर को सिवनी का काला पानी कहकर भी संबोधित किया करते थे।

घंसौर क्षेत्र में देश के मशहूर उद्योगपति गौतम थापर के स्वामित्व वाले अवंथा समूह के सहयोगी प्रतिष्ठान मेसर्स झाबुआ पॉवर लिमिटेड के द्वारा कोल आधारित बिजली संयंत्र की संस्थापना करायी जा रही है। इसमें भी बरगी बाँध के विस्थापितों के साथ दोयम दर्ज का व्यवहार किया जाकर उन्हें रोजगार न दिया जाना आश्चर्य का ही विषय माना जायेगा।

उम्मीद की जाना चाहिये कि पायली क्षेत्र का कुछ विकास किया जाये, अगर विकास होता है तो कम से कम इस तरह की योजनाओं को बनाया जाना चाहिये ताकि बरगी बाँध के विस्थापितों को इसमें रोजगार के अवसर अवश्य प्रशस्त हों।



29 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *