शराब माफिया के सामने बोना दिख रहा प्रशासन

पाँच कलेक्टर भी नहीं हटवा पाये शराब दुकान!

(फैयाज खान)

छपारा (साई)। पुण्य सलिला बैनगंगा के तट पर स्थित देशी शराब दुकान के स्थान परिवर्तन की माँग पिछले डेढ़ दशक से की जा रही है, किन्तु इस शराब दुकान के स्थान परिवर्तन में आबकारी विभाग को पसीना आ रहा है। यहाँ तक कि इन डेढ़ दशकों में पाँच जिला कलेक्टर बदल गये किन्तु शराब दुकान का स्थान परिवर्तन नहीं हो सका।

ज्ञातव्य है कि बैनगंगा तट पर स्थित देशी शराब दुकान के स्थान परिवर्तन की माँग 15 वर्ष पूर्व से छपारा नगर की जनता और जन प्रतिनिधि कर रहे हैं। इस दौरान सिवनी में पदस्थ जिला कलेक्टर पी.नरहरी, मनोहर दुबे, अजीत कुमार, भरत यादव और धनराजू एस. जिले की कमान सम्हाले रहे हैं।

इससे पूर्व छपारा की जनता ने पूर्व में पदस्थ जिला कलेक्टरों को कई बार देशी शराब दुकान के स्थानान्तरण संबंधी ज्ञापन देकर जनहित मे माँग की थी। जिले के पाँच कलेक्टर बदल गये लेकिन बैनगंगा तट के समीप स्थित देशी शराब दूकान नही हट पायी है।

लगभग एक वर्ष पहले छपारा के आधा सैकड़ा जन प्रतिनिधियों व गणमान्य नागरिकों ने कुछ महीनों पहले स्थानान्तरित हुए सिवनी कलेक्टर एस.धनराजू को ज्ञापन के माध्यम से भी देशी शराब दुकान का स्थान परिवर्तन करने संबंधी माँग की थी लेकिन कलेक्टर एस.धनराजू भी इस मामले मे कुछ नही कर पाये। अब सिवनी जिले के नये कलेक्टर गोपालचंद्र डाड पर छपारा नगरवासियों की उम्मीदें टिकी हुई हैं।

उल्लेखनीय होगा कि बैनगंगा तट के समीप देशी शराब दुकान का संचालन कई वर्षों से किया जा रहा है। यही नहीं शराब दुकान के सामने से लेकर बैनगंगा तट तक मछली और मटन मार्केट भी लगता है। इसके चलते माँस मटन के अवशेष बैनगंगा नदी के तट पर फेंके जा रहे हैं।

इसके अलावा शराबियों के द्वारा शराब की बोतल और डिस्पोजेबल सामग्री भी नदी के तट पर फंेकी जा रही हैं जिसके चलते बैनगंगा नदी का पानी प्रदूषित हो रहा है। इस तट पर पूरे वर्ष भर धार्मिक आयोजन होते रहते हैं और इस आयोजन में शामिल होने आये लोगांे का आना-जाना दुश्वार हो गया है।

बैनगंगा तट के इस पवित्र घाट पर शराब दुकान स्थित होने से नशा करने वालों के द्वारा स्कूली छात्राआंे – महिला वर्ग के साथ भी छींटा कशी की जाती है जिससे नगर में असामाजिक वातावरण निर्मित हो रहा है। वहीं जनपद पंचायत कार्यालय व तहसील कार्यालय बीआरसी कार्यालय व कृषि विभाग कार्यालय सर्किट हाउस स्वास्थ्य विभाग, थाना परिसर बीएसएनएल कार्यालय के समीप शराब दुकान होने से प्रबुद्ध वर्ग को भी नशा करने वालों की हरकतों का सामना करना पडता है।

शराब दुकान हटाने के नाम पर हीला हवाली

नगर वासियांे ने देशी शराब दुकान हटवाने के लिये पिछले कई वर्षों से तहसीलदार एसडीएम व जिला कलेक्टर के नाम ज्ञापन देते आ रहे है लेकिन विभागीय कार्यवाही की शिथिलता के चलते आज तक शराब दुकान को उक्त स्थल से नहीं हटाया जा सका है। ग्रामीणों में असंतोष खदबदाने लगा है।

ग्राम पंचायत के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि बैनगंगा तट के समीप देशी शराब दुकान का स्थान परिवर्तन किये जाने के लिये ग्राम पंचायत छपारा ने पिछले कई वर्ष पहले सर्व सम्मति से प्रस्ताव पारित कर कार्यवाही के लिये जिला प्रशासन के अलावा एसडीएम लखनादौन और तहसीलदार छपारा को कई बार प्रतिवेदन दे चुका है।

इसके साथ ही साथ जनपद कार्यालय की सामान्य सभा की बैठक मंे भी देशी शराब हटाने व अन्यत्र स्थापित करने का प्रस्ताव भी पारित हो गया है लेकिन अभी तक प्रशासन की लचीली कार्यप्रणाली के चलते शराब दुकान को हटाया नहीं गया है।



0 Views

Related News

  (शरद खरे) सिवनी जिले में अब तक बेलगाम अफसरशाही, बाबुओं की लालफीताशाही और चुने हुए प्रतिनिधियों की अनदेखी किस.
  मानक आधार पर नहीं बने शहर के गति अवरोधक (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिला मुख्यालय सहित जिले भर में.
  धड़ल्ले से धूम्रपान, तीन सालों में एक भी कार्यवाही नहीं (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। रूपहले पर्दे के मशहूर अदाकार.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सर्दी का मौसम आरंभ होते ही हृदय और लकवा के मरीजों की दिक्कतें बढ़ने लगती.
  दिल्ली के पहलवान कुलदीप ने जीता खिताब (फैयाज खान) छपारा (साई)। बैनगंगा के तट पर बसे छपारा नगर में.
  (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। सिर पर टोपी, गले में लाल गमछा, साईकिल पर पर्यावरण के संदेश की तख्ती और.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *