शायद ही आ पाये सीएमओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव!

संगठन नहीं है सीएमओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाने का पक्षधर!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी शासित नगर पालिका परिषद का साधारण सम्मेलन सोमवार तक के लिये इसलिये स्थगित हो गया क्योंकि इस सम्मेलन में प्रस्तावों पर चर्चा की बजाय मुख्य नगर पालिका अधिकारी की कार्यप्रणाली पर ही जमकर चर्चाएं होती रहीं। चुनी हुई परिषद की मश्कें कसने वाले मुख्य नगर पालिका अधिकारी के खिलाफ पार्षद लामबंद होते दिखे पर भाजपा के संगठन को शायद यह गंवारा नहीं हो रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार को जैसे ही साधारण सम्मेलन आरंभ हुआ वैसे ही चुने हुए पार्षदों में से कुछ पार्षदों के द्वारा पालिका के कार्यों के अवरूद्ध होने की बात उठायी गयी। इसके बाद मुख्य नगर पालिका अधिकारी नवनीत पाण्डेय पर लोगों ने जमकर निशाना साधा।

बताया जाता है कि कुछ नाराज प्रतिनिधियों का कहना था कि मुख्य नगर पालिका अधिकारी के द्वारा किसी भी नस्ती को अनुमोदन नहीं दिया जा रहा है जिससे हर वार्ड में विकास कार्य रूके हुए हैं। पार्षदों के आक्रमक रवैये को देखकर सीएमओ नवनीत पाण्डेय ने भी मौन रहना ही मुनासिब समझा।

इसके साथ ही बताया जाता है कि इस सम्मेलन का पटाक्षेप इस बात से हुआ कि 10 जनवरी को परिषद का विशेष सम्मेलन बुलाया जाये जिसमें मुख्य नगर पालिका अधिकारी नवनीत पाण्डेय और पालिका में पदस्थ सहायक यंत्री आर.पी. शुक्ला के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाया जाये। इस तरह के प्रस्ताव पर सभी 24 पार्षदों ने हस्ताक्षर कर दिये।

पालिका में इस तरह की चर्चाएं भी जमकर चल रहीं हैं कि चुने हुए जिन प्रतिनिधियों के गलत कामों पर मुख्य नगर पालिका अधिकारी नवनीत पाण्डेय ने रोक लगा दी है वे ही प्रतिनिधि अब मुख्य नगर पालिका अधिकारी के खिलाफ माहौल बना रहे हैं। चर्चाओं में यह भी कहा जा रहा था कि दो महिला पार्षद सबा इब्राहिम और उर्मिला भरद्वाज को आठ माह से मानदेय नहीं मिल पा रहा है इस बात की चिंता किसी को नहीं है पर अवैध कॉलोनियों में काम कराया जाये, इस बात की चिंता सभी कर रहे हैं।

चर्चाओं के अनुसार चुने हुए प्रतिनिधियों को इस बात की परवाह ज्यादा दिखायी दे रही है कि अवैध कॉलोनियों में निर्माण कार्य करा दिया जाये। चर्चाओं पर अगर यकीन किया जाये तो अवैध कॉलोनियों के कॉलोनाईजर्स से इस मामले में लंबी रकम का लेन-देन हो चुका है, अब जबकि अवैध कॉलोनियों में काम कराया जाना संभव नहीं दिख रहा है तब कॉलोनाईजर्स पेशगी में दी गयी रकम वापस चाह रहे हैं, जिसके चलते अब मुख्य नगर पालिका अधिकारी को निशाना बनाया जाकर उनके खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाये जाने का ताना-बाना बुना जा रहा है।

इधर, भारतीय जनता पार्टी के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को इस बात के संकेत दिये हैं कि मुख्य नगर पालिका अधिकारी की कार्यप्रणाली से संगठन संतुष्ट है। सूत्रों ने कहा कि दरअसल, नगर पालिका में भ्रष्टाचार की गंगा बहने, लोगांें के काम बिना चढ़ोत्री के न होने एवं जनता से सीधे जुड़े मामलों के लंबित रहने से सिवनी शहर में लोग अब भाजपा से विमुख होते जा रहे हैं।

सूत्रों ने बताया कि जैसे ही संगठन को इस बात की जानकारी लगी कि सीएमओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाने के लिये विशेष सम्मेलन की तिथि भी तय कर दी गयी है वैसे ही संगठन के नेताओं की भृकुटियां तन गयीं, वह इसलिये क्योंकि संगठन के द्वारा साधारण सम्मेलन में जिन विषयों को शामिल करने की बात संगठन के द्वारा कही गयी थी उन बातों को दरकिनार कर शुक्रवार के साधारण सम्मेलन की अनुमति प्राप्त कर ली गयी पर संगठन की बातों को नजर अंदाज कर उसके पहले ही विशेष सम्मेलन की तिथि भी निर्धारित कर ली गयी है।

सूत्रों ने बताया कि सीएमओ के द्वारा किये जा रहे कामों का आंकलन संगठन के द्वारा किया गया है और सीएमओ नवीनत पाण्डेय की कार्यप्रणाली (भले ही कुछ हद तक आपत्तिजनक है) फिर भी इससे पालिका में भ्रष्टाचार पर लगाम लग पायेगी। सूत्रों ने कहा कि संगठन के आला नेताओं के द्वारा काँग्रेस के साथ मिलकर सीएमओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाने के फैसले पर संगठन के नेताओं ने कुछ चुने हुए प्रतिनिधियों से अपनी नाराजगी का इजहार भी किया है।

इसके साथ ही सूत्रों ने कहा कि संगठन के नेताओं का मानना है कि शहर को साफ पानी पिलाने में नाकाम, सफाई में नाकाम, प्रकाश व्यवस्था में नाकाम रही भाजपा शासित नगर पालिका के द्वारा शहर के निवासियों की बुनियादी समस्याओं की चिंता करने की बजाय नियम कायदों से चलने वाले मुख्य नगर पालिका अधिकारी के खिलाफ काँग्रेस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर निंदा प्रस्ताव लाये जाने का ताना-बाना बुना जा रहा है जिससे प्रतीत होता है कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद को जनता की चिंता नहीं है। इन परिस्थितियों में भाजपा आने वाले दिनों मंें होने वाले चुनावों में जनता के सामने किस मुँह से जायेगी।



112 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *