शिक्षण को दरकिनार कर नेतागिरी कर रहे शिक्षक

आधी छुट्टी से स्कूल बंद कर तहसील मुख्यालय में दिखे 150 शिक्षक

(ब्यूरो कार्यालय)

घंसौर (साई)। आधा शिक्षण सत्र बीतने को है और क्षेत्र के डेढ़ सैकड़ा शिक्षक सोमवार को अपना काम छोड़ तहसील मुख्यालय घंसौर में नारेबाजी करते नजर आये। इन शिक्षकों को एक साथ आधे दिन का अवकाश किसने दिया? या अगर ये स्कूल से बिना बताए घंसौर पहुँचे थे तो इन पर क्या कार्यवाही होगी? यह बात भविष्य के गर्भ में ही है।

बताया जाता है कि शिक्षक संघ के पदाधिकारी नर्मदा परिक्रमा के दौरान घंसौर पहुँचे थे। इनके स्वागत के लिये अनेक शिक्षक लगभग दो बजे जनपद पंचायत के कार्यालय के समक्ष सभा करते दिखे। इतनी तादाद में शिक्षकों के एक साथ घंसौर पहुँचने से अब तरह – तरह की चर्चाओं का बाजार गर्मा गया है।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि आदिवासी क्षेत्रों में शिक्षा का स्तर दिनों दिन गिरता जा रहा है। इसका कारण शिक्षकों का अक्सर ही अध्यापन कार्य से अघोषित तौर पर विरत रहना ही प्रमुख रूप से उभरकर सामने आ रहा है।

मामला आपके द्वारा सामने लाया गया है, जाँच करवाकर कारवाही की जायेगी.

ताराचंद्र शिवहरे,

बीआरसी घंसौर.

जनपद पंचायत के पास कुछ शिक्षकों के नर्मदा परिक्रमा करने आये पदअधिकारियों के साथ सभा करने की जानकारी आपके द्वारा मिली है. इनमंे से कई शिक्षक प्रशिक्षण में आये थे पर अगर कोई प्रशिक्षण के अलावा भी वहाँ उपस्थित थे तो उन पर जाँच कर कार्यवाही की जायेगी.

ऊषा किरण गुप्ता,

बीडीओ,

जनपद पंचायत घंसौर.



65 Views.

Related News

(शरद खरे) समाज शास्त्र में औद्योगीकरण और नगरीकरण को एक दूसरे का पर्याय माना गया है। औद्योगीकरण जहाँ होगा वहाँ.
मौसम में बदलाव का दौर है जारी (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मकर संक्रांति के बाद सूर्य के उत्तरायण होने के.
रतजगा करते हुए कर रहे वोल्टेज बढ़ने का इंतजार (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। लगातार दो तीन वर्षों से अतिवृष्टि और.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय जबलपुर द्वारा सी.एम. हेल्पलाइन में की गयी शिकायत को.
राजेंद्र नेमा ने स्वामी नारायणानंद के द्वारा शंकराचार्य लिखे जाने पर माँगे प्रमाण (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भगवत्पाद आद्यशंकराचार्य द्वारा.
आठ फीसदी ब्लो पर हुई निविदा स्वीकृत, भेजा शासन को अनुमोदन के लिये (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *