शुक्रवारी में लगा रहता है जाम

मुझे शिकायत है उन लोगों से जो शुक्रवारी आते हैं अपने काम के वास्ते। ये लोग अपने व्यापारिक लेन-देन या बैंक संबंधी कार्य निपटाने के लिये अपने वाहन किसी भी स्थान पर आड़े तिरछे खड़े कर देते हैं और घंटों तक गायब रहते हैं। उनके इस तरह से बेतरतीब वाहन खड़े किये जाने के कारण शुक्रवारी में जब-तब जाम की स्थिति निर्मित होती रहती है।

ऐसे लोग किसी भी मकान या दुकान के सामने अपने वाहन लापरवाही के साथ खड़े करके गायब हो जाते हैं। ये लापरवाह लोग इस बात की जरा भी परवाह नहीं करते हैं कि उनके इस तरह के कृत्य के कारण आवागमन में कितनी परेशानियों का सामना, लोगों को करना पड़ता है।

शुक्रवारी में ही एसडीओ (पुलिस) का कार्यालय भी स्थित है उसके बावजूद इस क्षेत्र से गुजरते समय लोगों को बेहद विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। यहां यह भी गौर करने वाली बात है कि शुक्रवारी में पार्किंग स्थल न होने के कारण जहां तहां वाहन खड़े हो रहे हैं। कीर्ति स्तंभ के सामने तो लगभग चौबीसों घंटे ही वाहन पार्क किये जाते हैं, जिससे यह इलाका बेहद ही संकीर्ण क्षेत्र में तब्दील होकर रह गया है।

इस विषम स्थिति से निपटने के लिये जब पुलिस से आग्रह किया जाता है तब एक सिपाही को भेज तो दिया जाता है लेकिन वह भी 5-7 मिनिट के लिये अपनी औपचारिकता निभाकर, यहां से बिदा ले लेता है। अनाप शनाप तरीके से वाहन पार्क करने वालों के खिलाफ पुलिस के द्वारा कोई प्रभावी कार्यवाही नहीं की जाती है। किसी समय यातायात पुलिस के द्वारा एक सिपाही की तैनाती यहां की जाती थी जो यातायात को प्रभावी ढंग से नियंत्रित किया करता था लेकिन वर्षों से वह व्यवस्था भी शायद ठण्डे बस्ते के हवाले ही कर दी गयी है।

कमलेश जैन बागड़

शुक्रवारी सिवनी


अगर आपको भी व्यवहारिक जीवन में किसी से कोई शिकायत है और आप उसे सार्वजनिक करना चाह रहे हैं ताकि लोग उस शिकायत को पढ़कर अपनी गलति का अहसास करते हुए उसे न दोहराएं तो
आप व्हाट्स ऐप नंबर 9425175750, 9584647438 या 9300287551 अथवा मेल आईडी samacharagency@gmail.com ,hindgazette@gmail.com पर मेल कर अपनी शिकायत भेज सकते हैं.

1 Views

Related News

(शरद खरे) प्रदेश सरकार की नीतियां किस तरह से दम तोड़ रहीं हैं इसका जीता जागता उदाहरण प्रदेश भर में.
जाँच प्रतिवेदन में की सीईओ ने अनुशंसा, कहा : 17 लाख की हेराफेरी है वसूली के योग्य! (फैयाज खान) छपारा.
न तो कॉलोनाईजर, न ही पालिका को है सुध लेने की फुर्सत (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। शहर में एक भी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा बिना किसी कार्ययोजना, यातायात विभाग और परिवहन विभाग के.
किया जगह-जगह तूफानी निरीक्षण, दिये मातहतों को निर्देश (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। पदभार ग्रहण करने के साथ ही अपने.
कराया सिवनी की समस्याओं से निजाम को अवगत (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। मध्य प्रदेश विकास यात्रा के तहत चौरई पहुँचे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *