शोध में निष्कर्ष बोतलबंद पानी में जहर

देश में बोतलबंद पानी पर बांग्लादेश एग्रीकल्चर रिसर्च कौंसिल (बार्क) के शोध निष्कर्ष भयावह हैं। ढाका के 24 स्थानों से लिए गए बोतलबंद पानी पर हुए शोध के अनुसार, बाजार में मौजूद 98 प्रतिशत बोतलबंद पानी में ईकोलाई के कीटाणु मौजूद हैं, जो पहले पेट और आगे चलकर आंत की खतरनाक बीमारी का कारण बनते हैं।

डायरिया तो आम बात है। विशेषज्ञ मानते हैं कि पानी में ईकोलाई बैक्टीरिया का होना कई तरह के अन्य बैक्टीरिया के होने की स्वत : पुष्टि कर देता है। आबादी बढ़ने के साथ बढ़ी पानी की मांग ने बोतलबंद पानी का उद्योग जमा दिया और तमाम कंपनियां बिना वैधता के चल पड़ीं। 150 ब्रांड के नमूनों में तमाम बांग्लादेश स्टैंडर्ड ऐंड टेस्टिंग इंस्टीट्यूशन (बीएसटीआई) से मान्यता प्राप्त भी हैं, लेकिन वे पीने योग्य नहीं पाए गए हैं।

बोतलबंद पानी की व्यवस्था इतनी अच्छी है कि मानकों का पालन करने के बाद ऐसी कोई गुंजाइश नहीं, लेकिन सच है कि शहर और आसपास बिना मानक पूरा किए तमाम कंपनियां धड़ल्ले से पानी बेच रही हैं। यह सब नीति-नियंताओं की नाक के नीचे चल रहा है और आम अवाम व विदेशी अतिथियों-पर्यटकों की जान जोखिम में डाली जा रही है। कंपनियों का तर्क है कि सारे मानक पूरा करने के बाद पानी खासा महंगा हो जाएगा, लेकिन लोगों की जान जोखिम में डालने वालों का यह तर्क सिर्फ हास्यास्पद कहा जा सकता है। ऐसे में, शोध के इस खतरनाक निष्कर्ष के बाद बीएसटीआई के लिए तत्काल कुछ कदम उठाना जरूरी हो गया है।

सच यह है कि व्यापार के नाम पर तेजी से पनपती बेईमानी व गुणवत्ता से जुड़ी संस्थाओं के पूरे अमले की निष्क्रियता के कारण ही ये कंपनियां निरंकुश होकर लोगों के जीवन से खिलवाड़ कर पा रही हैं। लोग शुद्ध पानी के नाम पर पैसा खर्च करके जानलेवा बीमारी खरीद रहे हैं। ऐसी कंपनियों पर तत्काल आपराधिक मामले चलाकर इसके जिम्मेदारों को दंडित करने की जरूरत है। बार्क के निदेशक का यह कहना कि लोग पीने के पानी के नाम पर पैसा देकर जहर खरीद रहे हैं, स्थिति की गंभीरता के बयान के साथ पूरे सिस्टम के लिए चेतावनी भी है। (द डेली स्टार, बांग्लादेश से साभार)

(साई फीचर्स)



1 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *