समय की पाबंदी अनिवार्य

अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन ने एक बार कुछ मेहमानों को दोपहर के भोजन के लिए आमंत्रित किया। भोजन के बाद उन्हें सैनिक कमांडरों की एक आवश्यक बैठक में भाग लेना था। उनका नौकर जानता था कि जॉर्ज साहब समय की नियमितता को कितनी दृढ़ता से निबाहते हैं।

इसलिए ठीक समय पर उन्हें सूचना दी गई कि भोजन लग चुका है, पर अभी तक मेहमान नहीं आए हैं। वह भोजन कक्ष आए और उन्होंने कहा, बाकी प्लेटें उठा लो, हम अकेले ही भोजन करेंगे। उन्होंने मेहमानों के आने की प्रतीक्षा किए बगैर भोजन करना शुरू कर दिया। जब वे आधा भोजन कर चुके तब मेहमान पहुंचे। मेहमानों की प्लेट लगाई गई।

पर वाशिंगटन ने अपना भोजन समाप्त किया और निश्चित समय पर विदा लेकर उस बैठक में शामिल होने चले गए। सैनिक कमांडरों की बैठक में पहुंचने पर पता चला कि अमेरिका के एक भाग में भयंकर विद्रोह हो गया है। उनके समय पर पहुंच जाने के कारण तत्काल आवश्यक आदेश जारी किए गए और सभी पहलुओं पर विचार करते हुए हालात संभालने के उपाय किए गए। इस तरह एक बहुत बड़ी जन-धन की हानि होने से बचना संभव हो सका।

इस बात का पता कुछ समय बाद उन मेहमानों को चला तो उन्हें आत्मग्लानि हुई। उन्होंने अनुभव किया कि प्रत्येक काम को निश्चित समय पर करने से भयंकर हानियों को रोका जा सकता है और जीवन को सुचारु ढ़ंग से जिया जा सकता है।

यही सोच लेकर वे फिर से राष्ट्रपति के घर गए और उनसे उस दिन हुई भूल के लिए क्षमा मांगी। राष्ट्रपति ने कहा, इसमें क्षमा जैसी कोई बात नहीं है, पर जिन्हें अपने जीवन की व्यवस्था, परिवार, समाज और देश की उन्नति का ध्यान हो, उन्हें समय का कड़ाई से पालन करना चाहिए।

(साई फीचर्स)



0 Views

Related News

एक राजा के पड़ोसी राजा ने उसके राज्य के कुछ हिस्से पर कब्जा कर लिया। राज्य के इस हिस्से को.
जीवन में इच्छा, आशा और तृष्णा जरूरी है। ये बेड़ियां बड़ी आश्चर्यजनक हैं, लेकिन इससे जिसे बांध दो, वह दौड़ने.
100 साल से भी पुरानी बात है। जगह पश्चिम बंगाल के हुगली में राधानगर। उन दिनों आज की तरह सब.
वनवास के दौरान श्रीराम कुटिया में बैठे थे कि उनका शबरी से मिलने का मन हुआ। मन की बात मानते.
विनोबा भावे के बचपन की घटना है। उनका मित्र भी उनके घर में साथ रहा करता था। कभी-कभी घर में.
म्यांमार के राजा थिबा महान ज्ञानयोगी थे। जितना गहरा उनका ज्ञान था, उतने ही वे सरल और निरहंकारी थे। उनके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *