सीएमओ शासकीय सेवक हैं या तानाशाह : पिंकी त्रिवेदी

 

तुगलकी फरमान की बजाय, गंदा पानी, आवारा पशु, अतिक्रमण की ओर दें ध्यान

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। नवागत मुख्य नगर पालिका अधिकारी नवनीत पाण्डेय की कार्यप्रणाली समझ से परे ही नजर आ रही है। कार्यालय में रोज ही तरह – तरह के फरमान जारी हो रहे हैं। इन फरमानों से यही लगने लगा है कि चुने हुए जनप्रतिनिधि अब सरकारी सेवकों के आदेशों पर कठपुतली बनकर नाचें।

उक्ताशय की बात नगर पालिका के पार्षद अवधेश पिंकी त्रिवेदी के द्वारा समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कही गयी। उन्होंने कहा कि उन अधिकारियों जिनके पास बहुत ज्यादा व्यस्तताएं होती हैं उनसे मिलने के लिये पर्ची देकर मिलने की प्रणाली लागू होती है। नगर पालिका में इस तरह की प्रणाली संभवतः पहली ही बार देखने को मिल रही है।

पिंकी त्रिवेदी ने कहा कि नगर पालिका में अगर कोई फरियादी अपना काम कराने आता है और उसकी नस्ती खोजने या नस्ती को पढ़कर उसका निराकरण करने में लिपिक को समय लग जाता है तो क्या इस मामले मंे धारा 186 के तहत कार्यवाही की जायेगी! उन्होंने कहा कि इस तरह से नगर पालिका परिषद में चुने हुए जन प्रतिनिधियों को कमजोर करने की कथित साजिश की जा रही है।

पिंकी त्रिवेदी ने आगे कहा कि अति सम्माननीय जन प्रतिनिधियों से मिलने का समय शाम 04 से 05 तक निर्धारित किया गया है। यह सर्वथा अनुचित है। अगर कोई वार्ड पार्षद अपने वार्ड की समस्या लेकर आयेगा तो क्या उसे चार बजे से पाँच बजे तक लाईन लगाकर मिलने पर मजबूर होना पड़ेगा!

अवधेश पिंकी त्रिवेदी ने कहा कि मुख्य नगर पालिका अधिकारी के द्वारा नगर पालिका में तानाशाही पूर्ण रवैया अपनाया जा रहा है, जिसकी उन्होंने निंदा करते हुए कहा कि नगर पालिका में सालों से जमे मुकेश चौहान का प्रभार बदलवाने में सीएमओ भी पूरी तरह असफल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि शहर यहाँ के वाशिंदों का है, अधिकारी यहाँ मनमानी नहीं कर सकते हैं। शहर के विकास के लिये क्या और किस तरह किया जायेगा? इस बात को शहर के लोग और चुने हुए प्रतिनिधि ही तय करेंगे, न कि साल दो साल या तीन साल के लिये पदस्थ रहने वाले अधिकारी!

अवधेश पिंकी त्रिवेदी ने कहा कि बाहुबली चौराहे पर यातायात सिग्नल के आसपास कचरे के डिब्बे दुकानों के सामने रख दिये गये हैं। यह इस चौराहे की खूबसूरती को खराब कर रहा है। शहर ठण्ड के आगोश में है पर अलाव की व्यवस्था कहीं भी नहीं की गयी है। उन्होंने कहा कि सीएमओ को चाहिये कि इस तरह सख्त प्रशासक बनने की बजाय, उनके द्वारा शहर की समस्याओं की ओर ध्यान दिया जाना चाहिये।

उन्होंने कहा कि लोगों का कहना है कि सीएमओ के द्वारा व्यवस्थाएं सुधारने की बजाय अव्यवस्थाएं ज्यादा फैलायी जा रही हैं। लोगों का कहना है कि शहर में एक सिरे से अतिक्रमण हटाये जाने की कार्यवाही की जानी चाहिये किन्तु वर्तमान में मुँहदेखी प्रक्रिया अपनायी जाकर जहाँ मन आता है वहाँ अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही वह भी जब मन चाहा तब आरंभ कर दी जाती है, जिससे जनता में रोष और असंतोष पनप रहा है।

अवधेश पिंकी त्रिवेदी ने कहा कि नवागत सीएमओ नवनीत तिवारी सरकारी नौकर हैं और शासकीय सेवक होने के क्या मायने होते हैं इस बात को वे पहले भली भांति समझ लें। इस तरह लोगों और चुने हुए प्रतिनिधियों से मिलने का समय तय किया जाना किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि उन्हें तो लोगों से यह भी सुनने को मिल रहा है कि सीएमओ शासकीय नौकर हैं या तानाशाह!

पिंकी त्रिवेदी ने कहा कि सोशल मीडिया व्हाट्सएप्प पर फोटो डालकर नगर पालिका का उपहास ही उड़ाया जा रहा है। नगर पालिका के द्वारा सुझाव माँगे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि नवीन जलावर्धन योजना के संबंध में माँगे गये सुझावों पर क्या कार्यवाही हुई यह बात कोई भी नहीं जानता।

उन्होंने कहा कि हो सकता है कि नवागत सीएमओ के द्वारा यह कहकर अपना पल्ला झाड़ने का प्रयास किया जाये कि सुझाव उनके कार्यकाल में नहीं माँगे गये थे। उन्होंने स्पष्ट किया कि सरकारी तंत्र में अधिकारी का पदनाम महत्वपूर्ण होता है न कि अधिकारी का नाम। इस लिहाज से सीएमओ को चाहिये कि इसके पहले क्या क्या निर्णय हुए, उनमें से कितने निर्णयों का पालन हुआ इस बात की जानकारी लें और पहले के निर्णयों को अमली जामा पहनाने की दिशा में सीएमओ के द्वारा कार्यवाही की जाये।



119 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *